Header 300×250 Mobile

पूर्व मुखिया की हत्या का 50000 का ईनामी आरोपी चढ़ा एसटीएफ के हत्थे

बेगूसराय के नावकोठी में भाकपा नेता और पूर्व मुखिया गणेश पाेद्दार की कर दी थी दिनदहाड़े हत्या

- Sponsored -

489

- sponsored -

- Sponsored -

पटना (voice4bihar desk) । बिहार एसटीएफ ने बेगूसराय में भाकपा नेता और पूर्व मुखिया की हत्या में शामिल 50000 रुपये के ईनामी कुख्यात संजीव सिंह को गिरफ्तार किया है। संजीव सिंह नावकोठी थाना क्षेत्र के शेखपुरा का रहने वाला है। उसे जमुई जिले के बरहट थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया है। एसटीएफ ने उसके पास से 7.65 एमएम की देसी पिस्तौल, छह कारतूस और सात मोबाइल फोन भी बरामद किया है।

पुलिस का कहना है कि कुख्यात संजीव सिंह ने अपने साथियों के साथ मिलकर पूर्व मुखिया गणेश पोद्दार की हत्या रंगदारी नहीं देने के कारण कर दी थी। हत्या की इस वारदात को इसी साल 17 फरवरी को बेगूसराय के नावकोठी के देवपुरा चौक पर अंजाम दिया गया था। वारदात के बाद स्थानीन लोगों ने सड़क पर शव रखकर काफी बवाल किया था। पुलिस ने समझा बुझाकर लोगों को वहां से हटाया था।

सैदपुर विशनपुर पंचायत के पूर्व मुखिया थे गणेश पोद्दार

विज्ञापन

62 वर्षीय भाकपा नेता गणेश पोद्दार 2011 से 16 तक बेगूसराय के सैदपुर विशनपुर पंचायत के मुखिया थे। 2016 में यह सीट महिला के लिए आरक्षित हो जाने पर उन्होंने अपनी पत्नी प्रभावती देवी को यहां से मैदान में उतारा था। 2016 से अब तक प्रभावती देवी यहां की मुखिया हैं। बताया जाता है 17 फरवरी को हुई हत्या की वारदात के पूर्व गणेश पोद्दार ने अपराधियों द्वारा रंगदारी मांगे जाने की शिकायत बेगूसराय पुलिस से की थी लेकिन पुलिस इस मामले में कार्रवाई करने में विफल रही।

17 फरवरी को नावकोठी में कर दी गयी थी हत्या

17 फरवरी को गणेश पोद्दार किसी काम से नावकोठी आये हुए थे। वहीं के देवपुरा चौक पर बाइक सवार अपराधियों ने गोली मारकार उनकी हत्या कर दी थी। इस संबंध में नावकोठी थाने में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार मोटरसाइकिल सवार तीन अपराधियों ने वारदात को दिन दहाड़े अंजाम दिया था। बाइक पर पीछे बैठे अपराधी ने पहले गणेश पोद्दार को एक गोली मारी। गोली लगने से जब वे गिर गये तो वह अपराधी मोटरसाइकिल से उतरा और गणेश पोद्दार के सीने में तीन गोलियां उतार दी जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गयी।

इस मामले में अज्ञात हमलावरों के खिलाफ हत्या का मामला नावकोठी थाने में दर्ज हुआ था। पुलिस ने अनुसंधान के क्रम में रानी समरपुरा के सन्नी कुमार और परिहार के सौरभ कुमार और बिट्टू को वारदात के कुछ दिनों बाद गिरफ्तार किया था। इन्हीं तीनों बदमाशों से पूछताछ के बाद पुलिस कुख्यात संजीव सिंह की तलाश में थी। इधर, वारदात को अंजाम देने के बाद संजीव सिंह बेगूसराय छोड़कर जमुई में रहने लगा था। पक्की सूचना मिलने के बाद एसटीएफ ने उसे जमुई के बरहटा थाना क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored