Header 300×250 Mobile

गांव की युवती से प्यार करना कंप्यूटर शिक्षक को पड़ा महंगा

युवती ने प्रेमी समेत उसके पांच दोस्तों पर किया केस, तिलकोत्सव के बाद टूटी शादी

- Sponsored -

1,016

- sponsored -

- Sponsored -

संगीन धाराओं में दर्ज केस में आया नया एंगल, आरोपी युवक ने लिखा एसपी को खत

अभिषेक कुमार सुमन के साथ बजरंगी कुमार की रिपोर्ट

सासाराम (Voice4bihar news)। रोहतास जिला मुख्यालय सासाराम स्थित मुफस्सिल थाना क्षेत्र में एक कंप्यूटर शिक्षक को गांव की एक युवती के साथ प्रेम करना इस कदर महंगा पड़ा है कि युवक के परिजनों द्वारा तय की गई शादी टूट गयी। इसके साथ ही प्रेमिका ने आत्महत्या कर प्रेमी के पूरे परिवार को मुकदमे में फंसाने की धमकी दे डाली। प्रेमिका के साथ फरार होने के कारण प्रेमी सहित उसके पांच दोस्तों पर प्रेमिका ने गंभीर आरोप लगाये हैं। इस बीच मामले में तब एक नया मोड़ आ गया जब प्रेमी युवक ने पुलिस कप्तान को पत्र लिखकर हकीकत बयान किया। एसपी आशीष भारती को लिखे पत्र में कंप्यूटर शिक्षक ने कथित प्रेमिका की ओर से लगाए गए सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है।

मुफस्सिल थाना क्षेत्र के वजीरगंज गांव का है मामला

यह पूरा मामला मुफस्सिल थाना क्षेत्र के वजीरगंज गांव का है, जहां 23 वर्षीय एक युवती ने गांव के ही युवक विवेक कुमार के विरुद्ध मुफस्सिल थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। इसमें आरोप है कि विवेक उसे स्कॉर्पियो में जबरन बैठा कर गांव से बाहर ले गया था। युवती के अनुसार घटना को उस समय अंजाम दिया, जब 07 फरवरी की सुबह शौच को निकली थी। विवेक कुमार के अलावे विवेक के पांच दोस्तों के विरुद्ध भी इस अपहरण में संलिप्तता का आरोप युवती ने लगाया है।

अपहरण के बाद विवेक कुमार द्वारा अनेक बार जबरिया शारीरिक संबंध बनाये जाने का संज्ञेय आरोप भी युवती ने लगाया है। साथ ही अन्य पांच युवकों पर वाहन से नीचे उतर कर निगरानी करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने युवती के बयान को आधार मानते हुए प्रथम दृष्टया आईपीसी की धारा 365, 376, 120 बी के तहत दिनांक 9 फरवरी 2022 को मुफस्सिल थाना में एफआईआर दर्ज कर ली।

मुख्य आरोपी ने एसपी को लिखे पत्र में मामले को बताया प्रेम प्रसंग

दूसरी ओर आईपीसी की धारा 365, 376, 120 बी के तहत मुफस्सिल थाना कांड संख्या 60/22 के मुख्य आरोपी विवेक कुमार ने रोहतास पुलिस कप्तान को पत्र लिखने का दावा किया है। एसपी को लिखे पत्र में विवेक कुमार ने पूरे मामले को प्रेम प्रसंग बताते हुए पूरी कहानी बयां की है। एसपी को लिखे पत्र में विवेक ने स्वयं को कंप्यूटर शिक्षक और कांड की सूचक 23 वर्षीया युवती को छात्रा बताया है। कंप्यूटर सीखने-सिखाने के क्रम में दोनों के बीच इश्क होने और युवती द्वारा शादी का दबाव बनाने का दावा विवेक ने किया है।

शादी के इनकार की वजह का जिक्र करते हुए विवेक का कहना है कि एक ही गांव का होने के कारण परिवार की बदनामी हो रही थी। इस शादी को असंभव बताते हुए युवती को समझाने का दावा किया, लेकिन युवती समझने को तैयार नहीं थी। नतीजा यह मामला पुलिस तक आ पहुंचा।

04 फरवरी को तिलकोत्सव के बाद मामले में आया मोड़

कंप्यूटर शिक्षक विवेक कुमार और गांव की ही छात्रा के बीच चल रही प्रेम कहानी में उस समय नया मोड़ आ गया, जब विवेक का 04 फरवरी को तिलकोत्सव कार्यक्रम संपन्न हुआ। इसका दावा स्वयं विवेक ने एसपी को लिखे पत्र में किया है। रोहतास पुलिस कप्तान को लिखे पत्र में किये गये दावे के मुताबिक कंप्यूटर शिक्षक विवेक कुमार की शादी नटवार के एक गांव में तय थी, जहां से निर्धारित तिथि 4 फरवरी को लड़की पक्ष वालों ने मुफस्सिल थाना क्षेत्र के वजीरगंज पहुंचकर तिलकोत्सव की रस्म अदायगी की थी। रस्म के मुताबिक 09 फरवरी को बारात लाने का निमंत्रण देते हुए लौट गये। बारात के पहले ही छात्रा के दबाव में विवेक उसे लेकर घर से भाग गया। बात चहुंओर फैली तो बारात साजने की तैयारी धरी की धरी रह गयी।

विज्ञापन

तिलक चढ़ने बाद ही सब कुछ खत्म, नहीं लगी दूल्हे को हल्दी

शादी ब्याह तय होने के बाद मंगेतर के नाम की मेहंदी और हल्दी के बड़े मायने हैं और इसके साथ ही शादी वाले आंगन में मंगल गीत गूंजने लगते हैं। कंप्यूटर शिक्षक विवेक कुमार के घर में गाये जा रहे लगन के गीत की गूंज जब छात्रा के कानों तक पहुंची तो शायद उसे वह बर्दाश्त न कर सकी। तभी तो उसने कंप्यूटर शिक्षक के मोबाइल नम्बर 7903157636 पर फोन किया और घर से भागने का दबाव बनाने लगी। इसका खुलासा भी विवेक कुमार ने पुलिस कप्तान को लिखे पत्र में किया है।

जानकारी देते मुफस्सिल थानाध्यक्ष देवराज राय।

मौसी के मोबाइल से छात्रा ने किया था फोन

कंप्यूटर शिक्षक विवेक कुमार के बदन में शाम को मंगेतर के नाम की हल्दी लगने ही वाली थी कि अचानक एक ड्रामा खड़ा हो गया। हल्दी की रस्म के कुछ घंटे पहले ही छात्रा ने अपनी मौसी के मोबाइल संख्या 9006105110 से विवेक कुमार के मोबाइल नम्बर 7903157636 पर फोन किया। उसने रोते हुए प्यार का वास्ता दिया और घर छोड़ कर भागने का दबाव बनाने लगी। एसपी को लिखे पत्र के मुताबिक विवेक कुमार ने जब घर से भागने की संभावना से इंकार किया तो छात्रा किसी भी हद तक जाने की जिद पर अड़ गयी। छात्रा ने घर से न भागने की स्थति में आत्महत्या कर कंप्यूटर शिक्षक विवेक कुमार के पूरे परिवार को मुकदमे में फंसाने की धमकी दे डाली।

दुविधा में दोनों गये, माया मिली न राम

एक पुरानी कहावत है- ‘दुविधा में दोनों गये, माया मिली न राम’ बस यही कहावत वजीरगंज के कंप्यूटर शिक्षक विवेक कुमार के जीवन में साबित हुई। एक छात्रा की धमकी के बाद दुविधा में पड़ कर अपने और परिवार को बचाने के लिए उसने छात्रा के साथ घर से भागना ही मुनासिब समझा। इस कदम से परिवार के सदस्यों तक भले ही कानूनी कार्रवाई की आंच नहीं पहुंची, लेकिन परिवार पर बदनामी का काला धब्बा लगने से नहीं रोक पाया।

इसके अलावे परिवार के सुख-दुःख में सहभागी रहे उसके मित्रों पर भी सिर्फ़ इसलिए दाग लगा कि वे सभी फरार प्रेमी युगल को तलाशने के लिए निकले थे, और सफल भी हुए। उनका मकसद दोनों परिवारों की इज्जत दागदार होने से बचाना था। प्रेमी युगल को ढूंढ़ निकालने बाद छात्रा को सकुशल उसके परिजनों के हवाले भी किया। बावजूद इसके बदनामी ने पीछा नहीं छोड़ा। आखिरकार मंगेतर के घरवालों ने रिश्ता तोड़ दिया और पांच दोस्तों सहित विवेक कुमार के विरुद्ध आईपीसी की संगीन धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज हो गया।

थानाध्यक्ष ने कहा- मामले की हो रही है तकनीकी जांच

पूरे मामले पर चर्चा करते हुए मुफस्सिल थानाध्यक्ष देवराज राय ने बताया कि मामले की तकनीकी जांच वरीय पुलिस अधिकारियों के निर्देशन में की जा रही है। केस के अनुसंधान का जिम्मा भी महिला पुलिस पदाधिकारी को दिया गया है। पुलिसिया अनुसंधान में उजागर तथ्यों से वरीय अधिकारियों को अवगत कराते हुए अग्रेतर कानूनी कार्रवाई का आश्वासन थानाध्यक्ष देवराज राय ने किया है। थानाध्यक्ष की मानें तो प्रथम दृष्टया जांच में प्रेम प्रसंग का मामला सामने आ रहा है। बहरहाल देखना होगा कि आरोपी के आवेदन में उल्लेखित मोबाइल नम्बरों की सीडीआर और होटलों के सीसी कैमरा, बुकिंग रजिस्टर सहित अन्य तकनीकी जांच के बाद पुलिस किस नतीजे पर पहुंचती है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT