Header 300×250 Mobile

कोराना ने छीना एक और पत्रकार, नहीं रहे हिन्दुस्तान के मधुबनी ब्यूरो प्रभारी दीपक कुमार

मूल रूप से भागलपुर के रहने वाले थे पत्रकार दीपक कुमार

- Sponsored -

477

- Sponsored -

- sponsored -

बेहतर इलाज के लिए सिल्लीगुड़ी गए थे दीपक कुमार, वहीं ली अंतिम सांस

मधुबनी (voice4bihar news)। बिहार में जारी कोरोना के कहर ने एक और पत्रकार को हमसे छीन लिया। मधुबनी के वरिष्ठ पत्रकार दीपक कुमार का शुक्रवार को कोरोना संक्रमण से निधन हो गया। उनके निधन की खबर सुनते ही पत्रकारिता जगत में गम की लहर दौड़ गई। वे कुछ दिन पहले कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे। जिनका इलाज रामपट्टी स्थित कोविड केयर सेन्टर में चल रहा था।

बताया जाता है कोविड केयर सेंटर में इलाज के दौरान तबीयत में अपेक्षित सुधार नहीं हुआ बेहतर इलाज के लिए अपने रिश्तेदार के पास सिल्लीगुड़ी चले गए थे। जहां शुक्रवार को एक निजी अस्पताल में दीपक ने आखिरी सांस ली। दीपक कुमार मधुबनी में हिन्दुस्तान अखबार में बतौर प्रभारी कार्यरत थे। दीपक कुमार मुल निवासी भागलपुर के थे। परंतु उनके माता-पिता देवघर में अपना घर बनाकर रह रहे थे।

विज्ञापन

इधर दीपक कुमार के निधन पर इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट(आई एफडब्लूजे) के जिला अध्यक्ष हेमंत कुमार सिंह एवं सचिव आकिल हुसैन ने गहरी संवेदना व्यक्त की है। संगठन ने कहा है कि पत्रकारिता जगत ने एक बेहतर पत्रकार को खो दिया है, जिसकी भरपाई में काफी वक्त लग जाएगा।

दीपक कुमार के निधन पर पत्रकार संघ ने जताया शोक

वही दीपक कुमार के निधन पर शोक व्यक्त करने वालों में पत्रकार रामानंद सिंह, शैलेन्द्र कुमार, लम्बोदर झा, अमरनाथ झा, प्रो आशुतोष सिंहा, रमन कुमार, कार्तिक कुमार, शंभू कुमार, राम शरण साह, राम प्रकाश चौरसिया, शाहिद कामरान,सुनीति कुमार मिश्र, अभय कुमार सोनू, कल्याण जी, अशोक कुमार, मो अख़लाक़, मो फिरोज आलम, राजेश कुमार कर्ण, मो अली, इन्द्र मोहन मिश्र, मो निहाल, मो नदीम, जेपी सेनानी हनुमान प्रसाद राउत, मनोज कुमार पूर्वे आदि शामिल हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT