Header 300×250 Mobile

94000 प्राथमिक शिक्षक बहाली को लेकर सचिवालय से लेकर पंचायत तक हलचल तेज

कैमूर के +2 उच्च विद्यालय भभुआ में होगी नगर व प्रखंड शिक्षक अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग

- Sponsored -

1,010

- Sponsored -

- sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। बिहार में 94000 प्राथमिक शिक्षकों की बहाली को लेकर सचिवालय स्थित विभाग के मुख्यालय से लेकर पंचायत तक में हलचल तेज हो गयी है। विभाग की ओर से काउंसिलिंग की तैयारियों को लेकर जहां रोज नये निर्देश जिलों को जारी किये जा रहे हैं वहीं जिला मे भी प्रखंड और पंचायतों को सजग किया जा रहा है।

प्राथमिक शिक्षा निदेशक 28 को करेंगे जिले के शिक्षा पदाधिकारियों संग बैठक

राज्य के प्राथमिक शिक्षा निदेशक रंजीत कुमार ने 28 जून को सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों और जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों (स्थापना) की बैठक बुलायी है। इसमें दिव्यांग छात्रों के आवेदन जमा करने के बाद की स्थिति पर चर्चा की जायेगी। जैसा कि पता है कि पटना हाईकोर्ट के निर्देश पर शिक्षा विभाग ने 11 जून से 25 जून तक आवेदन जमा करने की अनुमति दिव्यांग छात्रों को दी थी। यह अनुमति उन्हीं छात्रों को दी गयी थी जो पूर्व में किसी कारणवश आवेदन जमा नहीं कर पाये थे।

इसके लिए शिक्षा विभाग के निर्देश पर सभी जिलों में दिव्यांगों के लिए आरक्षित सीट का रोस्टर जारी किया गया था। बिहार सरकार की नौकरी में दिव्यांगों को चार फीसद आरक्षण का लाभ मिलता है। इनमें मूक-बधिर, नेत्रहीन, अस्थि विकलांग और मनोविकार वालों को एक-एक फीसद आरक्षण दिया जाता है। रोस्टर के मुताबिक दिव्यागों का आवेदन जमा हो जाने के बाद शिक्षा निदेशक ने जिला स्तरीय अपने विभागीय पदाधिकारियों की बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये 28 जून यानी सोमवार को बुलाई है।

बैठक में जिला स्तरीय शिक्षा पदाधिकारियों को अपने जिले की उन तमाम नियोजन इकाइयों की विस्तृत जानकारी शिक्षा निदेशक को देनी है जहां दिव्यांगों ने आवेदन जमा किया है। कक्षा एक से पांच और कक्षा छह से आठ तक की तमाम नियोजन इकाइयों जिनमें नगर निगम, नगर परिषद्, नगर पंचायत, प्रखंड और पंचायत शामिल हैं, के बारे में विस्तृत जानकारी मांगी गयी है। यह बैठक 28 जून को दोपहर बाद शाम तीन बजे से पांच बजे तक होगी। माना जा रहा है कि इस बैठक में प्राथमिक शिक्षा निदेशक काउंसिलिंग को लेकर जिला स्तर के अपने विभागीय पदाधिकारियों को दिशा-निर्देश देंगे।

विज्ञापन

विभाग की कोशिश, एक भी फर्जी शिक्षक हो बहाल

विभाग चाहता है कि इस बार काउंसिलिंग में कोई भी फर्जी अभ्यर्थी बहाल नहीं हो और सही अभ्यर्थी को किसी तरह की परेशानी भी न हो। प्राथमिक शिक्षा निदेशन डॉ. रणजीत कुमार सिंह ने कहा कि काउंसिलिंग के दिन अभ्यर्थियों को किसी तरह की परेशानी ना हो इसके लिए वे अपने यू ट्यूब चैनल पर दिन भर लाइव रहेंगे। इसके अलावा इस बार काउंसिलिंग के दिन अभ्यर्थियों को नियोजन पत्र नहीं दिया जाना है। उस दिन अभ्यर्थियों के सभी मूल प्रमाण पत्र रख लिये जायेंगे। बाद में जांच-पड़ताल में सही पाये जाने पर ही नियोजन पत्र दिये जायेंगे।

कैमूर के जिला पदाधिकारी ने निकाली काउंसिलिंग की चिट्‌ठी

इस बीच जिलों में भी काउंसिलिंग की तैयारी तेज हो गयी है। कैमूर के जिला शिक्षा पदाधिकारी ने काउंसिलिंग स्थल का निर्धारण कर दिया है। उन्होंने जिले के सभी प्रखंड, नगर और पंचायत नियाेजन इकाइयों को संबोधित पत्र में जानकारी दी है कि कैमूर में नगर और प्रखंड नियोजन इकाइयों की काउंसिलिंग जिला मुख्यालय स्थित +2 उच्च वि्द्यालय भभुआ में होगी। पूरे राज्य में एक साथ नगर निकायों के लिए पांच जुलाई और प्रखंड नियोजन इकाई के लिए सात जुलाई को कांउसिलिंग की जानी है।

पंचायत नियोजन इकाइयों की काउंसिलिंग प्रखंडों में 12 जुलाई को की जानी है। 5, 7 और 12 जुलाई को काउंसिलिंग उन नियोजन इकाइयों में होनी है जहां दिव्यांगों ने नया आवेदन जमा नहीं किया है। जहां दिव्यांगों ने 11 से 25 जून के बीच आवेदन जमा किया है वहां की काउंसिलिंग 2, 4 और 9 अगस्त को होनी है। इसके पहले दो जुलाई तक एसी नियोजन इकाइयों को मेधा सूची का प्रकाशन कर देना है।

तीन से नौ जुलाई तक छात्रों को आपत्ति दर्ज करना है। आपत्तियों का निराकरण 12 जुलाई तक करने के बाद 15 जुलाई को मेधा सूची का प्रकाशन कर देना है। इस मेधा सूची का अनुमोदन 24 जुलाई को कराने के बाद 27 जुलाई को इसे सार्वजनिक कर देना है। इसके बाद दो अगस्त से काउंसिलिंग शुरू होगी।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored