Header 300×250 Mobile

गुरु ही ईश्वर के प्रकाश पुंज हैं : जीयर स्वामी

संत जीयर स्वामी ने गुरु पूर्णिमा पर भक्तों को दिए संदेश

- Sponsored -

473

- Sponsored -

- sponsored -

उत्तर प्रदेश के चंदौली अंतर्गत बूढ़ेपुर गांव में हो रहा चातुर्मास यज्ञ

Voice4bihar news. गुरु पूर्णिमा के विशेष अवसर पर जीयर स्वामी जी महाराज ने लोगों को संदेश देते हुए कहा कि गुरु ही ईश्वर के प्रकाश पुंज हैं। गुरु अपने शिष्यों को अंधेरे से बाहर निकालने का कार्य करते हैं तथा ईश्वर से साक्षात्कार कराने का माध्यम बनते हैं। गुरु के बिना परम पिता परमेश्वर से मिलन संभव नहीं है। गुरु के दर्शन करने से पुण्य की प्राप्ति होती है।

जीयर स्वामी ने उपरोक्त बातें उत्तर प्रदेश के चंदौली जिला अंतर्गत बूढ़े पुर गांव में आयोजित चतुर्मास यज्ञ में प्रवचन के दौरान कही। उन्होंने कहा कि एक इंसान के लिए जो चीज सात जन्मों में संभव नहीं है, वह संत तथा सच्चे गुरु के दर्शन से पल भर में प्राप्त हो सकता है। जिन पर गुरु की कृपा होती है, उन पर ईश्वर की कृपा स्वत: बन जाती है।

गुरु के आदेश का पालन करना शिष्य का कर्तव्य

विज्ञापन

उन्होंने कहा कि शिष्य को भी चाहिए कि वह गुरु के आदेशों का पालन करें। मर्यादा के जीवन यापन करे। गुरु के बताए हुए मार्ग पर पर चले एवं मर्यादा का परित्याग नहीं करें। कितनी भी विषम परिस्थिति आ जाए मनुष्य को अपनी मर्यादा का परित्याग नहीं करना चाहिए। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम पर अनेकों परेशानियाँ आई, लेकिन उन्होंने अपनी मर्यादा का परित्याग नहीं किया।

अपने कर्म के प्रति रहें सचेत, कर्म का फल मिलना निश्चित

स्वामी जी महाराज ने कहा कि मनुष्य को कर्म के प्रति सतर्क रहना चाहिए क्योंकि कर्म का फल मिलना निश्चित ही निश्चित है। अतः मनुष्य को कर्म करने के प्रति सतर्क रहना चाहिए। किसी को किसी प्रकार का कष्ट नहीं देना चाहिए भले अपने ऊपर कष्ट आ जाए उसे सह लेना चाहिए। लेकिन दूसरे को कष्ट नहीं देना चाहिए।

गुरु पूर्णिमा पर चंदौली में जुटेंगे यूपी, बिहार व झारखंड के सैकड़ों श्रद्धालु

मीडिया प्रभारी अखिलेश बाबा ने बताया कि कल गुरु पूर्णिमा को श्री जीयर स्वामी जी महाराज के दर्शन करने को लेकर बिहार झारखंड उत्तर प्रदेश आदि जगहों से काफी संख्या में लोग चंदौली में जुट रहे हैं। यज्ञ समिति की तरफ से भव्य तरीके से प्रसाद की व्यवस्था की गई है तथा दूर-दूर से आने वाले व्यक्तियों के लिए रहने खाने की उत्तम व्यवस्था की गई है।

 

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored