Header 300×250 Mobile

रोहतास जिले में पीडीएस दुकानों की बहाली प्रक्रिया शुरू

पहले चरण में ग्रामीण इलाकों में खुलेंगी पीडीएस दुकानें

- Sponsored -

613

- Sponsored -

- sponsored -

आरक्षण रोस्टर के हिसाब से मांगी गयी रिक्तियां, अनुमंडल स्तर पर तैयार हो रही सूची

नगर निकाय में शामिल गांवों व पंचायतों में अभी पीडीएस दुकान खोलने पर फंसा पेच

अभिषेक कुमार सुमन के साथ बजरंगी कुमार की रिपोर्ट

सासाराम (voice4bihar news)। रोहतास जिले में जनवितरण प्रणाली (पीडीएस) की दुकानों की बहाली को लेकर प्रक्रिया शुरू की जा चुकी थी। हालांकि प्रक्रिया आरक्षण रोस्टर के अनुसार रिक्तियां तैयार होने के पश्चात रफ्तार पकड़ेगी। फिलहाल आरक्षण रोस्टर के आलोक में अनुमंडल स्तर से मांगी गई रिक्तियां तैयार की जा रही हैं लेकिन पंचायत से नगर निकाय में समाहित इलाकों में तकनीकी पेच फंसा हुआ है। इसे लेकर जिला पदाधिकारी ने खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के सरकार के सचिव से जिले के विभिन्न नगर निकायों में समाहित पैक्सो के अधीन संचालित पीडीएस दुकानों के मामले में मार्गदर्शन मांगा है। मार्गदर्शन नवम्बर के पहले सप्ताह में ही मांगा गया है।

पंचायत क्षेत्रों में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के बाद प्रक्रिया होगी शुरू

हालांकि इस संबंध में अब तक मार्गदर्शन प्राप्त नहीं हो सका है। बावजूद इसके निकाय क्षेत्र को छोड़ पंचायत क्षेत्रों में पीडीएस दुकानों की बहाली प्रक्रिया की तैयारी में जिला प्रशासन जुटा हुआ है। नगर निकाय में समाहित इलाकों को छोड़ दिया जाए तो शेष बचे वैसे क्षेत्र जहां त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव जारी है। दो करगहर और राजपुर प्रखंड में चुनाव होने हैं शेष प्रखंडों में हो चुके हैं। बावजूद इसके हम पंचायत चुनाव जारी होने की बात कर रहे हैं, क्योंकि प्रमुख उप प्रमुख उप मुखिया उप सरपंच से लेकर जिला परिषद अध्यक्ष उपाध्यक्ष सहित अन्य चुनाव अभी भी होने हैं।

विज्ञापन

1900 लोगों के लिए खुलेगी एक जनवितरण दुकान

बहरहाल पंचायत चुनाव को लेकर जारी की गयी आदर्श आचार संहिता के समाप्त होते ही पंचायत क्षेत्र में पीडीएस दुकानों की बहाली प्रक्रिया रफ्तार पकड़ लेगी। पंचायत क्षेत्र में 1900 की जनसंख्या पर एक पीडीएस दुकान खोलने का प्रावधान है। पंचायत से जुड़े लोगों की मानें तो प्रत्येक वार्ड की जनसंख्या लगभग 1500_2000 होती है, जहां 500 -700 तक मतदाता होते हैं। इस आधार पर एक वार्ड में एक पीडीएस दुकान खुलने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है।

शहरी क्षेत्रों में पैक्सों के अधीन संचालित दुकानों का फंसा है पेच

पीडीएस दुकानों की बहाली को लेकर शुरू किए गए प्रक्रिया में जिला प्रशासन ने अनुमंडल प्रशासन से आरक्षण रोस्टर का पालन करते हुए रिक्तियां तलब की थी लेकिन रिक्तियां अब तक जिला प्रशासन को प्राप्त नहीं हो सकती है। रिक्तियां तैयार होने में पंचायत स्तरीय इलाकों के नगर निकाय में शामिल होने के बाद पूर्व से पंचायत स्तर का हिस्सा रहे इलाकों में पैक्सों के अधीन संचालित पीडीएस दुकान संचालित होंगी या विलोपित की जाएंगी।

इस मामले को लेकर पेच फंस गया है। जानकारी के अनुसार शहरी क्षेत्रों में 1350 और ग्रामीण क्षेत्रों में 1900 की जनसंख्या पर एक पीडीएस दुकान खोलने की प्रक्रिया शुरू है। माना जा रहा है कि नगर निकाय चुनाव से पहले तक मार्गदर्शन मिलेगा लेकिन उसके पूर्व पंचायत क्षेत्रों में पीडीएस दुकानों की बहाली प्रक्रिया संपन्न करा ली जाएगी।

इन इलाकों के नगर निकाय में शामिल होने के साथ फ़ंसा पेच

डेहरी अनुमंडल के रोहतास प्रखंड में अकबरपुर और उचैला, बिक्रमगंज प्रखंड के गोडारी और आंशिक तौर पर करूप, दिनारा प्रखंड में दिनारा, सासाराम अनुमंडल के नोखा के घोसियां, चेनारी प्रखंड के चेनारी और आंशिक तौर पर हाटा सहित बनौली, शिवसागर प्रखंड के कुम्हऊ, सासाराम प्रखंड के अमरी, मुरादाबाद, उचितपुर, महद्दीगंज, भदोखरा, सिकरियां, धनकाढा, करवंदिया एवं बेलाढी के ईलाके नगर निकाय में शामिल हो चुके हैं। इन इलाकों के पूर्व में पंचायत क्षेत्र होने के कारण पैक्स के अधीन पीडीएस दुकान संचालित हो रहे हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored