Header 300×250 Mobile

पटना में खुला ई-स्कूटी का नया शोरूम, कई खूबियों से भरी गाड़ियां खरीद सकते हैं यहां

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय व कई गणमान्य लोगों ने किया शोरूम का उद्घाटन

- Sponsored -

790

- sponsored -

- Sponsored -

प्रदेश में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए पर्यावरण के अनुकूल ई-स्कूटी को बढ़ावा देना जरूरी : मंगल पांडेय

सस्ते दामों में बहुत ही अच्छा उत्पाद मुहैया करा कर युवाओं को रोजगार से जोड़ेगा यह शोरूम : रीना यादव

पटना (voice4bihar desk)। राजधानी पटना में सोमवार को एक तरफ इलेक्ट्रिक बसों के परिचालन को लेकर तैयारी चल रही थी तो वहीं दूसरी ओर राजधानी में एक कंपनी की ओर से ई-स्कूटी के शोरूम का शुभारंभ किया गया। दोनों का मकसद एक ही है-वातावरण में बढ़ते वायु प्रदूषण के स्तर को कम करना। इससे पहले सरकार अपने अधीन दफ्तरों के लिए इलेक्ट्रानिक चारपहिया वाहनों को चलाने की पहल कर चुकी है।

पटना में पेप्को सेल्स प्राइवेट लिमिटेड के अंतर्गत ई-स्कूटी शोरूम का शुभारंभ पटना बाईपास में 70 फीट के नजदीक हुआ। स्वास्थ मंत्री, बिहार सरकार मंगल पाण्डेय, विधान परिषद में सत्तारूढ़ दल की सचेतक रीना यादव, दीघा विधायक डॉ संजीव चौरसिया एवं कंपनी की एमडी प्रिया प्रकाश ने संयुक्त रूप से फीता काट कर इसका उद‌्घाटन किया।

 

विज्ञापन

शोरुम के उद्घाटन के अवसर पर स्वास्थ मंत्री मंगल पाण्डेय ने कहा कि प्रदेश में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए पर्यावरण के अनुकूल ई-स्कूटी को बिहार वासियों को अपना कर इसको ज़रूर बढ़ावा देना चाहिये। डॉ संजीव चौरसिया ने कहा कि पर्यावरण के अनुकूल ई-स्कूटी को सरकार भी बढ़ावा देने का प्रयास कर रही है।

शोरूम में स्कूटी प्रदर्शित करते मंत्री व अन्य।
शोरूम में स्कूटी प्रदर्शित करते मंत्री व अन्य।

वहीं विधान पार्षद रीना यादव ने शोरूम के बारे में बताया कि पटना वासियों के लिए यह शोरूम सस्ते दामों में बहुत ही अच्छा उत्पाद मुहैया करा युवाओं के लिए नए रोजगार के अवसर प्रदान करेगा। मौके पर भाजपा युवा मोर्चा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अनिकेत झा बिहार के क्षेत्रीय वितरक जय प्रकाश, कम्पनी के एरिया मैनेजर बबन यादव के अलावा अनुज यादव, तनवीर कादरी राजन श्रीवास्तव सूरज यादव, मृत्युंजय यादव हिमांशु उपाध्याय, नीरज, रोहित, संजय, तरुण आदि सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

पटना समेत राज्य के कई शहरों में बढ़ते वायु प्रदूषण स्तर को कम करने की दिशा में सरकार के साथ ही निजी कंपनियां भी आगे आ रही हैं। कम खर्च में यातायात को सुगम बनाने का यह प्रयास दिनोंदिन आगे बढ़ता जा रहा है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored