Header 300×250 Mobile

खुलासा : ससुराल में चलाता था गन फैक्ट्री, घर लाकर बेचता था असलाहा

बिहार एसटीएफ और मऊ पुलिस ने मिलकर की छापेमारी तो खुला राज

- Sponsored -

566

- Sponsored -

- sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। बिहार एसटीएफ की विशेष टीम ने एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है जो ससुराल में असलाहा बनाता और अपने घर लाकर उसे बेचता था। बिहार एसटीएफ ने उतर प्रदेश पुलिस के सहयोग से मऊ जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र में छापामारी कर दो अवैध मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन करते हुए नौ कुख्यात हथियार तस्करों को गिरफ्तार किया है। पुलिस को प्रारंभिक पूछताछ में पता चला है कि मऊ में हथियारों के पार्ट-पुर्जे बनाये जाते थे। बाद में इन्हें तस्कर बिहार में लाकर एसेंबल कर बेचते थे। हथियारों के पार्ट-पुर्जों को बिहार में लाने के लिए तस्कर अपनी पत्नी और बहन का इस्तेमाल करते थे ताकि पुलिस को उन पर शक न हो।

नौ हथियार तस्कर गिरफ्तार, भारी मात्रा में अर्द्धनिर्मित हथियार बरामद

बिहार में पकड़े गये एक हथियार तस्कर से मिली जानकारी के आधार पर बिहार एसटीएफ ने उत्तर प्रदेश के मऊ में वहां की स्थानीय पुलिस के सहयोग से छापेमारी कर नौ हथियार तस्कारों को गिरफ्तार किया और उनके दो ठिकानों से भारी मात्रा में हथियारों को बनाने में इस्तेमाल आने वाले पार्ट-पुर्जों को बरामद किया। मऊ के एसएसपी सुशील घुले की मानें तो बरामद पार्ट-पुर्जों से 400 असलहों का निर्माण किया जा सकता था।

मऊ में है मो. तबरेज और मो. तनवीर की ससुराल

बिहार एसटीएफ के सूत्रों ने बताया कि मो. तबरेज और मो. तनवीर सहोदर भाई हैं और मुंगेर के रहने वाले हैं। इन दोनों की शादी उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में हुई है। दोनों भाई अपनी ससुराल में अन्य अभियुक्तों के साथ मिलकर मिनी गन फैक्ट्री चला रहे थे। मऊ के एसएसपी सुशील घुले ने बताया कि शहर के कोतवाली थाना क्षेत्र में स्थित दो घरों में मिनी गन फैक्ट्री का संचालन किया जा रहा था। इन्होंने घर में बने बाथरूम के रास्ते अंडरग्राउंड कमरा बना रखा था जहां मिनी गन फैक्ट्री चल रही थी।

विज्ञापन

एक दशक से इस धंधे से जुड़ा है तनवीर आलम

गिरफ्तार तनवीर आलम के विरूद्ध मऊ के कोतवाली थाने में कांड सं. 1857/2011, धारा 3/5/7/25/27 arms act दर्ज है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि तनवीर करीब एक दशक से इस धंधे से जुड़ा हुआ है। तनवीर आलम मुंगेर जिले के कासिमबजार थाने के हजरतगंज का रहने वाला है। तनवीर का भाई तबरेज फिलहाल गिरफ्त से बाहर है। हालांकि पुलिस ने उसकी पत्नी शबाना खातून को गिरफ्तार कर लिया है। इन दोनों सहोदर भाइयों के गांव के ही रियाजुल हक, खालिद अंसारी, परवेज आलम और शबनम बानो को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। शबनम बानो तनवीर आलम की पत्नी है।

गिरफ्तार हथियार तस्करों में एक अन्य महिला रुबीना अंसारी हजरतगंज की रहने वाली है। रुबीना वर्तमान में मऊ के उसी घर में रह रही थी जहां गन फैक्ट्री चलायी जा रही थी। वह तनवीर आलम की बहन बतायी जाती है। इसके अलावा पकड़े गये लोगों में भागलपुर जिले के नाथनगर थाने के हसनाबाद का मो. रिजवान भी शामिल है।

मौके से बरामद अवैध निर्मित/अर्द्धनिर्मित आग्नेयास्त्रों में 32 बोर की एक पिस्तौल, 315 बोर की एक देसी पिस्तौल, अर्द्धनिर्मित 7.65 एमएम की 31 देशी पिस्तौल, बिना बैरल के 24 बॉडी, लोहे की 120 पिठिया, लोहे की 23 बाड़ी, लोहे के 165 खाँचे, पिस्टल की लोहे की 354 बैरल, 08 डाई मशीन, लोहे का 99 रॉ मेटेरियल, 03 इलेक्टॉनिक्स वेल्डिंग मशीन / कटर मशीन, 95 सलाइडर, लोहे का 235 फॉर्मा, 05 ड्रिल मशीन, 02 लैपटॉप और काफी मात्रा में अवैध शस्त्र बनाने वाले अन्य उपकरण इस संदर्भ में उत्तर प्रदेश के मऊ के कोतवाली थाने में कांड सं. 149/21 दर्ज किया गया है।

खगड़िया में भी चल रही थी मिनी गन फैक्ट्री

इस बीच, बिहार एसटीएफ की विशेष टीम ने खगड़िया जिला के मोरकाही थाना क्षेत्र में छापामारी कर मिनी गन फैक्ट्री का उदभेदन करते हुए मुंगेर के थाना मुफसिल, सा. मिर्जापुर के कुख्यात हथियार तस्कर मो. खुर्शीद को गिरफ्तार किया है। उसके पास से 05 पिस्टल सेट, 7.65 एमएम की 05 गोली, 04 ड्रील मशीन, 01 लेथ मशीन, 01 मैगजीन फॉर्मा, मैगजीन बनाने की 12 साइकिल पाइप सहित काफी मात्रा में अवैध शस्त्र बनाने वाले अन्य उपकरण एवं शराब बनाने का अन्य सामान बरामद किया गया है।

सीतामढ़ी का कुख्यात पटना में धराया

बिहार एसटीएफ ने अपने अभियान के तहत पटना पुलिस के सहयोग से सीतामढ़ी जिला के कई कांडों में वांछित कुख्यात अपराधकर्मी राजू कुशवाहा उर्फ राजू सिंह को रूपसपुर थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। सीतामढ़ी के सोनबरसा थाने के कोहबरवा के रहने वाले राजू कुशवाहा के खिलाफ परिहार थाना कांड सं. 55/15, धारा 395 भादवि, सोनबरसा थाना कांड सं. 106/17, धारा 392 भादवि, सोनबरसा थाना कांड सं. 25/17, धारा 379 भादवि, सोनबरसा थाना कांड सं. 42/18, धारा 392 भादवि और पुनौरा थाना कांड सं. 80/21, धारा 395 भादवि दर्ज है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT