Header 300×250 Mobile

ऑक्सीजन के नाम पर दिल्ली के मरीजों से ऑनलाइन करते थे ठगी

दिल्ली पुलिस ने राजधानी पटना के दानापुर से दो शातिरों का दबोचा

- Sponsored -

396

- sponsored -

- Sponsored -

पटना (voice4bihar desk)। बिहार की राजधानी पटना में बैठकर देश की राजधानी दिल्ली के मरीजों और उनके परिजनों से ऑक्सीजन के नाम पर ऑनलाइन ठगी करने वाले दो शातिरों को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली पुलिस ने यह कार्रवाई पटना से सटे दानापुर के तकियापर मुहल्ले में बिहार की आर्थिक अपराध इकाई के सहयोग से किया है। इस संबंध में दिल्ली पुलिस ने 23 अप्रैल को प्राथमिकी दर्ज की थी। पकड़े गए बदमाशों में किशन और समीर खान है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि पकड़े गये शातिरों ने सोशल साइट्स पर मैसेज वायरल कर रखा था जिसमें कहा गया था कि दिल्ली के इंदिरापुरम और अन्य इलाकों में किसी को ऑक्सीजन सिलेंडर चाहिए तो दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क करें। कोरोना महामारी में दिल्ली में ऑक्सीजन की किल्लत से जूझ रहे लोगों ने जब इनके नंबर संपर्क किया तो इन लोगों ने कई लोगों से ऑक्सीजन सिलिंडर देने के नाम पर अपने बैंक अकाउंट में लाखों रुपए जमा करवा लिए। पैसे लेने के  बाद ये लोग अपना मोबाइल स्विच ऑफ कर लेते थे।

इस ठगी की जानकारी कुछ पीड़ितों ने दिल्ली पुलिस को दी। शिकायत मिलने के बाद जब दिल्ली पुलिस ने मामले की जांच शुरू की तो दानापुर के ठगों के बारे में पता चला। इस सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने स्पेशल केस संख्या 114/21 दर्ज की है।

विज्ञापन

कोलकाता का फर्जी नाम-पता बताकर लिया है सिम

दिल्ली पुलिस के सूत्रों का कहना है कि ये लोग इतने शातिर हैं कि ठगी करने के लिए कोलकाता से फर्जी नाम पर सिम ले रखा था। जब दिल्ली पुलिस की टीम ने इनके दिए नंबरों की पड़ताल की तो पता कोलकाता का निकला लेकिन जब लोकेशन की जांच की तो बिहार का मिला। इसके बाद दिल्ली पुलिस के अधिकारी ने बिहार की आर्थिक अपराध इकाई के एडीजी नैयर हसनैन खान से बात की। फिर दिल्ली पुलिस की टीम पटना पहुंची।

बिहार आर्थिक अपराध इकाई और दिल्ली पुलिस की टीम ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए इन बदमाशों को पटना से सटे दानापुर के तकिया पर इलाके से धर दबोचा। ये लोग दानापुर में ही बैठकर दिल्ली के लोगों से ऑक्सीजन के नाम पर ठगी करते थे । पुलिस ने इनके पास से कई एटीएम कार्ड, पासबुक, चेकबुक, पैनकार्ड आदि जब्त किया है। जांच में यह बात सामने आई की इन लोगों ने ऑक्सीजन देने के नाम पर कई लोगों से पांच लाख से अधिक रुपये ठगे हैं।

गौरतलब है कि आपदा में अवसर तलाशने वाले जालसाज लोगों से ऑक्सीजन और रेमडेसिविर  इंजेक्शन के नाम पर ठगी कर रहे हैं । इसी संदर्भ  में आर्थिक अपराध की टीम पिछले दिनों शेखपुरा नवादा और नालंदा से छापेमारी कर दो दर्जन लोगों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज चुकी है । आर्थिक अपराध इकाई के एडीजी नैयर हसनैन खान ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ये लोग  साइबर अपराधी हैं । कोरोना महामारी के समय ऑक्सीजन और दवाइयों के नाम पर लोगों से ठगी कर रहे हैं ।  ऐसे लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा है l

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored