Header 300×250 Mobile

अभ्यर्थी बंधक बने रहे और सीटें रह गयीं खाली

बिहार में शिक्षक अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग का अजब-गजब तमाशा

- Sponsored -

1,587

- Sponsored -

- sponsored -

782 सीटों के लिए हुई काउंसिलिंग में पहुंचे हजारों अभ्यर्थी, फिर भी 287 सीटें रह गयीं खाली

पटना (voice4bihar desk)। इसे शिक्षा विभाग की नीति कहें या अभ्यर्थियों की नियति कि आवेदक काउंसिलिंग सेंटर पर बंधक बने रहे और करीब चालीस फीसद सीटें खाली रह गयीं। मंगलवार को कक्षा I से V तक के लिए 782 सीटों के लिए हुई काउंसिलिंग में से 287 खाली रह गयीं। बिहार में पिछले दो दिनों से करीब 94000 शिक्षकों की बहाली के लिए काउंसिलिंग प्रक्रिया जारी है।

सीटों को भरने के लिए अभ्यर्थी भी थे, लेकिन सिस्टम ने खामियों ने बिगाड़ा खेल

पहले दिन पांच जुलाई को कक्षा VI से VIII तक के लिए नगर निकाय की 390 सीटों के लिए हुई काउंसिलिंग में से 132 खाली रह गयी थीं। यानी दो दिनों में अब तक कुल 1172 सीटों की काउंसिलिंग हुई। इनमें पहले दिन 258 और दूसरे दिन 495 शिक्षक अभ्यर्थियों की नौकरी पक्की हुई जबकि दोनों दिन मिलाकर 419 सीटें खाली रह गयीं। खाली रह गयी कुल सीटों का आंकड़ा करीब 28 फीसद है। ऐसा नहीं है कि इन खाली रह गयी सीटों के लिए उम्मीदवार नहीं थे। इन सीटों के लिए उम्मीदवार थे पर वे व्यवस्था की भेंट चढ़ गये।

यह भी पढ़ें : काउंसिलिंग सेंटर पर मनमानी, कंकड़बाग सेटर पर हंगामा

विज्ञापन

असल में शिक्षा विभाग ने दिन में 11 बजे से शाम साढ़े चार बजे तक काउंसिलिंग करने की व्यवस्था बनायी है। पर काउंसिलिंग सेंटर के प्रबंधन की मनमानी के चलते अभ्यर्थी एक ही सेंटर पर बंधक बन कर रह जाते हैं। यह जानते हुए भी कि वहां मौका नहीं मिलेगा अभ्यर्थियों को एक बार काउंसिलिंग सेंटर में प्रवेश कर जाने के बाद बाहर निकलने नहीं दिया जाता है। जबकि उन्हें अगर बाहर निकलने दिया जाये तो वे उन जगहों पर जहां उनका नाम पीछे है, जाकर भाग्य आजमा सकते हैं।

अभ्यर्थियों के लिए सबसे कष्टदायी है कि वे एक सेंटर से दूसरे सेंटर पर जब जाते हैं तो काउंसिलिंग का समय खत्म नहीं होने और सीट खाली रहने के बावजूद यह कहकर चलता कर दिया जाता है कि 11 बजे के बाद एंट्री नहीं मिलेगी।

राज्य के कुल 28 जिलों के 68 नगर निकायों में काउंसिलिंग

मंगलवार को राजधानी पटना में 65 में से 30 सीटें खाली रह गयीं। पूर्णिया में 77 में से 34, अररिया में 28 में से 17, बेगूसराय में 42 में से 16, पूर्वी चंपारण में 40 में से 20, गया में 27 में से 10, कटिहार में 29 में से 13, किशनगंज में 14 में से 9, सीतामढ़ी में 55 में से 15, वैशाली में 68 में से 34 और पश्चिम चंपारण में 54 में से 22 सीटें खाली गयीं। इसके अलावा अन्य जिलों में भी सीटें खाली रहीं। मंगलवार को राज्य के कुल 28 जिलों के 68 नगर निकायों में काउंसिलिंग का कार्य किया गया।

इसे भी पढ़ें : 2390 प्रखंड शिक्षकों की भर्ती के लिए काउंसिलिंग आज

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored