Header 300×250 Mobile

62 हजार रुपये जाली नोट के साथ दो सप्लायर गिरफ्तार

अररिया जिले के फारबिसगंज में दबोचे गए पूर्णिया के दो युवक

- Sponsored -

243

- sponsored -

- Sponsored -

सीमांचल में फैलता जा रहा जाली नोट का गोरखधंधा

जोगबनी (voice4bihar news)। भारत-नेपाल के सीमावर्ती क्षेत्रों समेते पूरे सीमांचल में जाली नोटों का कारोबार फैलता जा रहा है। इधर सुरक्षाबलों की मुस्तैदी के कारण सौदागरों ने भी रणनीति बदल दी है। जाली नोट के कारोबारी अब बड़े नोट की बजाए छोटे नोटों को बाजार की खपाने की कोशिश कर रहे हैं।  जिसके लिए तस्करों द्वारा भीड़ भाड़ वाले इलाकों को अपना निशाना बनाया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ इनका लक्ष्य अब ग्रामीण क्षेत्रों तक जाली नोट को खपाना है।

भारी मात्रा में नकली नोट खपाने की तैयारी

विज्ञापन

बुधवार को अररिया जिले के जोगबनी स्थित सुभाष चौक स्थित बस स्टैंड से जाली नोटों के साथ पकड़े गए दो युवकों ने यह चौंकाने वाला खुलासा किया है।  इस संबंध में जानकारी देते हुए फारबिसगंज डीएसपी रामपुकार सिंह ने  कहा कि पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि सुभाष चौक स्थित बस स्टैंड में जाली नोट की डिलिवरी होनी है। सूचना के आधार पर पुलिस के द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए पूर्णिया जिले के कसमरा धमदाहा निवासी संतोष मंडल व वरनेश्वर बड़हरा निवासी सोनू पीकेराजा को गिरफ्तार किया गया।

तस्करों के पास से बरामद नोट व गोरखधंधे की जानकारी देते डीएसपी।

     अब 2000 व 500 के नोटों की बजाए छोटे नोट सप्लाई कर रहे सौदागर

डीएसपी ने बताया कि हिरासत में लिए गए दोनों युवकों की तलाशी की दरम्यान उनके पास से 62 हजार दो सौ रुपये बरामद किये गए हैं। चौंकाने वाला तथ्य यह है कि आम तौर पर दो हजार व पांच सौ की भारतीय करेंसी सप्लाई की बात देखने को मिलती है, लेकिन इस बार पकड़े गए नोटों में 100 व 50 के नोट शामिल हैं। डीएसपी सिंह ने बताया कि हिरासत में लिए गए आरोपी के द्वारा पूछताछ के आधार पर जाली नोट के कारोबारी की पहचान कर गिरफ्तारी के लिये छापेमारी की जा रहा है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT