Header 300×250 Mobile

चाचा ने भंग की पुरानी राष्ट्रीय कार्यकारिणी, नयी गठित

लोजपा में घमासान तेज, भतीजे ने रविवार को बुलायी है राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक

- Sponsored -

651

- sponsored -

- Sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। चाचा-भतीजे के बीच लोजपा पर कब्जे के लिए घमासान तेज हो गया है। लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने जहां रविवार को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दिल्ली में बैठक बुलाई है वहीं इसके ठीक एक दिन पहले पारस चाचा ने पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी को ही भंग कर दिया। इसके साथ ही पारस ने नयी कार्यकारिणी का गठन भी कर दिया। लोजपा के बगावत करने वाले गुट के अध्यक्ष चुने गये पशुपति कुमार पारस ने शनिवार को दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यकारिणी को भंग करने और नयी कार्यकारिणी को गठित करने के संबंध में एक के बाद एक यानि कुल तीन पत्र जारी किये।

बगावत करने वाले सभी सांसदों को मिली नयी कार्यकारिणी में जगह

पहले पत्र में पारस ने बताया है कि लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष की हैसियत से उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय, प्रदेश एवं पार्टी के विभिन्न प्रकोष्ठों को भंग कर दिया है। इसी पत्र में उन्होंने नयी कार्यकारिणी सदस्यों की भी घोषणा की है। पत्र के अनुसार, सांसद महबूब अली कैसर, सांसद वीणा देवी और सुनीता शर्मा को पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, सांसद चंदन सिंह, सांसद प्रिंस राज, संजय सर्राफ और रामजी सिंह को राष्ट्रीय महासचिव जबकि विनोद नागर को राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बनाया गया है। इनमें संजय सर्राफ और विरोद नागर को राष्ट्रीय प्रवक्ता का भी दायित्व दिया गया है। पत्र के अंत में लिखा गया है कि राष्ट्रीय, प्रदेश एवं पार्टी के विभिन्न प्रकोष्ठों की कमेटी की घोषणा बाद में की जायेगी।

शनिवार को ही पारस द्वारा जारी दूसरे पत्र में भी कहा गया है कि पार्टी के राष्ट्रीय, प्रदेश एवं पार्टी के विभिन्न प्रकोष्ठों की कमेटी को तत्काल प्रभाव से भंग किया जाता है। साथ ही नयी राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों के नामों की घोषणा की गयी है। इस पत्र के अनुसार, पूर्व सांसद सुरजभान सिंह की पत्नी वीणा सिंह और अनिल चौधरी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जबकि राकेश चौधरी, रणवीर सिंह गुटा, बिरेश्वर सिंह और डॉ. उषा शर्मा को राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया है।

शनिवार को ही जारी तीसरी और अंतिम चिट्‌ठी में भी खुद को लोजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बताते हुए पशुपति कुमार पारस लिखते हैं कि पार्टी के राष्ट्रीय, प्रदेश एवं पार्टी के विभिन्न प्रकोष्ठों की कमेटी को तत्काल प्रभाव से भंग किया जाता है। साथ ही नयी राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों के नामों की घोषणा करते हुए राजकुमार राज को राष्ट्रीय महासचिव और हीरा प्रसाद मिश्रा को राष्ट्रीय सचिव बनाये जाने की जानकारी दी गयी है।

चुनाव आयोग पहुंचे चिराग, की चाचा की शिकायत

विज्ञापन

इधर, चाचा के नेतृत्व में पार्टी में हुए बगावत के बाद थोड़े शिथिल पड़े लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान शुक्रवार से फिर सक्रिय हुए हैं। शुक्रवार को उन्होंने चुनाव आयोग कार्यालय जाकर पार्टी के अधिकृत अध्यक्ष की हैसियत से अपना पक्ष रखा। साथ ही उन्होंने बगावत करने वाले पार्टी के सांसदों और अन्य नेताओं को पार्टी का झंडा और चुनाव चिह्न का उपयोग करने से रोकने की अपील की।

चिराग पासवान

चिराग का दावा, 90 फीसद कार्यकर्ता उनके साथ

शनिवार को उनके लोकसभा अध्यक्ष से मुलाकात करने की चर्चा है। इस मौके पर चिराग ने लोकसभा अध्यक्ष से पशुपति कुमार पारस को लोजपा का संसदीय दल के नेता के रुप में मान्यता देने पर आपत्ति जतायी है। चिराग का कहना है कि लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष वे खुद है। उन्होंने पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण पारस समेत बगावत करने वाले पांच सांसदों को पार्टी से निकाल दिया है। चिराग का दावा है कि पार्टी के 90 फीसद कार्यकर्ता उनके साथ हैं।

यह भी देखें : पारस चाचा की ताजपोशी करने नहीं पहुंचे भतीजा प्रिंस राज

यह भी पढ़ें : चिराग ने सार्वजनिक की चिट्‌ठी, ताजपोशी के बाद से ही भतीजे से नाराज थे पारस चाचा

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored