Header 300×250 Mobile

टमाटर लगे खेत की घेराबंदी में दौड़ रहे करंट ने ली कई जानें

आधा दर्जन मवेशियों की मौत, पानी के करहा में मिली पशुपालक की लाश

- Sponsored -

720

- Sponsored -

- sponsored -

भानस ओपी के अरंग गांव में खेत में दौड़ाया गया था बिजली का करंट

पुलिस के खोजी कुत्ते ने घंटों प्रयास के बाद पशुपालक का भी शव ढूंढ़ निकाला

रोहतास से बजरंगी कुमार सुमन की रिपोर्ट

सासाराम (voice4bihar news)। रोहतास जिले के बिक्रमगंज अनुमंडल क्षेत्र अंतर्गत भानस ओपी के अरंग गांव में टमाटर लगे खेत की घेराबंदी किये तार में दौड़ते करंट की चपेट में आने से आधा दर्जन पशुओं के मरने की खबर है। साथ ही इन मवेशियों के पालक का कहीं अता-पता नहीं चलने से सनसनी फैल गयी । हालांकि पुलिस के श्वान दस्ते ने काफी प्रयास के बाद पशुपालक के शव को ढूंढ़ निकाला। यह घटना पुलिस के लिए भी पिछले कई घंटों से किस कदर सिरदर्द बना हुआ है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पुलिस के बड़े अधिकारियों की चुप्पी अब तक इस मामले में नहीं टूटी है।

पशुपालक के लापता होने के मामले पर फंसा था पेच

घटना में काल कवलित हुए आधा दर्जन मवेशियों व पशुपालक की मौत का मामला पहले तो काफी रहस्यमय बना रहा। घटना स्थल के बगल के गांव पड़रिया निवासी पशुपालक टुन्ना सिंह के गायब होने की पुष्टि भानस ओपी थानाध्यक्ष तेजनारायण यादव ने की थी। थानाध्यक्ष ने मामले में अब तक प्राथमिकी दर्ज होने की पुष्टि नहीं की है। स्थानीय सूत्रों की मानें तो पशुपालक जिंदा है या नहीं इस मामले पर क्षेत्र के लोग तरह-तरह के कयास लगा रहे थे। आखिरकार घटना के घंटों बाद पास में ही पानी के करहा में पड़ा पशुपालक का शव पुलिस के श्वान दस्ता ने बरामद कर लिया। पशुपालक की मौत की खबर के साथ ही यह मामला गंभीर हो गया है।

विज्ञापन

खेत के किनारे करंट से मरे हुए मवेशी।
खेत के किनारे करंट से मरे हुए मवेशी।

डीएसपी ने कहा-अपडेट का कीजिए इंतजार

घटना के बाद मामले में सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अरंग गांव के आधा दर्जन से अधिक लोगों पुलिस ने हिरासत में लेकर मामले की सटीक और पुख्ता जानकारी जुटाने में लगी है। यह इलाका पूर्व से जातीय हिंसा और राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता का क्षेत्र माना जाता रहा है। इसलिए पुलिस काफी फूंक-फूंक कर मामले में कदम उठा रही है। मामले में अपडेट के सवाल पर बिक्रमगंज डीएसपी राजकुमार सिंह ने कहा कि अभी अपडेट के लिए इंतजार कीजिये। इसी केस को सुलझाने में लगे हुए हैं।

तहकीकात के लिए खोजी कुत्ते का हो रहा है प्रयोग

घटना के बाद इलाके में पशुपालक की मौत पर उठ रहे सवाल और चर्चाओं के बाद प्रथम दृष्टया पुलिस ने मान लिया था कि पशुपालक की मौत हो चुकी है। पुलिस को अंदेशा था कि पशुपालक के डेड बॉडी को साक्ष्य मिटाने की नीयत से अन्यत्र कहीं छुपाया गया होगा। इस मामले से पर्दा उठाने के लिए पुलिस का श्वान दस्ता बुलाया गया। काफी तहकीकात के बाद खोजी कुत्ते ने करहा में पड़े पशुपालक के शव को ढूंढ़ निकाला।

दूसरी ओर इस घटना के बाद भानस ओपी क्षेत्र में जातीय तनाव गहराने की आशंका बढ़ गयी है। हालांकि पुलिस ऐसी नौबत आने से पहले ही मामले को अंजाम तक पहुंचाने की कोशिश में जुट गयी है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored