Header 300×250 Mobile

रोहतास में मिनी गन फैक्ट्री का भंडाफोड़, असलहों का जखीरा बरामद

पुलिस की बड़ी कार्रवाई में तीन अपराधी भी हुए गिरफ्तार

- Sponsored -

353

- Sponsored -

- sponsored -

पुलिस कप्तान को मिली सूचना के आधार पर दरिगांव में हुई कार्रवाई

अभिषेक कुमार सुमन के साथ बजरंगी कुमार की रिपोर्ट

सासाराम (Voice4bihar news)। रोहतास पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन कर तीन अपराधियों की गिरफ्तारी की है। अवैध हथियार बनाने का यह कारोबार दरिगांव ओपी क्षेत्र के कुसढ़ा गांव में चल रहा था। पुलिस को यहां से कई अर्द्धनिर्मित हथियार के अलावा हथियार बनाने के उपकरण बरामद हुए हैं।

रोहतास के पुलिस कप्तान आशीष भारती ने बताया कि दरिगांव पुलिस आउटपोस्ट अंतर्गत कुसढ़ी गांव में गांव में मिनी अवैध गन फैक्ट्री चलाने की सूचना मिलते ही पुलिस कप्तान ने मामले को गंभीरता से लेते हुए एक विशेष टीम का गठन कर 3 को त्वरित कार्रवाई के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। पुलिस की विशेष टीम ने दरगाह थाना क्षेत्र के कुड़ी गांव में संदिग्ध व्यक्ति के घर की घेराबंदी कर अवैध मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन करते हुए छापेमारी की।

गिरोह में बिहार के अलावा झारखंड के अपराधी भी शामिल

विज्ञापन

यहां सघन छापेमारी के क्रम में अवैध हथियार बनाते हुए तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार लोगों में बिहार सहित दूसरे राज्यों के भी अपराधी शामिल हैं, जिसमें झारखंड के लातेहार जिले के लातेहार थाना क्षेत्र के वरुई निवासी छोटू यादव के पुत्र विनय यादव एवं रोहतास जिला के दरिगांव थाना क्षेत्र के कुसुढ़ी निवासी ददन सिंह यादव का पुत्र श्रीराम यादव कुसुढ़ी निवासी भुवनेश्वर सिंह बताये जा रहे हैं। तीनों अपराधी मिलकर मिनी गन फैक्ट्री चला रहे थे।

पुलिस की छापेमारी के दौरान मौका ए वारदात पर गन का निर्माण करते हुए पकड़ा गया, जिसमें गन बनाने की कई मशीनें एवं औजार बरामद किया गया है। इसके अलावा बहुत सारे अर्धनिर्मित हथियार, जिंदा कारतूस, अवैध हथियार निर्माण में उपयोग किये जा रहे भारी मात्रा में उपकरण भी बरामद किये गए हैं। इसके साथ ही अपराध कर्मियों के पास से 5 मोबाइल एवं दो मोटरसाइकिल भी बरामद की गयी है।

अपराधियों ने बताया, कैसे बेचते थे अवैध हथियार!

गिरफ्तार अपराधियों ने इस कांड में अपनी संलिप्तता स्वीकार करते हुए बताया गया है कि निर्माण हथियारों को गुप्त रूप से अपराधियों को बेचा जा सकता था। यह लोग अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर इस अवैध कारोबार को कई सालों से करते आ रहे थे। पुलिस कप्तान ने बताया कि इस मामले में संलिप्त अन्य अधिकारियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है।

गन फैक्ट्री का उद्भेदन करने वाली टीम होगी पुरस्कृत

पुलिस ने दावा किया है कि जो अपराधी पुलिस गिरफ्त से दूर हैं, उन्हें जल्द शिकंजे में लेते हुए आपराधिक इतिहास भी खंगाला जाएगा। इस मामले में दरिगांव थाना में प्राथमिकी दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है। पुलिस कप्तान ने बताया कि इस छापेमारी अभियान में जितने पुलिस पदाधिकारी एवं कर्मी शामिल थे, उन सभी को पुरस्कृत किया जाएगा और रोहतास पुलिस का यह अभियान आगे भी जारी रहेगा।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored