Header 300×250 Mobile

समस्तीपुर के पटसा में होगा श्री सीताराम विवाह एवं श्री भक्तमाल कथा महोत्सव

- Sponsored -

698

- Sponsored -

- sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। समस्तीपुर जिले के पटसा गांव में तीन से 12 अप्रैल तक श्री सीताराम विवाह एवं श्री भक्तमाल कथा महोत्सव का आयोजन होने जा रहा है। पटसा के नीम चौक स्थित श्री हनुमान मंदिर प्रांगण में आयोजित होने वाले दस दिन के इस धार्मिक कार्यक्रम में श्री अयोध्या धाम के कथा व्यास श्री बल्लभ दास महाराज अपनी कथाओं से श्रद्धालुओं को तृप्त करेंगे।

कार्यक्रम के आयोजनकर्ता मोद नारायण चौधरी हैं। मंडली के शिशिर मिश्रा ने बताया कि 10 अपैल को मुख्य कार्यक्रम श्री सियाराम विवाह महा महोत्सव का आयोजन होगा। प्रसिद्ध भजन गायिका पूज्या तुलसी दीदी, ममता सखी और पूज्या युगल प्रिया विवाह पद का गायन करेंगीं।

दस दिन के कार्यक्रम की जानकारी देते हुए श्री मिश्र ने बताया कि तीन से 11 अप्रैल तक रोज श्री रामचरित मानस का नवाह परायण किया जायेगा। चार अप्रैल को कलश यात्रा निकाली जायेगी। चार अप्रैल को ही प्रात: छह बजे से नौ बजे तक व्यास अशोक रामायणी रामायण के पदों का गायन करेंगे। गुरुदेव भगवान की जन्म बधाई का आयोजन शाम पांच से आठ बजे तक किया जायेगा। इसके अलावा चार से 12 अप्रैल तक हर दिन दो कार्यकमों का आयोजन होगा। श्री भक्तमाल कथा 10 बजे से एक बजे तक और श्री राम कथा शाम चार से पांच बजे तक आयोजित किया जायेगा।

विज्ञापन

पांच अप्रैल को शाम पांच से आठ बजे तक श्री वृंदावन धाम के कथा व्यास श्री लक्ष्मण दास जी महाराज श्री राम जानकी जी जन्म बधाई का आयोजन करेंगे। छह अप्रैल को शाम पांच बजे से आठ बजे तक नगर दर्शन का कार्यक्रम होगा। सात अप्रैल को शाम पांच से आठ बजे तक फुलवारी, आठ अप्रैल को शाम पांच से आठ बजे तक धनुष भंग और जयमाल जबकि नौ अप्रैल को शाम पांच से आठ बजे तक मटकोर का आयोजन होगा।

श्री राम जानकी विवाह का मुख्य कार्यक्रम 10 अप्रैल को होगा। इस दिन प्रात: नौ बजे बारात आगमन होगा जबकि शाम चार बजे से विवाह महोत्सव शुरू होगा। 11 अप्रैल को कुंवर कलेजा का कार्यक्रम होगा। 12 अप्रैल को प्रात: नौ बजे झूला एवं होली के साथ विवाह महोत्सव का समापन होगा। ग्रामवासी विवाह महोत्सव को आकर्षक बनाने के हर संभव प्रयास में अभी से जुटे हुए हैं।

सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए आने वाले कलाकारों और कथा वाचकों के ठहरने तथा उनके विश्राम की व्यवस्था की जा रही है। आयोजकों का कहना है इस कार्यक्रम में आसपास के हजारों श्रद्धालु रोज जुटेंगे। श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो इसकी व्यापक तैयारी की जा रही है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT