Header 300×250 Mobile

केंद्र सरकार का बड़ा ऐलान, वर्ष 2011 में TET पास अभ्यर्थी अब भी बन सकते हैं शिक्षक

बिहार में TET पास अभ्यर्थियों के लिए केन्द्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय का तोहफा

- Sponsored -

418

- sponsored -

- Sponsored -

शिक्षा मंत्रालय ने शिक्षक पात्रता परीक्षा अर्हक प्रमाणपत्र की वैधता अवधि 7 वर्ष से बढ़ाकर आजीवन की

पटना (Voice4bihar news)| केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने बिहार में पहली बार आयोजित TET परीक्षा पास करने वाले उन हजारों छात्रों को सौगात दी है, जिनका शिक्षक नियोजन के लिए अभ्यर्थित्व खत्म हो चुका है। यानि वर्ष 2011 में TET पास करते वाले अभ्यर्थी भी शिक्षक बनने के पात्र होंगे।

विज्ञापन

केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने घोषणा की है कि सरकार ने पूर्व प्रभाव से 2011 से शिक्षक पात्रता परीक्षा अर्हक प्रमाण पत्र की वैधता अवधि 7 वर्ष से बढ़ाकर आजीवन करने का निर्णय लिया है। उन्होंने आगे कहा कि संबंधित राज्य सरकार/केंद्र शासित प्रदेश उन उम्मीदवारों को फिर से वैध/नया टीईटी प्रमाण पत्र जारी करने के लिए आवश्यक कार्रवाई करेंगे, जिनकी 7 वर्ष की अवधि पहले ही समाप्त हो चुकी है।

श्री पोखरियाल ने कहा कि शिक्षण क्षेत्र में करियर बनाने के इच्छुक उम्मीदवारों के लिए रोजगार के अवसर बढ़ाने की दिशा में यह एक सकारात्मक कदम होगा।

उल्लेखनीय है कि शिक्षक पात्रता परीक्षा एक व्यक्ति के लिए विद्यालयों में बतौर शिक्षक नियुक्ति के लिए पात्र होने को लेकर जरूरी योग्यताओं में से एक है। राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) के दिनांक 11 फरवरी 2011 के दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि टीईटी राज्य सरकारें आयोजित करेंगी और टीईटी प्रमाणपत्र की वैधता टीईटी उत्तीर्ण करने की तारीख से 7 वर्ष थी।

 

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT