Header 300×250 Mobile

बाजार मूल्य निर्धारण के लिए सड़क पर उतरे अधिकारी

लॉकडाउन की घोषणा के साथ ही कीमतें बढ़ने का अंदेशा

- Sponsored -

347

- sponsored -

- Sponsored -

रोहतास जिला प्रशासन की ओर से जारी रहेगा अभियान

प्रभारी सिविल सर्जन ने तय की पैथोलॉजिकल जांच की दर

रोहतास से बजरंगी कुमार सुमन की रिपोर्ट

सासाराम (voice4bihar news)। राज्य में लॉकडाउन की घोषणा के साथ ही आम उपभोक्ता वस्तुओं व सेवाओं की कीमतें बढ़ने की आशंका के मद्देनजर प्रशासन अलर्ट हो गया है। पिछले साल लॉकडाउन के दौरान मूल्य वृद्धि के अनुभव को देखते हुए रोहतास जिले के अधिकारी हरकत में आ चुके हैं। मंगलवार को बाजार मूल्य निर्धारण के लिए प्रशासनिक अमला सड़कों पर उतरा तो कारोबारियों में हड़कंप मच गया।

खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी ने की दुकानों की जांच

विज्ञापन

इस दौरान सासाराम में किराना दुकानों सहित पैथोलॉजिकल जांच एवं डॉक्टरों की फीस के मामले में जांच शुरू हो चुकी है। खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति सुचारू है या नहीं तथा उचित मूल्य पर बिक्री हो रही है या नहीं, इसकी जांच कई जगह की गयी। खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी समरेंद्र कुमार के नेतृत्व में जांच अभियान रोहतास जिला मुख्यालय सासाराम के बाजारों में शुरू हो चुका है।

300 रुपये में चेस्ट एक्सरे, 2600 में सिर का सीटी स्कैन

दूसरी तरफ रोहतास के सिविल डॉक्टर सुधीर कुमार के कोरोना संक्रमित हो जाने के बाद प्रभारी सिविल सर्जन के तौर पर कार्यरत डॉ केएन तिवारी भी पूरी तरह मुस्तैद नजर आए। उन्होंने पैथालॉजिकल जांच के लिए जांच दर निर्धारित कर दी है। पैथोलॉजी जांच की निर्धारित दर सार्वजनिक करते हुए सभी जांच घरों को भेजा जा चुका है। इससे मरीजों के परिजनों को काफी राहत मिलेगी तथा जांच की रफ्तार तेज होगी।

ग्राहकों की शिकायत पर बड़ी कार्रवाई को तैयार प्रशासन

अधिकारियों के हरकत में आते हैं बाजार में हड़कंप मचा हुआ है। इस पर सही से अमल हुआ तो आम जन को इसका लाभ अवश्य मिलेगा। जिला प्रशासन के सूत्रों के अनुसार बाजार में मूल्य को लेकर जारी मॉनिटरिंग और जांच शिकायत के आलोक में कार्रवाई का सिलसिला लगातार जारी रहेगा। ग्राहकों के द्वारा लिखित शिकायत के आलोक में बड़ी कार्रवाई के संकेत जिला प्रशासन के सूत्रों ने दिए हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT