Header 300×250 Mobile

आईजीआईएमएस में 90 साल के बुजुर्ग ने दी कोरोना को मात

पिछले 24 घंटे में एक ब्लैक फंगस और सात कोरोना संक्रमितों की मौत

- Sponsored -

420

- sponsored -

- Sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। आईजीआईएमएस में पिछले 24 घंटे में सात कोरोना संक्रमित और एक म्यूकोरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) संक्रमित की मौत हो गयी, जबकि सात कोरोना संक्रमित मरीजों को ठीक होने के बाद हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया। कोरोना को मात देने वाले मरीजों में 90 साल के रामवचन सिंह भी शामिल हैं। रामवचन सिंह को भी मंगलवार को आईजीआईएमएस से डिस्चार्ज कर दिया गया।

पटना के गौरीचक स्थित सैदनपुर में रहनेवाले रामवचन सिंह को कोरोना संक्रमित होने के बाद 14 मई को आईजीआईएमएस में भर्ती कराया गया था। जब उन्हें अस्पताल लाया गया उनकी स्थिति गंभीर थी। रामवचन सिंह को हाईफीवर के साथ फेफड़ा में अत्यधिक संक्रमण के कारण सांस लेने में काफी दिक्कत हो रही थी। ऑक्सीजन लेबल भी लगातार गिर रहा था। ऐसे समय में डॉक्टरों ने उनका इलाज शुरू किया पर शुरू में स्थिति में सुधार नहीं हुआ।

विज्ञापन

इसके बाद रिजरवॉयर मास्क के जरिए उन्हें हाईफ्लो ऑक्सीजन (12 लीटर/मिनट) दिया गया। बावजूद ऑक्सीजन का लेवल 80 प्रतिशत ही पहुंच पा रहा था। हालांकि इसी तकनीक से उनका इलाज जारी रखा गया और कुछ दिनों बाद वह ठीक हो गए। मेडिकल सुपरिटेंडेंट सह कोविड-19 के नोडल ऑफिसर प्रो. मनीष मंडल ने बताया कि चिकित्सकों का यह प्रयोग पूरी तरह सफल रहा। संक्रमण मुक्त होने पर उन्हें मंगलवार को अस्पताल से छुट्टी भी दे दी गई।

आईजीआईएमएस के निदेशक डॉ. एनआर विश्वास ने इस कार्य के लिए इलाज में लगे सभी चिकित्सकों और पारा मेडिकल स्टाफ को बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह सभी की मेहनत का परिणाम है कि कोरोना संक्रमित 90 वर्षीय गंभीर मरीज की जान बचाई जा सकी।

इधर, आईजीआईएमएस में पिछले 24 घंटे में 12 नये कोरोना संक्रमित व 02 ब्लैक फंगस मरीजों को एडमिट किया गया। इस अस्पताल में फिलहाल 195 कोरोना संक्रमितों और 110 म्यूकोरमाइकोसिस मरीजों का इलाज चल रहा है। म्यूकोरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) के इलाजरत 90 मरीज वार्ड में और 20 आईसीयू में एडमिट हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored