Header 300×250 Mobile

बिक्रम के BRP की छुट्‌टी

अनियमितता के आरोपों पर जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ने प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी से एक सप्ताह में मांगी जांच रिपोर्ट

- Sponsored -

173

- sponsored -

- Sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। पटना जिले के बिक्रम के BRP (ब्लॉक रिसोर्स पर्सन) सतीश कुमार कश्यप को अनियमितता के गंभीर आरोपों के बाद हटा दिया गया है। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (प्रारंभिक शिक्षा एवं सर्व शिक्षा अभियान) मनोज कुमार ने कश्यप को तत्काल अपने मूल विद्यायन में योगदान करने का निर्देश दिया है। साथ ही बिक्रम के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को कश्यप पर लगे आरोपों की बिंदुवार जांच कर प्रतिवेदन उपलब्ध कराने को कहा है।

BRP सतीश कुमार कश्यप पर बिहार अराजपत्रित प्राथमिक शिक्षक संघ के महासचिव डॉ. भोला पासवान, बिक्रम नगर पंचायत अध्यक्ष गीता देवी, बिक्रम की प्रमुख राज कुमारी देवी और ग्राम पंचायत बराह की मुखिया गीता देवी ने अनियमितता, गबन और दबंगई के गंभीर आरोप लगाये हैं।

विज्ञापन

आरोपों की लंबी फेहरिश्त इस प्रकार है :

  1. बिक्रम प्रखंड में निष्ठा प्रशिक्षण में बीआरपी सतीश कुमार ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर प्रशिक्षु शिक्षकों के भोजन के लिए कैटरिंग का काम अपनी पत्नी के नाम पर लिया और सरकारी राशि का गबन किया गया।
  2. बीआरपी के पद पर विभागीय नियमानुसार कार्यरत नहीं हैं, इसकी जांच की जाय।
  3. नव-उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय को प्राप्त राशि को प्रधानाध्यापक पर दबाव बनाकर ये अपनी पत्नी के नाम से निबंधित ट्रस्ट के खाते में ट्रांसफर कराते हैं और उस राशि का दुरुपयोग करते हैं।
  4. नव-उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षण कार्य के लिए प्राथमिक और मध्य विद्यालयों से बेसिक ग्रेड के शिक्षक (1-5 ) जिनके पास न तो B.Ed. की डिग्री है और न ही वे STET उत्तीर्ण हैं, कि प्रतिनियुक्ति नियम विरुद्ध करायी गयी है। इसके कारण नव-उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षण कार्य पर प्रतिकुल प्रभाव पड़ा है।
  5. बिक्रम प्रखंड में लम्बे समय से प्रतिनियुक्त होने के कारण श्री कुमार लगातार शिक्षकों का भयादोहन कर रहे हैं।
  6. ये मनमाने एवं अवैध तरीक से संकुल संसाधन केन्द्र समन्वयक को हटाकर पैसे लेकर दूसरे की प्रतिनियुक्ति कर देते हैं। वर्तमान में महजपुरा संकुल के समन्वयक इसका उदाहरण हैं।
  7. 2003 में नौकरी छोड़कर पुनः अवैध तरीके से 2008 में ज्वाइन किया है।
  8. अपने प्रभाव से शिक्षकों को विद्यालय से बाहर रखकर अनुपस्थिति विवरणी भेजते हैं और उसके एवज में वसूली करते हैं।
  9. ये स्थानीय और दबंग हैं तथा प्रखंड स्तरीय अधिकारी को अपने प्रभाव में रखते हैं।

जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (प्रारंभिक शिक्षा एवं सर्व शिक्षा अभियान) ने प्रखंड शिक्षा पदाणकिारी को इन सभी बिंदुओं की जांच कर एक सप्ताह में रिपोर्ट देने को कहा है। खास बात है जो आरोप लगाये हैं उनमें 9वां बिंदु है कि BRP सतीश कुमार कश्यप प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी को अपने प्रभाव में रखते हैं। ऐसे में प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी कहां तक आरोपों की जांच कर पायेंगे इसको लेकर बिक्रम के शिक्षकों में संशय बना हुआ है। बिक्रम के शिक्षकों का कहना है कि सतीश कश्यप अपने दबंगई का इस्तेमाल कर जांच को प्रभावित कर लेंगे और उनके खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हो पायेगी।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT