Header 300×250 Mobile

कोरोना मरीज को गौ दान कराने के लिए गाय का बछड़ा लेकर पहुंचे अस्पताल

वार्ड में भर्ती मरीज के पास ले जाकर कराया स्पर्श, फिर पंडित को किया दान

- Sponsored -

333

- Sponsored -

- sponsored -

अंधविश्वास में जकड़े परिजन गौ दान पर अड़े रहे

सुरक्षा गार्ड के रोकने पर भी नहीं माने लोग

आरा (voice4bihar news)। आरा सदर अस्पताल का विवादों से पीछा छूटता नजर नहीं आ रहा है। जहां एक ओर कोरोना वार्ड का जायजा लेने पहुंचे माले विधायक मनोज मंजिल ने कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन कर दिया वहीं एक मरीज के परिजनों ने धार्मिक अंधविश्वास के कारण अस्पताल की मर्यादा को तार-तार कर दिया। मरीज को गौ दान कराने के लिए कोरोना वार्ड में पड़े मरीज के पास गाय का बछड़ा ले जाने की अजीबोगरीब हरकत ने सबको हैरत में डाल दिया। घटना बुधवार की बताई जाती है।

विज्ञापन

हैरत इस बात की है कि महामारी के इस दौर में लोग विज्ञान को नहीं बल्कि मरीज के पास ले अंधविश्वास को ही ज्यादा तरजीह दे रहे हैं। आरा स्थित सदर अस्पताल के ओपीडी भवन में बनाये गए कोविड वार्ड में जहां दर्जनों मरीज कोरोना से जंग जीतने की जद्दोजहद कर रहे हैं, वहां गाय की बाछी ले जाकर गोदान जैसा धार्मिक कर्मकांड कराने की घटना ने स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खोल दी है।

बताया जाता है कि कोविड वार्ड में भर्ती एक मरीज की तबीयत बुधवार को बिगड़ने लगी। परिजनों को यह लगा कि उनका मरीज अब नहीं बचेगा। तब आनन – फानन में परिजनों ने पहले पंडित को बुलाया। उसके बाद गाय के बछड़े ( बाछी ) को कहीं से खरीदकर मंगाया। बाछी को मरीज के हाथ से स्पर्श कराकर पंडित को दान कर दिया।

हालांकि इस दौरान वहां ड्यूटी पर मौजूद सुरक्षा गार्ड ने उन्हें ऐसा करने से मना किया लेकिन अंध आस्था में डूबे लोग कहां मानने वाले थे। परिजनों ने सुरक्षा गार्ड से कहा कि बस दो मिनट को कर्मकांड है, अभी लौट आएंगे। यह बात कह कर परिजन वार्ड में प्रवेश कर गए और मरीज को गाय का बछड़ा छुआ दिया। फिर बाहर आकर पंडित को दान में दे दिया।

इस बात का खुलासा सदर अस्पताल के प्रभारी अधीक्षक डॉ प्रवीण कुमार सिन्हा ने मीडिया के समक्ष अपने बयान में किया। उन्होंने कहा कि मरीजों के परिजनों को ऐसी हरकत यहां नहीं करनी चाहिए। कोरोना संक्रमित मरीज के परिजनों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना है। चेहरे पर मास्क लगाना है। उन्होंने कहा कि सदर अस्पताल में अभी स्थिति पहले से बहुत ज्यादा अच्छा है। लोग पैनिक नहीं हों। जीवन रक्षक दवाएं एवं ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT