Header 300×250 Mobile

STET-2019 के रिजल्ट की खुशियां मना रहे छात्रों में छाया मातम

हजारो छात्रो का रिजल्ट Qualified but not in merit list का दे रहा है संदेश

- Sponsored -

879

- Sponsored -

- sponsored -

अपर शिक्षा सचिव ने गठित की कमेटी, ऐसे छात्रों की पात्रता के संबंंध में करेगी अनुशंसा

पटना (voice4bihar desk)। घोषित तारीख से एक दिन पहले STET-2019 का रिजल्ट जारी होने की खुशी अभी अभ्यर्थियों ने मनाना शुरू ही किया था कि उन्हें ग्रहण ने आ घेरा। इसी साल 12 मार्च को जब शिक्षा मंत्री ने STET-2019 के दोनों पेपर को मिलाकर 12 विषयों का रिजल्ट जारी किया था तब उन्होंने साफ-साफ कहा था कि इस परीक्षा के रिजल्ट में जितने लोग सफल घोषित किये गये हैं उन सभी की नौकरी पक्की है। पर, 21 जून को शेष तीन और विषयों के रिजल्ट के साथ सभी 15 विषयों की मेधा सूची जारी की गयी तो अभ्यर्थियों में खलबली मच गयी।

कई ऐसे अभ्यर्थी हैं जिनके रिजल्ट शीट पर क्वालिफाइड तो लिखा है पर मेरिट लिस्ट में उन्हें जगह नहीं दी गयी। अभ्यर्थी जानना चाह रहे हैं कि जब विभिन्न विषयों में उपलब्ध सीटों के मुताबिक ही अभ्यर्थी क्वालिफाइड घोषित किये गये हैं तो उन्हें मेरिट लिस्ट में जगह क्यों नहीं दी गयी है।

मंगलवार को बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के कार्यालय के बाहर इस मुद्दे को लेकर कई अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री और शिक्षा मत्री के खिलाफ नारे लगाये। अभ्यर्थी समिति कार्यालय में जाकर अधिकारियों से इस बारे मे बात करना चाह रहे थे पर कोरोना गाइडलाइन का हवाला देकर उन्हें अंदर नहीं जाने दिया गया। इसके बाद अभ्यर्थियों ने गेट पर ही घंटों हंगामा किया और अंत में थक हार कर लौट गये।

संजय कुमार, अपर मुख्य शिक्षा सचिव।

हालांकि शाम में अपर शिक्षा सचिव एक पत्र लेकर सामने आये। अपने ट्वीटर हैंडल पर इस पत्र को जारी करते हुए अपर शिक्षा सचिव संजय कुमार ने बताया कि STET-2019 में उत्तीर्ण अभ्यर्थी जो Qualified but not in merit list हैं कि पात्रता के संबंध में अनुशंसा करने के लिए समिति का गठन किया गया है। समिति के अध्यक्ष शिक्षा विभाग के सचिव बनाये गये हैं। इसके सदस्यों में प्राथमिक शिक्षा निदेशक, उप निदेशक माध्यमिक शिक्षा और बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के परीक्षा नियंत्रक (विविध) बनाये गये हैं। यह समिति अपनी अनुशंसा अपर मुख्य शिक्षा सचिव को सौंपेगी।

विज्ञापन

समिति को अनुशंसा सौंपने के लिए फिलहाल समय सीमा निर्धारित नहीं की गयी है पर कहा गया है कि यह यथाशीघ्र अनुशंसा उपलब्ध करायेगी। इस समिति के जरिये शिक्षा विभाग ने छात्रों के असंतोष को कुछ कम करने की कोशिरूा की है। पर समिति ने अनुशंया सौंपने में देरी की तो छात्रों का कोप भी विभाग को झेलना पड़ सकता है।

अपर मुख्य शिक्षा सचिव के आज जारी आदेश की विस्तार से बात करें तो इसमें कहा गया है कि सातवें चरण के माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षक नियोजन में उपलब्ध होने वाले रिक्त पदों की संख्या को ध्यान में रखकर बिहार माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा STET-2019 का आयोजन बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने किया है। STET-2019 का परिणाम घोषित हो गया है।

इसमें दो श्रेणी के अभ्यर्थी बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के द्वारा उत्तीर्ण किये गये हैं। एक हैं Qualified and in merit list और दूसरे हैं Qualified but not in merit list. समिति इसी Qualified but not in merit list वाले अभ्यर्थियों की पात्रता के संबंध में अनुशंसा करेगी। इसके अलावा समिति को STET के उन प्रमाण पत्रों की मान्यता पर भी अपनी अनुशंसा विभाग को सौंपनी है जिनके सात साल पूरे हो गये हैं।

विदित हो कि अब तक STET के प्रमाणपत्र की मान्यता सात वर्ष ही निर्धारित है। बिहार में अब तक 2011 एवं 2019 में STET का आयोजन हुआ है। परिस्थिति विशेष को ध्यान में रखकर STET-2011 की मान्यता जो सात वर्ष थी उसमें दो वर्ष की बढोतरी की गई है। NCTE ने वर्ग 1 से 8 के लिए TET प्रमाण पत्र की मान्यता 11.02.2011 के प्रभाव से Lifetime कर दी है।

इसके मद्देनजर विभागीय आदेश 569 दिनांक 11.06.2021 के द्वारा बिहार राज्य द्वारा वर्ग 1 से 8 के लिए आयोजित TET से संबंधित प्रमाण पत्र की अनुमान्यता, जो पूर्व में सात वर्ष थी और कालान्तर में इसमें दो वर्ष की बढ़ोतरी की गई थी, को मई 2012 के प्रभाव से Valid for Lifetime कर दिया गया है।

इस क्रम में STET के प्रमाण पत्र की अनुमान्यता को भी मई 2012 के प्रभाव से Valid for Lifetime किया गया है। STET के प्रमाण पत्र की अनुमान्यता Valid for Lifetime करने की पृष्ठभूमि में STET-2011 के अभ्यर्थी, जिनके STET प्रमाण पत्र की अनुमान्यता पूर्व में सातवें चरण के माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षक नियोजन हेतु नहीं रह गई थी के संबंध में भी समिति अपनी अनुशंसा विभाग के अपर सचिव को सौंपेगी।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored