Header 300×250 Mobile

भारत-बांग्लादेश के बॉर्डर पर पकड़ा गया शख्स हो सकता है चीनी जासूस

लखनऊ एटीएस ने पहले ही इसके खिलाफ दर्ज किया है एफआईआर

- Sponsored -

362

- sponsored -

- Sponsored -

अवैध रूप से भारत की सीमा में घुसने की कोशिश करते वक्त बीएसएफ ने दबोचा

राजेश कुमार शर्मा की रिपोर्ट

जोगबनी (voice4bihar news)। भारत-बांग्लादेश बॉर्डर पर पकड़ा गया चायनीज नागरिक चीनी जासूस हो सकता है। सुरक्षा एजेंसियों को शक है कि यह किसी बड़ी साजिश के साथ भारत आया होगा। जांच एजेंसियां यह पता लगा रही हैं कि क्या पकड़ा गया चीनी नागरिक वहां की इंटेलीजेंस एजेंसी के लिए काम कर रहा था?

बता दें कि नेपाल से सटे पश्चिम बंगाल में भारत-बांग्लादेश बॉर्डर पर गुरुवार को एक चीनी नागरिक को बीएसएफ के जवानों ने गिरफ्तार किया है। हिरासत में लिए गए आरोपी की पहचान 35 वर्षीय हान जुनवे के रूप में हुई है। बताया जाता है कि यह चीन के हुबेई का निवासी है ।

भारत का वांटेड अपराधी है हान जुनवे, अब चीनी जासूस होने का शक

बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के मुताबिक हान भारत के लिए एक वांटेड अपराधी है। इसके भारत के सम्पर्क की जांच की जा रही है। जांच में यह जानकरी सामने आई है कि वह पहले भी चार बार भारत आ चुका था। दिल्ली के एनसीआर गुडगांव स्थित स्टार स्प्रिंग नामक उसका एक होटल है। जहां काम करने वाले कुछ लोग चाइनीज और बाकी भारतीय हैं।

दो जून को बिजनेस वीजा पर पहुंचा था ढाका

सुरक्षा एजेंसियों के पूछताछ में हान ने बताया है कि वह इससे पूर्व 2 जून को बिजनेस वीजा पर ढाका पहुंचा था, जहां अपने चाइनीज दोस्त के पास ठहरा था। फिर वह 8 जून को बांग्लादेश के चपाइ नवाबगंज जिले के सोना मस्जिद पहुंच कर वहां एक होटल में रुका। इसके बाद भारत-बांग्लादेश बॉर्डर की तरफ बढ़ गया।

विज्ञापन

बिजनेस पार्टनर उपलब्ध करता था भारतीय सिमकार्ड

पूछताछ में हान ने कई अहम जानकारी देते हुए कहा कि इसके बिजनेस पार्टनर सुन जियांग कुछ दिनों के अंतराल पर 10-15 भारतीय सिम कार्ड हुबेई भेज दिया करता था, जिसे हान व इसकी पत्नी रिसीव करती थी, लेकिन कुछ दिनों पहले सुन को लखनऊ एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया। सिम कार्ड चाइना भेजने के मकसद पर सुरक्षा एजेंसियों को शक है।

लखनऊ एटीएस को भी थी तलाश

हान ने पूछताछ में बताया है कि लखनऊ एटीएस ने इसके व इसकी पत्नी के ऊपर मामला दर्ज किया है, जिस कारण भारत से भारतीय वीजा लेना सम्भव नहीं था। जिस कारण बांग्लादेशी व नेपाली वीजा लेकर भारत में दाखिल होने की योजना थी। वही बीएसफ की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि हान पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में स्थित मलिक सुल्तानपुर पोस्ट के पास गुरुवार सुबह सात बजे पकड़ा गया है। वह काली स्वेटशर्ट, ट्राउजर और जूते पहने हुए था।

वह अवैध रूप से बॉर्डर क्रॉस करने की कोशिश कर रहा था। इस दौरान जवानों ने रुकने के लिए कहा तो उसने भागने की कोशिश की लेकिन सुरक्षाबलों ने उसे पकड़ लिया। सुरक्षाबलों ने एक वीडियो भी जारी किया है जिसमें हान कह रहा है कि वह गलती से भारत में घुस आया और अब लखनऊ एटीएस के सामने सरेंडर करना चाहता है। उसका कहना है कि वह पिछली बार ई-कॉमर्स बिजनेस के सिलसिले में भारत आया था।

तीन देशों की मुद्रा और सिम कार्ड बरामद

हान के पास एक चाइनीज पासपोर्ट, एपल मैकबुक, दो आईफोन, बांग्लादेश और भारत के एक-एक सिम कार्ड, दो चाइनीज सिम कार्ड दो पेन ड्राइव, तीन बैटरी, दो छोटी टॉर्च, दो एटीएम, कुछ अमेरिकी डॉलर, बांग्लादेशी टका और भारतीय रुपए मिले हैं।

सुरक्षा एजेंसियों का कहना है कि हान के पास मिले इलेक्ट्रोनिक उपकरणों से कई ऐसे फैक्ट मिल सकते हैं जिनसे पता चले कि वह चीन की किस इंटेलीजेंस एजेंसी के लिए भारत में काम कर रहा था। हान का पकड़ा जाना बड़ी कामयाबी मानी जा रही है। इस मामले की जांच में कई चौंकाने वाले खुलासे हो सकते हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored