Header 300×250 Mobile

पैराल पर बाहर आये प्रभुनाथ सिंह के भाई पर फिर दर्ज हुई एफआईआर

300 वाहनों में बारात भरकर पहुंचे रांची, सीओ ने दर्ज करायी एफआईआर

- Sponsored -

411

- sponsored -

- Sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। भतीजे की शादी के नाम पर पैरोल पर छूटे प्रभुनाथ सिंह और उनके भाई नयी मुसीबत में फंसते दिख रहे हैं। शादी में अनुमति से अधिक लोगों का जमावड़ा लगाने के आरोप में प्रभुनाथ सिंह के भाई दीनानाथ सिंह और उनके नये समधी पर रांची के बरियातु थाने में एफआईआर दर्ज हो गयी है।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

रांची में शादी संपन्न करवा कर प्रभुनाथ सिंह और के भाई दीनानाथ सिंह वापस अपने घर मशरख लौट आये हैं पर अब उन्हें पैरोल टूटने का अंदेशा सता रहा है। खबर है कि इस मामले की शिकायत मशरख के पूर्व विधायक तारेश्वर प्रसाद सिंह रांची हाईकोर्ट से कर सकते हैं ताकि प्रभुनाथ सिंह और उनके भाई दीनानाथ सिंह की पैरोल रद्द हो और वे दोनों वापस झारखंड की जेल पहुंच जाएं।

1996 में मशरख के तत्कालीन विधायक की दोनों भाइयों कर दी थी हत्या

बता दें कि इन दोनों भाइयों ने वर्ष 1996 में पटना के एमएलए फ्लैट में मशरख के तत्कालीन विधायक अशोक सिंह की हत्या कर दी थी। हत्या का यह मुकदमा झारखंड में चला था जिसमें दोनों को आजीवन कारावास की सजा सुनायी गयी थी। दोनों भाई इसी मामले में झारखंड की जेल में आजीवन सजा भुगत रहे हैं। दोनों भाइयों को इस मामले में रांची हाईकोर्ट से भी फिलहाल राहत नहीं मिली है।

विज्ञापन

नौ मई को तिलक और 14 मई को हुई है प्रभुनाथ के भतीजे की शादी

इस बीच, प्रभुनाथ सिंह के भतीजे और दीनानाथ सिंह के पुत्र अभिषेक सिंह उर्फ टुटु का नौ मई को छपरा के मशरख में तिलक और रांची में 14 मई को शादी होना तय हुआ। इसी शादी के नाम पर रांची हाईकोर्ट ने दोनों भाइयों को इस महीने के पहले हफ्ते में एक महीने के पैरोल पर रिहा किया था। नौ मई को तिलक समारोह छपरा के मशरख में शांतपूर्वक संपन्न हो गया। पर, जब 14 मई को प्रभुनाथ सिंह करीब 300 वाहनों में बारात भरकर रांची के बरियातु पहुंचे तो आसपास में इसकी चर्चा होने लगी।

झारखंड में लागू स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के दौरान शादियों में कुल मिलाकर सिर्फ 50 लोगों के जमा होने की अनुमति है पर यहां तो 300 वाहनों में केवल बारात आयी थी। आसपास के लोगों का कहना है कि कुल 1000 से अधिक लोगों का जमावड़ा बरियातु के गीतांजलि मैरेज हॉल में लगा था जहां प्रभुनाथ सिंह के भतीजे अभिषेक की शादी हुई। गीतांजलि मैरेज हॉल रांची के मोरहाबादी के बोडेया रोड में स्थित है।

मामला जब सुर्खियों में आया तो जिला प्रशासन ने सीओ को इसकी जांच का आदेश दिया। सीओ वीरेंद्र कुमार साहू ने जांच के बाद 16 मई को बरियातु थाने में स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के दौरान लागू महामारी एक्ट का उल्लंघन करने के आरोप में मामला दर्ज करा दिया। दीनानाथ सिंह, उनके नये समधि प्रमोद कुमार सिंह और गीतांजलि मैरेज हॉल के मालिक विनोद गोप सहित 65 अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गयी।

सीओ ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा है कि शादी समारोह में लॉकडाउन के नियमों की धज्जियां उडाई गयी। शादी में तय संख्या से काफी ज्यादा तादादा में लोग शामिल हुए। इस दौरान न शारीरिक दूरी का ख्याल रखा गया औऱ ना ही मास्क लगाने के नियम का पालन किया गया। बता दें कि झारखंड में 27 मई तक स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह लागू है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored