Header 300×250 Mobile

रोहतास में ऑनर किलिंग, दलित से किया प्रेम तो मिली मौत की सजा

परिजनों ने ही दी प्यार की सजा, युवती को उतारा मौत के घाट

- Sponsored -

752

- sponsored -

- Sponsored -

वारदात को आत्महत्या की शक्ल देने की भरपूर कोशिश की 

अभिषेक कुमार के साथ बजरंगी कुमार सुमन की रिपोर्ट
सासाराम (Voice4bihar)।  रोहतास में एक युवती को दलित युवक से प्रेम करने की सजा मिली। सजा ए मौत देने वाला न कोई पंचायत, न सरपंच और न कोई अदालत। परिजनों ने ही गुनाह तय किया और सजा मुकर्रर करते हुए तामील भी कर दिया। ऑनर किलिंग के बाद परिजनों ने हत्या को आत्महत्या का रूप देने भी भरपूर प्रयास किया लेकिन पुलिस की नजरों से गुनाह छुपा नहीं सके।स्थानीय चौकीदार अर्जुन राम के फर्द बयान के आधार पर हत्या की प्राथमिकी दर्ज की गई, जिसके आधार पर मामले का अनुसंधान और गिरफ्तारी जारी है।

काराकाट थाना क्षेत्र के कौपा गांव का है मामला

दलित युवक से प्रेम करने की कीमत जान गंवाकर चुकाने वाली युवती स्थानीय थाना क्षेत्र के कौपा गांव निवासी मुस्तफा की पांचवी बेटी अफसाना खातून थी, जो पड़ोस के हीं दलित युवक से प्रेम कर बैठी। दोनों एक दूजे के प्यार में ऐसे पागल हुए कि घर छोडने तक का निर्णय ले लिया। काराकाट थाना में 16अप्रैल 2019 को दर्ज कांड संख्या 92/19 के अनुसार अफसाना 05 अप्रैल 2019 को घर से भाग गयी।

प्रेमी के साथ घर से भागी थी युवती, घर लौटी तो जिंदगी से हाथ धो बैठी

दस दिनों बाद 15 अप्रैल 2019 को पुलिस के हत्थे लगी फरार अफसाना का माननीय न्यायालय में 164 का बयान दर्ज कराने के बाद उसे पुलिस ने घर पहुंचाते हुए परिजनों के सुपुर्द कर दिया। लेकिन 15 अप्रैल की रात अफसाना के लिए जिंदगी की आखिरी रात साबित हुयी। अफसाना की मौत के बाद सुसाइड का केस दर्ज हुआ। क्योंकि मृतका के पिता मुस्तफा ने चौकीदार को बताया था कि अफसाना ने फांसी लगाकर खुद मौत को गले लगा लिया।

बिखरे बाल और चोट के निशान बने हत्या के साक्ष्य

विज्ञापन

दर्ज प्राथमिकी में चौकीदार के फर्द बयान के मुताबिक मुस्तफा के घर बेटी अफसाना का शव कमरे में पड़ा था। कमरे में शव की स्थिति उतर दक्षिण की थी, जिसमें दोनों पांव दक्षिण की तरफ थे।  कमरे में बिखरे पड़े मृतका के सिर के टूटे कटे बाल सहित गर्दन पर दिख रहे काले निशान के अलावे होंठों पर जमे खून अफसाना के साथ हुए जुल्म बयां कर रहे थे।

युवती के मां-बाप व मामा ही निकले हत्या के सूत्रधार

अगल बगल के लोगों से हुई पूछताछ में भी अफसाना द्वारा बचाव की गुहार में चिल्लाने की बात भी उजागर हुयी। अफसाना के शव पर मिले चोट के निशान और कमरे में बिखरे बाल सहित अगल बगल से मिली जानकारी के आधार पर पूरा मामला ही पलट गया। पुलिस ने  चौकीदार को सूचक बनाते हुए मृतका के पिता मुस्तफा माता शेरून खातून सहित मृतका के मामा को हत्याकांड का सूत्राधार मानते हुए प्राथमिकी दर्ज कर अनुसंधान शुरू कर दिया।

सवा दो साल बाद पिता को पुलिस ने दबोचा, ऑनर किलिंग की बात स्वीकार की

अफसाना की मौत के बाद परिजनों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापामारी करती रही लेकिन लंबे समय तक पुलिस को सफलता नहीं मिली। सवा दो साल बाद पुलिस को सूचना मिली कि अपनी हीं बेटी के हत्यारे मुस्तफा की गतिविधियां गांव में बढ़ी है। इस सूचना के आलोक में पुलिस ने जाल बिछाया और घर से हीं पुलिस ने मुस्तफा को धर दबोचा।

थानाध्यक्ष अनिल प्रसाद के सामने मुस्तफा ने ऑनर किलिंग की बात स्वीकार की

थानाध्यक्ष अनिल प्रसाद के मुताबिक गिरफ्तारी के बाद मृतका के पिता मोहम्मद मुस्तफा ने ऑनर किलिंग की बात स्वीकार की है। साथ परिवार के अन्य लोगों की संलिप्ता की बात भी सामने आयी है। पुलिस अफसाना हत्याकांड के अन्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए दबिश डाल रही है। लगातार छापेमारी जारी है।

यह भी पढ़ें : गांव वालों ने प्रेमिका के दरवाजे पर ही कर दिया युवक का दाह संस्कार

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored