Header 300×250 Mobile

बिहार में भी दिखेगा ‘याश चक्रवात’ का असर, भारी बारिश के साथ होगा वज्रपात

मौसम विभाग ने 'याश चक्रवात' के संबंध में बिहार के लिए जारी की चेतावनी

- Sponsored -

504

- Sponsored -

- sponsored -

आगामी 26 एवं 27 मई को बिहार के कई जिलों में मध्यम से भारी वर्षा होने का अनुमान

 मुख्य रूप से ओडिशा, पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों को प्रभावित करेगा याश चक्रवात

पटना (voice4bihar news) । भारत मौसम विज्ञान विभाग ने ‘याश चक्रवात’ के संबंध में ओडिशा व पश्चिम बंगाल के साथ ही बिहार के लिए भी चेतावनी जारी कर दी है। मौसम विभाग ने चेताया है कि बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र चक्रवात में बदल गया है। यह बहुत ही गंभीर ‘याश चक्रवाती तूफान’ के रूप में 26 मई को पश्चिम बंगाल और उड़ीसा के तट को पार करेगा। अगले 24 घंटों के दौरान ही गंभीर तूफान में परिवर्तित हो जाएगा।

मौसम विभाग का अनुमान है कि 26 मई की शाम तक इस गंभीर याश चक्रवाती तूफान के पारादीप के बीच उत्तर उड़ीसा और पश्चिम बंगाल को जाने की संभावना है। चक्रवात के कारण अधिकतम 55 से 65 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलेगी। हवा की इतनी रफ्तार जान-माल को क्षति पहुंचा सकती है। इस चक्रवात का रूख पश्चिम की ओर उत्तरोत्तर होगा।

बिहार में 27-30 मई तक अलर्ट रहने की चेतावनी

बिहार में याश तूफान 27 से 30 मई तक रहने की चेतावनी जारी की गई है। इस दौरान तेज हवा के साथ तेज या हल्की बारिश, बिजली कड़कने, चमकने व वज्रपात जैसी घटनाएं बिहार के अधिकतर जिलों में हो सकती है। बिहार के मध्य और दक्षिणी इलाकों में 24 से 28 घंटे तक हल्की से तेज वर्षा की संभावना है। 27 मई 28 मई को पूरे राज्य में बिजली कड़कने की घटनाएं सामने आ सकती हैं। इस दौरान बिजली की आपूर्ति में बाधा पहुंचने के साथ ही कई जगह जलजमाव एवं बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

विज्ञापन

अगले चार दिनों तक मौसम रहेगा खराब, घरों में ही रहने की सलाह

मौसम विभाग ने चेताया है कि आंधी व तेज बारिश के कारण आवागमन बाधित हो सकता है। इसलिए ‘याश ‘ चक्रवात को देखते हुए सभी जिला अधिकारी अपने जिले के वाशिंदों को अलर्ट करते हुए इस दौरान अपने अपने घरों में ही रहने की एडवायजरी जारी करें। साथ ही सभी तरह की आवश्यक सावधानी बरतने की अपील करें।

अगले 5 दिनों में तेज हवा के साथ होगी मध्यम से तेज वर्षा

दूसरी ओर बिहार के समस्तीपुर स्थित डॉ राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा की ग्रामीण कृषि मौसम सेवा एवं भारत मौसम विज्ञान विभाग के सहयोग से जारी मौसम पूर्वानुमान में कहा गया है कि अगामी 29 मई तक की अवधि में मध्यम से भारी वर्षा की संभावना है। डीआरपीसीएयू के मौसम विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार बंगाल की खाड़ी पर एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है जो एक बहुत बड़ा गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल रहा है।

यह तूफान मुख्य रूप से ओडिशा, पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों को प्रभावित करेगा। चक्रवाती तूफान के प्रभाव के कारण अगामी 26 एवं 27 मई को उत्तर बिहार के अधिकांश जिलों में मध्यम से भारी वर्षा होने की सम्भावना है। एवं इस दौरान आकाशीय बिजली गिरने की भी आशंका है। वहीं 27 से 26 मई के बीच भारी वर्षा की सम्भावना है। वर्षा के दौरान करीब 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की भी संभावना है।

यह भी देखें : याश तूफान के चलते कई जोड़ी ट्रेनों का परिचालन रद्द

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT