Header 300×250 Mobile

दामाद ने अपने सास – ससुर और मासूम बच्चे को जिंदा जलाया, पत्नी व बेटी बाल – बाल बची

ससुराल में नशा करने से मना करने पर आपा खोया, पेट्रोल छिड़क कर घर में लगा दी आग

- Sponsored -

535

- sponsored -

- Sponsored -

 सास – ससुर की हुई मौत, जिंदगी व मौत के बीच झूल रहा 4 वर्ष का मासूम

भागलपुर (voice4bihar news) । बिहार के भागलपुर जिले में एक नशेड़ी युवक ने दरिंदगी की हदें पार करते हुए अपने सास – ससुर एवं अपने मासूम बच्चे को जिंदा जला दिया। इस घटना में सास ससुर की मौत हो गई, जबकि बच्चा जिंदगी और मौत के बीच झूल रहा है। घटना भागलपुर जिले के एकचारी दियारा थाना क्षेत्र स्थित दियारा इलाके में सोमवार की देर रात की बताई जा रही है। सास – ससुर को जिंदा जलाने का आरोपित दामाद मनोज मंडल पीरपैती थाना क्षेत्र के ओलनी टोला गांव का रहने वाला है।

आधी रात को पेट्रोल लेकर आया और कमरे में लगा दी आग

बताया जा रहा है कि नशा का सेवन करने से मना करने पर आक्रोशित दामाद ने ससुराल में अपने ससुर सुरेश मंडल और सास कलावती देवी समेत अपने चार वर्षीय इकलौते पुत्र आदित्य कुमार को पेट्रोल छिड़ककर आग के हवाले कर दिया। इलाज के लिए अस्पताल ले जाने के क्रम में घोघा के समीप सास की मौत हो गई। जबकि मायागंज अस्पताल में उपचार के दौरान ससुर ने भी दम तोड़ दिया। मासूम आदित्य कुमार अभी अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रहा है।

ग्रामीणों ने बताया कि 60 वर्षीय सुरेश मंडल के घर पर उसका दामाद मनोज मंडल सोमवार की रात्रि दस बजे आया था। दो दिन पहले उसकी पत्नी लक्ष्मी देवी मायके आई थी। मनोज नशे की हालत में था। उसके पास हथियार भी थे। आते ही वह पत्नी के साथ मारपीट करने लगा। सास – ससुर बीच बचाव करने आए तो उनसे भी विवाद करने लगा। इसके बाद वह ससुराल से चला गया।

विज्ञापन

नाती को लेकर एक ही चौकी पर सोया था बुजुर्ग दंपति

सुरेश के जाने के बाद माहौल शांत हो गया लेकिन रात्रि लगभग पौने 12 बजे वह फिर आया। उस वक्त घर के सभी सदस्य सो रहे थे। सुरेश मंडल, उनकी पत्नी कलावती देवी और नाती आदित्य एक चौकी पर थे। लक्ष्मी देवी अपनी छह माह की पुत्री काजल को लेकर बगल के चौकी पर सोई हुई थी। मनोज ने आते ही पेट्रोल छिड़ककर घर में आग लगा दी। घर में सो रहे लोगों की चीख – पुकार सुनकर ग्रामीण मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों के प्रयास से आग बुझाई गई। लेकिन तब तक सुरेश मंडल , कलावती देवी और आदित्य आग में बुरी तरह से झुलस चुके थे।

ग्रामीणों ने हत्यारे की पत्नी व बेटी को मौत के मुंह से निकाला

हत्यारोपी सुरेश मंडल की पत्नी लक्ष्मी और उसकी पुत्री काजल को बचा लिया गया। जख्मी सुरेश मंडल, कलावती देवी व आदित्य कुमार का प्रारंभिक इलाज गांव में ही ग्रामीण चिकित्सक से कराया गया। इसके बाद मुखिया अगहनु मंडल एवं पंचायत समिति सदस्य मनोहर मंडल ने इसकी सूचना एकचारी दियारा थाना पुलिस को दी। घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंचे थानाध्यक्ष मुकेश कुमार ने आग से बुरी तरह झुलसे तीनों लोगों को उपचार के लिए कहलगांव अस्पताल भेजा।

घायलों की गंभीर स्थिति को देखते हुए चिकित्सकों ने तीनों को भागलपुर स्थित मायागंज अस्पताल रेफर कर दिया। इलाज के लिए भागलपुर ले जाने के क्रम में रास्ते में कलावती देवी की मौत हो गई , जबकि सुरेश मंडल की मौत मायागंज अस्पताल में इलाज के दौरान हो गई। आदित्य का इलाज चल रहा है। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपित की गिरफ्तारी के लिए छानबीन शुरू कर दी है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored