Header 300×250 Mobile

भागलपुर-बांका रेलखंड पर मार्च से बिजली से दौड़ेंगीं ट्रेनें

- Sponsored -

256

- sponsored -

- Sponsored -

भागलपुर (voice4bihar desk)। भागलपुर-बांका रेलखंड पर मार्च से बिजली से ट्रेन दौड़ने लगेगी। इस रेलखंड पर विद्युतीकरण का काम तेजी से चल रहा है। टिकानी से भागलपुर के बीच तार खींचने का काम पूरा कर लिया गया है। फरवरी में विद्युतीकरण का सीआरएस निरीक्षण कराने की योजना है। इसकी तैयारी जोर शोर से चल रही है। लक्ष्य है कि मार्च तक इस रूट पर बिजली से ट्रेनें दौड़ने लगेंगीं।

भागलपुर – दुमका रेलखंड पर भी टिकानी से भागलपुर के बीच विद्युतीकरण का काम पूरा कर लिया गया है। योजना है कि दुमका से पहले देवघर रूट पर इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेनें चलायी जाय। इसके लिए बांका रेलखंड पर तेजी से काम कराया जा रहा है। देवघर से बांका तक आसनसोल डिवीजन से काम चल रहा है। अगर आसनसोल डिवीजन का काम पूरा नहीं होता है तो भागलपुर से बांका तक सीआरएस निरीक्षण कर बिजली पर ट्रेन चला दी जाएगी।

विज्ञापन

इधर, भागलपुर-दुमका रेलखंड पर दुमका की तरफ से भी काम चल रहा है। लक्ष्य रखा गया है कि 2021 में भागलपुर-दुमका और भागलपुर-देवघर दोनों रेलखंडों पर विद्युतीकरण का काम पूरा हो जाएगा। इसी लक्ष्य से दोनों सेक्शन में काम भी चल रहा है। विद्युतीकरण के लिए 302 करोड़ का बजट स्वीकृत है। 2016 के बजट में यह राशि स्वीकृत की गई है। दुमका तक विद्युतीकरण पूरा होने के बाद भागलपुर से हावड़ा जाने वाले दोनों रेलखंड पर इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेनें दौड़ने लगेंगीं। साथ ही भागलपुर से जुड़ा हर रेल सेक्शन विद्युतीकृत हो जाएगा।

भागलपुर से चार सेक्शन में ट्रेनें चलतीं हैं। एक भागलपुर-साहिबगंज, दूसरा भागलपुर-दुमका, तीसरा भागलपुर-देवघर और चौथा भागलपुर-किऊल। दो सेक्शन में पिछले साल ही विद्युतीकरण का काम पूरा हुआ है। पहले भागलपुर-किऊल रेलखंड पर विद्युतीकरण का काम पूरा हुआ। इसके बाद भागलपुर-साहिबगंज सेक्शन का काम हुआ। अब भागलपुर-दुमका और भागलपुर-देवधर सेक्शन पर काम होना शेष रह गया है। भागलपुर-टिकानी के बीच विद्युतीकरण का काम पहले हो जाने से रेलवे को माल ढुलाई में भी फायदा होगा।

टिकानी में माल गोदाम होने के कारण ज्यादातर मालगाड़ियों का परिचालन टिकानी तक ही होता है। भागलपुर-टिकानी के बीच या भागलपुर-देवघर रेलखंड पर विद्युतीकरण का काम पहले पूरा हो जाने से उन मालगाड़ियों में डीजल इंजन की जरूरत नहीं होगी, जिसमें भागलपुर में इंजन बदलना पड़ता है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored