Header 300×250 Mobile

बिक्रमगंज गोलीकांड में शामिल थे कैमूर के गैंगस्टर, रोहतास पुलिस ने फिर दो को दबोचा

अस्कामिनी मंदिर बिक्रमगंज के पास दो युवकों पर अपराधियों ने बरसायी थी गोलियां

- Sponsored -

372

- Sponsored -

- sponsored -

पहले से चल रही रंजिश को लेकर हुई वारदात, गोालीकांड में अबतक तीन गिरफ्तार

जिले के बहुचर्चित हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा, तीनों अपराधी भेजे गए जेल

अभिषेक कुमार सुमन के साथ बजरंगी कुमार की रिपोर्ट

सासाराम (voice4bihar news)। बिक्रमगंज के अस्कामिनी मंदिर के पास विगत गुरुवार की मध्य रात्रि में दो युवकों पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाने के मामले में कैमूर जिले के गैंगस्टर्स की भूमिका सामने आई है। इस मामले के आरोपी डालमियानगर प्रयाग बिगहा निवासी प्रिंस कुमार की गिरफ्तारी के बाद रोहतास पुलिस को कैमूर कनेक्शन का पता चला है। इस आधार पर रोहतास पुलिस ने जांच को आगे बढ़ाया है।

रोहतास पुलिस कप्तान आशीष भारती के निर्देश पर गठित एसआईटी ने कैमूर से बिक्रमगंज गोली कांड में शामिल दो अन्य अपराधियों को धर दबोचा है। पुलिस ने पहले डालमियानगर के प्रयाग बिगहा निवासी प्रिंस को अपाची बाइक सहित दो कट्टा और मोबाइल के साथ दबोचा। फिर प्रिंस के कंफेशनल को आधार मानते हुए कैमूर जिले से दो अपराधियों को दबोचने में कामयाब रही है।

कैमूर जिले के दुर्गावती व मोहनिया से दबोचे गए हैं अपराधी

विज्ञापन

दबोचे गए अपराधियों में दुर्गावती थाना क्षेत्र के डिलियाडीह निवासी अनंत प्रसाद का पुत्र रोहित कुमार और मोहनियां थाना क्षेत्र के कनपुरा निवासी रामानंद राम का पुत्र नीतेश कुमार शामिल हैं। इन अपराधियों की गिरफ्तारी की पुष्टि स्वयं रोहतास पुलिस कप्तान आशीष भारती ने की है। साथ ही दबोचे गये अपराधियों के पास से दो देशी तमंचे की बरामदगी की जानकारी भी दी है।

पुरानी रंजिश में हुआ बिक्रमगंज गोलीकांड

एसपी आशीष भारती के मुताबिक गोली कांड के आरोपी प्रिंस कुमार के साथ-साथ गोली कांड में जख्मी हिमांशु कुमार के बीच विवाद चल रहा था, जिसके कारण घटना हुई है। जख्मी हिमांशु कुमार को भी पुलिस कप्तान आशीष भारती ने आपराधिक चरित्र का बताया है। पुलिस कप्तान श्री भारती के मुताबिक हिमांशु कुमार पहले जेल भी जा चुका है। गोली कांड में राहुल कुमार उर्फ बंटी की मौत हो गयी थी। राहुल कुमार हिमांशु का दोस्त था, और मित्र को बचाने के चक्कर में जान गंवा बैठा।

चार लाख रुपये में दी थी हत्या की सुपारी

पुलिस सूत्रों के अनुसार हिमांशु कुमार की हत्या कराने के लिए प्रिंस कुमार ने चार लाख की सुपारी दी थी। इसके लिए नीतेश कुमार व रोहित कुमार नामक शार्प शूटरों को हॉयर किया था। इस बीच सभी एक-दूसरे के संपर्क में थे और मौके की ताक में लगे थे। कई मौकों पर एक दूसरे से डेहरी व बिक्रमगंज में मिलना-जुलना भी रहा। इस दौरान टारगेट की रेकी की गयी। बताया जाता है कि हिमांशु पर हमले के वक्त राहुल ने बीच-बचाव की कोशिश की और हिमांशु पर चली गोली राहुल का लग गयी। वारदात के बाद दोनों शार्प शूटर मौके से भाग निकले थे।

संबंधित खबर : बिक्रमगंज गोली कांड मामले का अभियुक्त चढ़ा पुलिस के हत्थे

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored