Header 300×250 Mobile

पर्यटन के नक्शे पर उभरेगा राजा विराट का दरबार, यहां पांडवों ने बिताये थे अज्ञातवास

जोगबनी के भेरयारी सीमा में अवस्थित है राजा विराट का दरबार

- Sponsored -

1,017

- sponsored -

- Sponsored -

  • विराट दरबार को पर्यटकीय स्थल बनाने की तैयारी में विराटनगर महानगरपालिका
  • मान्यता है कि यहां भूमिगत है उस समय के 30-40 कमरों वाला महल और मंदिर

जोगबनी (voice4bihar desk)। महाभारत महाकाव्य में वर्णित राजा विराट के दरबार को पर्यटन के नक्शे पर चमकाने के लिए विराटनगर महानगरपालिका ने कोशिशें तेज कर दी है। इसके निर्माण के लिए चल रहे अभियान को अंतिम स्वरूप देने के लिए प्रयास प्रारंभ कर दिया है । इसके लिए महानगर के मेयर भीम पराजुली ने पुरातत्व विभाग सहित अन्य संबंधित ब्यक्तियों के साथ रविवार को इसके लिए विशेषज्ञों से सुझाव लिये।

इस परियोजना के लिए विभिन्न धार्मिक व बौद्धिक हस्तियों के साथ पुरातत्व विदों ने विराट दरबार के विकास के लिए बनाए गए मास्टर प्लान पर चर्चा की। लेखक और पुरातत्व संरक्षण प्रचारक लोकेंद्र कुमार मल्ल, पंडित भवानी शंकर निरौला, लक्ष्मीनारायण मंदिर पंचालि के अध्यक्ष अच्युत प्रपन्नाचार्य, धार्मिक अध्यक्ष रामानुज नेपाल, वास्तुकार व शहरी नियोजक पुरुषोत्तम डंगोल, शहरी नियोजक अनम प्रधान, सीपीएन (माओवादी युवा नेता) कार्यवाहक अध्यक्ष, लेखक और आलोचक दधिराज सूबेदार, उद्योगपति और व्यापारी सुजान थपा और अन्य ने अपने सुझाव दिए।

विराट राजा के महल को संरक्षण के साथ विकसित किया जाएगा

कार्यक्रम में बोलते हुए महानगर के मेयर भीम पराजुली ने बताया कि मुख्य योजना विराट राजा के महल को संरक्षण के साथ विकसित करना है। मेयर पराजुली ने उल्लेख किया कि पुरातत्व महत्व की वस्तुओं को आधुनिकता से जोड़कर क्षेत्र को विकसित करने की योजना है। यह कहते हुए कि अभियान उनके कार्यकाल के दौरान शुरू किया जाएगा।

विज्ञापन

पराजुली ने कहा कि महानगर के इतिहास को प्रदर्शित करने के लिए महानगर का उद्देश्य आधुनिक सुविधाओं से युक्त संग्रहालय, आधुनिक सुविधाओं से युक्त पार्क, फूड स्टॉल और डिजिटल हॉल बनाना है। इस अवसर पर विराटनगर महानगर के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी इंद्रा मणि पोखरेल, बिराट राजा के पैलेस निर्माण समिति के समन्वयक सुरेंद्र गोलछा, देवेंद्र पोखरेल, धर्म प्रचारक अनंत परजुली सहित अन्य उपस्थित थे।

यहां पांडवों ने बिताये थे अज्ञातवास के एक वर्ष

माना जाता है कि प्राचीन महल के खंडहर और इसकी ऐतिहासिकता महाभारत काल से चली आ रही है। धार्मिक ग्रंथ भी इस क्षेत्र का वर्णन करते हैं। पांडवों ने वनवास काल के बाद वे एक वर्ष तक छिपने के लिए विराट राजा के महल को चुना था। ऐसा माना जाता है कि उस समय 30-40 कमरों वाला महल और मंदिर भूमिगत हैं। इसकी पूरी तरह से खुदाई नहीं की गई है।

पुरातत्व विभाग ने मुख्य पराजुली की पहल पर सूची को पंजीकृत किया है। पुरातत्व विभाग को इसके निर्माण की पूरी अनुमति देनी होगी। उसके लिए अंतिम प्रयास किया जा रहा है। महान राजा के महल की रक्षा, वृद्धि और आधुनिकीकरण करने और विशेषज्ञ सुझावों के आधार पर काम शुरू करने के लिए एक व्यापक मास्टर प्लान बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored