Header 300×250 Mobile

भारतीय सेना के मानार्थ सेनापति की पदवी लेंगे नेपाल के आर्मी चीफ प्रभुराम शर्मा

थल सेनाध्यक्ष के औपचारिक आमंत्रण पर दिल्ली रवाना हुए नेपाली सेना के प्रधान सेनापति

- Sponsored -

355

- Sponsored -

- sponsored -

दोनों देशों के बीच वर्षों से चली आ रही परंपरा के तहत भारत के राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

वर्ष 1950 में पहली बार भारतीय सेना के प्रथम कमांडर इन चीफ केएम करिप्पा की मिली थी पदवी

नेपाल से राजेश कुमार शर्मा की रिपोर्ट

Voice4bihar news. नेपाली सेना के प्रधान सेनापति प्रभुराम शर्मा ने मंगलवार को भारतीय थल सेनाध्यक्ष के औपचारिक आमंत्रण पर काठमांडू से नई दिल्ली के लिए प्रस्थान किया। नेपाली सेना के प्रधान सेनापति के तौर पर नियुक्ति के बाद प्रभुराम शर्मा का पहला विदेश भ्रमण भारत में हुआ है। दोनों देशों के बीच वर्षों पुरानी चली आ रही परंपरा के अनुसार श्री शर्मा को भारत में मानार्थ सेनापति की पदवी से नवाजा जाएगा।

मिली जानकारी के अनुसार , नेपाल के प्रधान सेनापति प्रभुराम शर्मा मंगलवार को 9 सदस्यीय सैनिक टीम का नेतृत्व करते हुए नेपाली सेना के जहाज से नई दिल्ली रवाना हुए। नई दिल्ली प्रस्थान से पूर्व काठमांडू के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पर इन्हें बलाधिकृत रथी बालकृष्ण कार्की ने विदाई दी।

दूसरी ओर भारत प्रस्थान से पूर्व प्रधान सेनापति को सोमवार को सेना मुख्यालय सम्मानित किया गया था। इस औपचारिक विदाई कार्यक्रम में नेपाल के लिए भारत के राजदूत विनय मोहन क्वात्रा व अन्य मित्र राष्ट्रों के सैनिक सहचरी की सहभागिता थी।

काठमांडू से नई दिल्ली रवाना होने के लिए सेना के विमान में सवार होते नेपाली सेना के प्रधान सेनापति प्रभुराम शर्मा।
काठमांडू से नई दिल्ली रवाना होने के लिए सेना के विमान में सवार होते नेपाली सेना के प्रधान सेनापति प्रभुराम शर्मा।

भारतीय सेना के सेनाध्यक्ष का मानार्थ पद ग्रहण करेंगे प्रभुराम शर्मा

विज्ञापन

नेपाली सेना के प्रधान सेनाध्यक्ष प्रभुराम शर्मा को नई दिल्ली में भारतीय थल सेनाध्यक्ष की मानार्थ पदवी दी जाएगी। परंपरा के अनुसार नेपाल व भारत के सेना के प्रमुख को सम्मान स्वरुप एक दूसरे देश के सेना प्रमुख का ‘ मानार्थ महारथी ‘ का सम्मान देने का प्रचलन है। यह परंपरा दोनों देशों के बीच वर्षों से चली आ रही है।

भारत के राष्ट्रपति कार्यालय में दिया जाएगा सम्मान

बुधवार को नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति कार्यालय में एक विशेष समारोह में प्रभुराम शर्मा शिरकत करेंगे , जहां भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के हाथों से भारतीय थल सेना के मानार्थ सेनायक्ष का पद देकर सम्मानित किया जाएगा। नेपाल की ओर से यह समारोह पहले ही आयोजित किया जा चुका है।

नेपाली सेना के मानार्थ सेनापति की पदवी लेकर लौट चुके हैं भारत के थल सेनाध्यक्ष

पिछले दिनों नेपाल की राष्ट्रपति विद्यादेवी भण्डारी ने भारतीय सेनाध्यक्ष मनोज मुकुन्द नरवाणे को मानार्थ सेनापति की पदवी दी थी। इसके लिए काठमांडू स्थित राष्ट्रपति कार्यालय में विशेष समारोह का आयोजन किया गया था। पदवी ग्रहण के बाद बीते 5 नवम्बर को सेनाध्यक्ष मनोज मुकुन्द नरवाणे भारत लौटे थे। इसके तत्काल बाद ही नेपाली सेनापति को औपचारिक आमंत्रण भेजा गया था।

नई दिल्ली में उच्च अधिकारियों से मुलाकात करेंगे नेपाल के सेनापति

निर्धारित कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए नेपाली सैनिक जनसम्पर्क निदेशालय की ओर से कहा गया है कि श्री शर्मा का भारत में व्यस्त कार्यक्रम है। नेपाली सेनाध्यक्ष के भारत पहुंचने के साथ ही सेना की एक टुकड़ी उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर देगी। इसके बाद भारत भ्रमण के क्रम में प्रभुराम शर्मा यहां के विभिन्न भारतीय उच्चपदस्थ अधिकारियों के साथ मुलाकात करेंगे।

इसके अलावा मंगलवार को ही भारतीय रक्षा सचिव अजय कुमार, भारतीय चीफ ऑफ डिफेन्स स्टाफ जनरल विपिन रावत , भारतीय सेनाध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवणे व भारतीय वायु सेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल बीआर चौधरी के साथ मुलाकात का कार्यक्रम तय है। बता दें कि 1950 में पहली बार भारतीय सेना के प्रथम कमाण्डर इन चीफ केएम करिप्पा को नेपाली सेना के मानार्थ महारथी के पद से नवाजा गया था तब से यह परंपरा कायम है ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored