Header 300×250 Mobile

समस्तीपुर में रेलवे पुल पर आया बाढ़ का पानी , अगले आदेश तक ट्रेनों का परिचालन बंद

रेलखंड से गुजरने वाली ट्रेनों का परिचालन प्रभावित , रूट बदलकर चलीं कई गाड़ियां

- Sponsored -

325

- sponsored -

- Sponsored -

राजेंद्रनगर से आई एक्सप्रेस ट्रेन नहीं जा सकी जयनगर , समस्तीपुर से ही वापस भेजी गयी

समस्तीपुर (voice4bihar news) । उत्तर बिहार के समस्तीपुर रेलमंडल अंतर्गत समस्तीपुर – मुक्तापुर स्टेशनों के बीच स्थित पुराने रेलवे पुल पर शुक्रवार देर रात बाढ़ का पानी आ जाने के कारण उसे अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिया गया है । हालांकि इस संबंध में राहत वाली खबर यह है कि कुछ वर्ष पहले हो तैयार पुल संख्या 02 सुरक्षित है एवं इस पुल पर गाड़ियों का परिचालन बहाल है।

कुछ वर्ष पहले तैयार पुल रेलवे पुल अभी सुरक्षित
समस्तीपुर रेलमंडल प्रशासन ने बताया कि पुल संख्या 01 पर केवल डाउन साइड की गाड़ियों का परिचालन होता है , जिस कारण रेल परिचालन को सुचारु रूप से चलाने में कई प्रकार की तकनीकी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इसका असर यह हुआ कि शनिवार को इस रेलखंड पर कई ट्रेनों का परिचालन रद्द करना पड़ा जबकि कई ट्रेनों के मार्ग परिवर्तन एवं आंशिक समापन करना पड़ा।

कई ट्रेनों को किया गया रद्द

रेल प्रशासन ने बताया कि 05554 जयनगर – भागलपुर एक्स्प्रेस को रद्द कर दिया गया , जबकि गाड़ी संख्या 01062 जयनगर – लोकमान्य तिलक टर्मिनल विशेष गाड़ी का मार्ग परिवर्तन करते हुए उसे दरभंगा – सीतामढ़ी के रास्ते मुजफ्फरपुर होकर पास कराया गया। उसी तरह 03186 जयनगर सियालदह विशेष गाड़ी भी दरभंगा- सीतामढ़ी – मुजफ्फरपुर – समस्तीपुर के रास्ते सियालदह के लिए रवाना हुई।

गाड़ी संख्या 05211 दरभंगा- अमृतसर विशेष गाड़ी दरभंगा – सीतामढ़ी सिकटा – नरकटियागंज होकर अपने गंतव्य के लिए रवाना हुई , जबकि गाड़ी संख्या 03044 रक्सौल- हावड़ा विशेष गाड़ी भी सीतामढ़ी – मुजफ्फरपुर समस्तीपुर होकर भेजी गयी । ट्रेन संख्या 03226 राजेन्द्रनगर – जयनगर विशेष गाड़ी का आंशिक समापन समस्तीपुर स्टेशन पर किया गया , जबकि गाड़ी संख्या 03225 जयनगर – राजेन्द्र नगर विशेष गाड़ी जयनगर नहीं जा सकी। इसे समस्तीपुर से ही अपने गंतव्य के लिए प्रस्थान किया गया।

विज्ञापन

बागमती, करेह व बूढ़ी गंडक का जलस्तर हुआ लाल निशान के पार

नेपाल से पानी छोड़े जाने व क्षेत्र में हो रही बारिश के कारण समस्तीपुर जिले में बागमती, करेह व बूढ़ी गंडक नदियां खतरे के निशान से ऊपर बहने लगी हैं। इससे समस्तीपुर में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। जल संसाधन विभाग के मुताबिक बूढ़ी गंडक समस्तीपुर रेल पुल तथा रोसड़ा रेल पुल के पास लाल निशान को पार कर गई है।

समस्तीपुर में बाढ़ के पानी में डूबे घर।

बाढ़ के खतरे को देखते हुए नगर निगम ने सभी स्लुईस गेट को बंद कर दिया है लेकिन कई जगह सलुईस गेट से रिसाव के कारण बाढ़ का पानी घरो में घुस है। बूढ़ी गंडक के जलस्तर में अचानक हुई बढ़ोतरी से नदी किनारे बसे पांच सौ से अधिक परिवार प्रभावित हुए हैं। इन परिवारों ने अपने सामान के साथ बांध पर अपना बसेरा बना लिया है।

दरभंगा – समस्तीपुर रेलखंड पर कभी भी ठप हो सकता परिचालन

इधर बूढ़ी गंडक में जलस्तर में लगातार हो रहे वृद्धि की वजह से दरभंगा – समस्तीपुर रेल खंड पर कभी भी ट्रेनों का परिचालन ठप हो सकता है। रेल सूत्रों की मानें तो समस्तीपुर – दरभंगा रेलखंड पर स्थित पुराने पुल पर पानी का दवाब बढ़ने के कारण एहतियातन गाड़ियों का परिचालन रोक दिया गया है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored