Header 300×250 Mobile

लॉकडाउन-4 लागू होने के बावजूद पूरी तरह अनलॉक दिखा बथनाहा बाजार

शुक्रवार को भी खुली रहीं कपड़े की दुकानें, प्रशासन का खौफ नहीं

- Sponsored -

371

- sponsored -

- Sponsored -

बाजार में भी दिखी भीड़, लोगों के चेहरे से अभी से मास्क नदारद

अररिया से राजेश कुमार शर्मा की रिपोर्ट

जोगबनी (Voice4bihar news)। राज्य में लगातार लॉकडाउन की बदौलत कोरोना संक्रमण को रोकने का सफल प्रयास सरकार ने किया, लेकिन आम लोगों की जरूरतों को देखते हुए सरकार ने थोड़ी सी ढील क्या दी, लोगों ने इसे अनलॉक मान लिया। अररिया जिले के फॉरबिसगंज व जोगबनी के बीच बसे बथनाहा शहर में शुक्रवार को पूरी तरह से अनलॉक होने का नजारा देख काफी हैरानी हुई।

कई दुकानें बिना रोस्टर के खुली दिखीं, वहीं सड़कों पर लोगों ने बिना मास्क के फिजिकल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस का पालन करवाने में अनुमंडल प्रशासन बथनाहा में पूरी तरह से फेल है? क्या अब हमें सावधानियां बरतने की जरूरत नही है? क्या सरकार की गाइडलाइन का अक्षरशः पालन करवाना प्रशासन की जिम्मेवारी नहीं है?

विज्ञापन

बता दें कि राज्य में विगत 2 जून से 8 जून तक लॉकडाउन पार्ट – 4 लगाया गया है। दुकानों को खोले जाने के सन्दर्भ में गाइडलाइन के अनुसार तीन श्रेणियों में दुकानों को बांटा गया। जिसमें पहले श्रेणी में आवश्यक सामानों के दुकानों को रखा गया। वहीं दूसरे व तीसरे श्रेणी में अलग-अलग सामान बेचने वाली दुकानों को रखा गया है। इन दुकानों को जिसे एक दिन के अंतराल पर खोला जाना है। लेकिन असलियत यह है कि बुधवार हो या गुरुवार या शुक्रवार बथनाहा में आपको सभी दुकानें खुली मिलेंगी।

शुक्रवार को खुली मिलीं हर श्रेणी की दुकानें, लॉकडाउन की उड़ी धज्जियां

बथनाहा का नजारा शुक्रवार को ऐसा दिखा जैसे यहां गाइडलाइन नाम की कोई चीज ही नहीं। कपड़े की दुकान हो अन्य बर्तन व गहने की…,सभी शुक्रवार को भी गुलजार दिखीं। अगर इसकी सूचना कोई प्रशासन को देता है तो ग्राहक को अंदर लेकर शटर डाउन हो जाता है। जब तक यह निश्चित न हो जाय कि अब प्रशासन इस तरफ नहीं पहुंचेगा, यह शटर गिरा ही रहेगा। बथनाहा के बीरपुर चौक से लेकर हटिया चौक तक ऐसी सैकड़ों दुकानें इसी तर्ज पर खुलती बंद होती हैं।

शारीरिक दूरी का नहीं हो रहा पालन, बाजार में उमड़ रही भीड़

दूसरी ओर बथनाहा के चौक बाजार के आस-पास लगे जाम व भीड़ के बीच सोशल डिस्टेंस को भी खुलेआम ठेंगा दिखाया जाता है। दुकानदार के साथ कई ग्राहक भी बगैर मास्क के देखे जा सकते हैं। लोगों का मानना है कि आम जन के बीच प्रशासन का ख़ौफ़ इसलिए नहीं है कि बथनाहा में प्रशासन ने लॉकडाउन-4 में न तो किसी बड़ी दुकान को जांच की है और न उन्हें अस्थायी रूप से सील करने की कार्रवाई की गयी है। लिहाजा प्रतिष्ठान मालिक भी लॉकडाउन की परवाह नहीं कर रहे हैं ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored