Header 300×250 Mobile

सीवान सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष रामायण चौधरी शराब तस्करी के मामले में गिरफ्तार

तीन महीने पुराने मामले में मैरवा थाने की पुलिस ने की कार्रवाई

- Sponsored -

280

- Sponsored -

- sponsored -

सीवान (voice4bihar desk)। राजनीतिक रसूख वाले सीवान सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष रामायण चौधरी को शराब तस्करी से जुड़े एक पुराने मामले में मैरवा थाने की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बताया जाता है कि 2020 के विधानसभा चुनाव में वे राजद के टिकट पर गोरियाकोठी से विधानसभा चुनाव लड़ना चाह रहे थे। पर टिकट नहीं मिलने पर वे वहां से निर्दलीय मैदान में उतर गये। बाद में तेजस्वी यादव के मनाने पर उन्होंने अपना नाम वापस लिया और राजद उम्मीदवार को समर्थन दिया।

लालू के दोनों पुत्रों के करीबी हैं रामायण चौधरी

माना जाता है कि राजद नेता और सीवान सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष रामायण चौधरी लालू प्रसाद के बड़े पुत्र तेजप्रताप और तेजस्वी यादव के करीबी हैं। फिलहाल रामायण चौधरी 2022 में एमएलसी का चुनाव राजद के टिकट पर लड़ने की तैयारी में थे पर इसी बीच वे शराब तस्करी के मामले में पुलिस के हत्थे चढ़ गये। रामायण चौधरी को मैरवा थाने की पुलिस ने सितंबर में उनके खिलाफ दर्ज मामले में गिरफ्तार किया है।

तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव के करीबी माने जाने वाले सीवान सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष और राजद नेता रामायण चौधरी को शराब के मामले में मंगलवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। मैरवा थाने में दर्ज शराब के मामले में मैरवा थाना और मुफ्फसिल थाना की पुलिस ने संयुक्त रूप से छापेमारी कर उन्हें गिरफ्तार किया है।

विज्ञापन

23 सितंबर को मिनी ट्रक और कार में पकड़ी गयी थी भारी मात्रा में शराब

पुलिस ने बताया कि 23 सितंबर को मैरवा थाने की पुलिस ने अंग्रेजी शराब से लदे एक ट्रक को बिहार-उत्तर प्रदेश की सीमा पर स्थित धरनी छापर चेक पोस्ट से पकड़ा था। इसमें ट्रक के साथ-साथ सात तस्कर भी मौके से गिरफ्तार किये गये थे। उन्होंने पूछताछ में रामायण चौधरी के यहां शराब की डिलिवरी करने की जानकारी पुलिस को दी थी। गिरफ्तार तस्करों के बयान पर रामायण चौधरी के खिलाफ मैरवा थाने में कांड संख्या 299/21 दर्ज किया गया था।

मैरवा पुलिस ने मुफस्सिल थाने के सहयोग से मंगलवार की सुबह बरहन गोपाल से सीवान सेंट्रल कोआपरेटिव बैंक के चेयरमैन रामायण चौधरी को गिरफ्तार किया। उनकी गिरफ्तारी की सूचना मिलते ही उनके दर्जनों समर्थक उनसे मिलने मैरवा थाने पहुंच गये। पुलिस जहां इसे शराब के मामले में बड़ी कार्रवाई मान रही है वहीं रामायण चौधरी इस प्रकरण को राजनैतिक साजिश बताते दिखे।

थानाध्यक्ष संजीव कुमार ने बताया कि 23 सितंबर को पौने 12 बजे मैरवा पुलिस ने मैरवा के धारनी छापर चेकपोस्ट से एक मिनी ट्रक तथा एक हुंडई कार से भारी मात्रा में शराब बरामद की थी। पुलिस ने सात लोगों को मौके से गिरफ्तार किया था। इनमें दिल्ली के रोहिल्ला के सुरक्षा बिहार निवासी शिवकुमार तथा जीबी नगर के विक्रमा यादव के अलावा ट्रक से पकड़े गए लोगों में जीबी नगर के चांदपुर निवासी राजकिशोर यादव, गोरेया कोठी के जलपुरवा निवासी उमेश कुमार यादव, अरविंद कुमार यादव तथा पटना के बेलछी थाना के बाघटिला निवासी उदय कुमार शामिल हैं।

पूछताछ में इन लोगों ने बताया था कि हरियाणा से कम दाम में शराब उठाकर सिवान के बरहन निवासी रामायण चौधरी को पहुंचाते हैं। पुलिस ने पकड़े गए तस्करों के बयान पर शराब तस्करी के मामले में रामायण चौधरी को भी प्राथमिक अभियुक्त बनाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई थी। अब जाकर पुलिस ने रामायण चौधरी को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी के बाद पुलिस उनकी मेडिकल और कोरोना जांच कराकर कोर्ट में पेश करने की तैयारी में है। हालांकि सितंबर में दर्ज प्राथमिकी में दिसंबर में गिरफ्तारी को लेकर चर्चा छिड़ी हुई है। थानाध्यक्ष संजीव कुमार की मानें तो गिरफ्तारी का प्रयास पुलिस पहले से ही कर रही थी। सीवान को-ऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष पर पहले भी मामले दर्ज हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT