Header 300×250 Mobile

वीर कुंवर सिंह के वंशज कुंवर रोहित सिंह की संदिग्ध हालात में मौत

बेटे की मौत पर बौखलायी भाजपा नेत्री पुष्पा सिंह, उनके समर्थकों ने किया अस्पताल में हंगामा

- Sponsored -

254

- sponsored -

- Sponsored -

परिजनों का आरोप- किला में तैनात सुरक्षा बलों ने पीट-पीटकर जान ली

पुलिस ने कहा- शराब के नशे की हालत में अस्पताल लाया गया था रोहित

आरा (Voice4bihar news)। बिहार के महान स्वतंत्रता सेनानी बाबू वीर कुंवर सिंह के वंश से जुड़े कथित रिश्तेदार की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी है। मृत युवक का नाम कुंवर रोहित सिंह (40) बताया जाता है। वह वीर कुंवर सिंह की वंशज सह भाजपा नेत्री पुष्पा सिंह का पुत्र था। जगदीशपुर के रेफरल अस्पताल में रोहित की मौत के बाद आक्रोशित लोगों ने अस्पताल में जोरदार हंगामा करते हुए लाश उठाने से पुलिस को रोक दिया। राजनीतिक परिवार से मृतक का संबंध होने के कारण इस मामले में सियासत भी शुरू हो गयी है। बीजेपी नेत्री पुष्पा सिंह व परिजनों ने सुरक्षाकर्मियों व प्रशासन पर मौत का ठिकरा फोड़ा है।

किला की सुरक्षा में तैनात जवानों से हुआ था विवाद

दरअसल, रोहित की मौत के बाद उसकी मां पुष्पा सिंह मीडिया के सामने आईं और किला में तैनात सुरक्षाकर्मियों पर पीट-पीट कर हत्या करने का आरोप लगाया। बकौल पुष्पा सिंह, सोमवार की रात कुंवर सिंह किला परिसर में लगे सीआईएटी जवानों के साथ रोहित का विवाद हुआ था। देर रात को वह घर लौटा, लेकिन उसी रात को घर से बाहर निकल गया। बाद में सूचना मिली की जगदीशपुर रेफरल अस्पताल में रोहित का इलाज चल रहा है, जहां उसकी मौत हो गयी।

रोहित की मौत के बाद मीडिया के सामने बयान देतीं बीजेपी नेत्री पुष्पा सिंह।
रोहित की मौत के बाद मीडिया के सामने बयान देतीं बीजेपी नेत्री पुष्पा सिंह।

उनका कहना था कि सीआईएटी जवानों ने सोमवार की रात 11:00 बजे तक किला परिसर में एक महिला को बिठा रखा था। कुंवर रोहित उर्फ बबलू ने इसका विरोध किया तो किला में तैनात जवानों ने उसके साथ मारपीट की। पुष्पा सिंह का आरोप है कि किला में तैनात सुरक्षा बलों ने रोहित को बेहरमी से पीटने के बाद अस्पताल पहुंचा दिया था, जहां रोहित ने दम तोड़ दिया।

विज्ञापन

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बुलाने की मांग पर अड़े थे परिजन

दूसरी ओर, रोहित की मौत की सूचना पर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी तत्काल रेफरल अस्पताल पहुंचे। उन्हें देखते ही पुष्पा सिंह व उनके समर्थकों ने हंगामा शुरु कर दिया। आक्रोश बढ़ता देख अस्पताल में भारी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती कर दी गयी। पुलिस के खिलाफ नारेबाजी भी की जा रही थी। हंगामा कर रहे लोग मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को यहां बुलाने और मारपीट करने वाले जवानों पर हत्या की प्राथमिकी दर्ज करने की मांग कर रहे थे। आक्रोश बढ़ता देख स्थानीय थानाध्यक्ष संजीव कुमार, जगदीशपुर एसडीपीओ श्याम किशोर रंजन और एसडीओ सीमा कुमारी को भी आना पड़ा। उसके बाद पोस्टमार्टम के लिये शव को सदर अस्पताल भेजा गया।

क्या कहते हैं डीएसपी श्याम किशोर रंजन

कुंवर रोहित सिंह उर्फ बबलू सोमवार की रात 12 बजे जगदीशपुर के रेफरल अस्पताल में नशे की हालत में अकेले इलाज कराने आया था। डॉक्टर उसका इलाज कर रहे थे, तभी मंगलवार की दोपहर 2 बजे उसकी अचानक तबीयत बिगड़ने लगी। इलाज के दौरान रोहित की मौत हो गई। मृतक के परिजन जो भी आरोप लगा रहे हैं, वह पूरी तरह निराधार है।

रोहित सिंह ने तोड़ी थी वीर कुंवर सिंह की मूर्ति 

डीएसपी ने यह भी बताया कि बाबू वीर कुंवर सिंह का रिश्तेदार बताने वाले और कुंवर सिंह किला परिसर में रहने वाला रोहित सिंह अक्सर किले की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों के साथ शराब के नशे में विवाद करता था। साथ ही कुछ साल पहले उसने किला परिसर में लगी कुंवर सिंह की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया था। मृतक कुंवर रोहित सिंह उर्फ बबलू सुरक्षाकर्मियों के साथ अक्सर मारपीट के मामले में कई बार जेल भी जा चुका है।

क्या कहते हैं एसपी विनय तिवारी

इधर, भोजपुर एसपी विनय तिवारी ने बताया कि किला में तैनात सीआईएटी जवानों पर मारपीट करने का आरोप लगाया जा रहा है। मामले की सीनियर अफसर से जांच करायी जा रही है। मृत युवक के परिजनों के आवेदन पर प्राथमिकी दर्ज की जा रही है। जो भी दोषी होंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। हालांकि एसपी ने युवक को हिरासत में लिये जाने और मारपीट किये जाने की बात से इंकार किया है। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारणों का खुलासा हो सकेगा।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT