Header 300×250 Mobile

जिला परिषद के जिला अभियंता के घर एवं कार्यालय को विजिलेंस ने खंगाला

अचल संपत्ति में निवेश व इंश्यारेंस के कागजात किये गए जब्त

- Sponsored -

228

- sponsored -

- Sponsored -

  • आय से अधिक संपत्ति मामले विजिलेंस की तीन टीमों ने एक साथ की छापेमारी
  • भारी मात्रा में सोना चांदी व बैंक के कागजात भी ले गयी विजिलेंस टीम
  • सीवान में जिला अभियंता पद से रिटायरमेंट के बावजूद अनुबंध पर कर रहे नौकरी

सीवान (voice4bihar desk) । आय से अधिक संपत्ति के मामले में रविवार को विजिलेंस की तीन टीमों ने सीवान जिला परिषद के जिला अभियंता धनंजय मणि तिवारी के घर एवं जिला परिषद स्थित कार्यालय में एक साथ छापामारी की । सुबह 10:00 बजे से शुरू हुई छापेमारी देर रात तक चलती रही । इस दौरान विजिलेंस की टीम ने जिला अभियंता धनंजय गणि तिवारी के घर एवं कार्यालय से संपत्ति निवेश व इंश्योरेंस के कागजात, काफी मात्रा में सोने-चांदी के अलावा एटीएम, पासबुक सहित कई सामान की जांच की एवं जप्त किया ।

विज्ञापन

बताया जाता है कि जिला अभियंता धनंजय मणि तिवारी लंबे समय से इस पद पर बने हुए हैं। यहां तक कि वे कुछ समय पूर्व ही जिला परिषद के जिला अभियंता पद से सेवा निवृत्त हुए थे, लेकिन फिर 11 महीने के लिए अनुबंध पर उनकी नियुक्ति कर ली गयी है । ऐसा तब हुआ जबकि इसके पूर्व भी जिला अभियंता पर जांच चल रही है । माना जा रहा है कि रिटायमेंट के बाद भी श्री तिवारी के पुन: नियोजन में कुछ लोचा जरुर है।

सीवान जिला परिषद के जिला अभियंता के कार्यालय की जांच करती विजिलेंस की टीम।

छापेमारी के दौरान विजिलेंस के डीएसपी ने बताया कि 19 फरवरी को जिला अभियंता धनंजय मणि तिवारी के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज कराया गया है जिसे लेकर जांच को जा रही है । गौरतलब है कि धनंजय मणि तिवारी पर पहले से भी जांच चल रही है। दूसरी ओर छापेमारी को पूर्व के विवाद से जोड़ते हए जिला अभियंता धनंजय मणि तिवारी ने बताया कि जिला परिषद के अध्यक्ष तथा अन्य लोगों से उनका विवाद चल रहा है और उनको बदनाम करने के लिए झूठा कंप्लेंट किया गया है ।

 

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored