Header 300×250 Mobile

कोरोना के दोनों वैक्सीन नहीं लगवाया तो अब नेपाल में नो इंट्री

आज से नेपाल प्रवेश करते वक्त दोनों टीकाकरण प्रमाण पत्र दिखाना होगा अनिवार्य

- Sponsored -

254

- sponsored -

- Sponsored -

अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्वास्थ्य परीक्षण के बाद ही नेपाल में प्रवेश की होगी अनुमति

जोगबनी (Voice4bihar news)। भारत में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए पड़ोसी देश नेपाल ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर आवाजाही के नियम सख्त कर दिये हैं। बिहार के सीमावर्ती जिला अररिया स्थित जोगबनी के मुख्य नाका से होकर आने-जाने वालों पर नेपाल प्रशासन ने शर्तें लाद दी है। यहां अब कोरोना के दोनों वैक्सीन लेने वालों को ही सीमा पार जाने की अनुमति दी जा रही है। इसकी पुष्टि के लिए वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखना अनिवार्य कर दिया गया है।

कोविड टीकाकरण का प्रमाण पत्र व स्वास्थ्य परीक्षण के बाद ही प्रवेश की अनुमति

नेपाल सरकार के कोविड क्राइसिस मैनजेमेंट की ओर से लिये गए निर्णय के आलोक में ऐसी व्यवस्था की गयी है। जोगबनी स्थित भारत-नेपाल सीमा पर तैनात नेपाली सुरक्षा कर्मियों ने बताया कि टीकाकरण के सर्टिफिकेट को देखने के बाद वहां स्थापित हेल्थ डेस्क में स्वास्थ्य परीक्षण करवाने के बाद ही नेपाल में प्रवेश करने की अनुमति दी जा रही है।

विज्ञापन

नेपाल-भारत सीमा पर जांच करते सुरक्षाकर्मी।

नेपाल प्रदेश एक के मुख्यमंत्री ने जोगबनी नाका का निरीक्षण किया

बता दें कि नेपाल के प्रदेश संख्या एक के मुख्यमंत्री राजेन्द्र कुमार राई ने गुरुवार को जोगबनी के रानी स्थित मुख्य नाका का स्थलगत निरीक्षण किया था। इस दौरान स्वास्थ्य कर्मियों से भारत से नेपाल प्रवेश करने वाले नागरिकों में संक्रमण दर की जानकारी ली थी। सीएम राजेंद्र कुमार राई ने सुरक्षा कर्मियों को बिना किसी जरूरी कार्य के सीमा आर-पार करने वालों पर सख्ती बरतने का भी निर्देश दिया था।

क्या कहते हैं मोरंग के जिलाधिकारी

मोरंग जिला अधिकारी काशीराज दहाल ने पूछे जाने पर कहा कि सीएमसी के निर्णय के अनुसार ही यह कदम उठाया गया है। शनिवार से दोनों देशों के नागरिकों को अनिवार्य रूप से दोनों डोज के कोविड टीकाकरण का प्रमाण पत्र दिखाने के बाद स्वास्थ्य परीक्षण पश्चात ही आवाजाही की अनुमति होगी।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored