Header 300×250 Mobile

जैक के सहारे छत उठाते वक़्त गिरा मकान, 3 मजदूरों की मौत

पंजाब के लुधियाना में हुआ दर्दनाक हादसा मरने वाले तीनों मजदूर फारबिसगंज के

- Sponsored -

302

- sponsored -

- Sponsored -

ठेकेदार मोहम्मद हारून व फैक्ट्री मालिक जसविंदर सिंह पर गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज

जोगबनी (voice4bihar news)| पंजाब के लुधियाना में बाबा मुकंद सिंह नगर में सोमवार को पुरानी फैक्टरी की दूसरी मंजिल के लेंटर को जैक के सहारे ऊपर उठाते वक्त अचानक एक धमाके के साथ पहली मंजिल की छत गिर गई , जिसमें कार्य कर रहे फारबिसगंज के तीन मजदूरों की दबने से मौत हो गई।

बताया जाता है कि मकान को जैक के सहारे ऊपर उठाने के इस कार्य मे 44 मजदूर लगे थे। हादसे के बाद सभी मजदूर इसमे दब गए जिसमें फारबिसगंज प्रखण्ड के खवासपुर के तीन मजदूरों की मौत हो गई जबकि 41 मजदूरों को निकालने की बात स्थानीय प्रशासन ने कही है। मलबे में दबने से हुई मौत हुई मजदूर की पहचान खबासपुर वार्ड संख्या सात के 50 वर्षीय मो खुर्शीद, 42 वर्षीय मो मुस्तकीम व 30 वर्षीय मो शमशुल के रूप में हुई है।

मजदूरों की मौत की खबर के बाद पूरे गांव में मातम पसरा है बताया गया है कि  सभी मजदूर पंद्रह बिस दिन पूर्व ही फारबिसगंज से ठेकेदार के मार्फ़त मजदूरी करने पंजाब गए थे। ग्रामीणों के मुताबिक इस गांव के सौ से ज्यादा लोग पंजाब में जुगाड़ टेक्नोलॉजी से मकान बनाने और मकान को उठाने आदि का काम करते हैं।  मगर तीन की मौत और 35 के घायल होने के बाद गांव में अफरातफरी का  माहौल है। मृतकों के घरों में परिजनों के चित्कार से माहौल गमगीन है।

डीसी वरिंदर शर्मा ने कहा ठेकेदार व फैक्ट्री मालिक पर मामला दर्ज

मिली जानकारी के अनुसार मृतक मजदूर लुधियाना में काकोवाल रोड पर रह रहे थे।
पुलिस ने फैक्टरी मालिक जसविंदर सिंह व लेंटर उठाने वाले ठेकेदार मोहम्मद हारून के खिलाफ गैर-इरादतन हत्या की धारा के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

विज्ञापन

राहत व बचाव कर्मी

छत उठाने में लगे थे 44 मजदूर

मिली जानकारी के अनुसार मुकंद सिंह नगर में जसमेल सिंह एंड संस की पुरानी फैक्टरी है। पिछले कुछ दिनों से फैक्टरी की दूसरी मंजिल का लेंटर को ऊपर उठाने का काम ठेकेदार मोहम्मद हारून के द्वारा किया जा रहा था। सोमवार को जैक से लेंटर उठाने में 40 से मजदूर काम में जुटे थे कि अंतिम चरण में आकर लगभग सारा काम पूरा हो चुका था और अंतिम चरण का काम चालू था कि फैक्टरी के पहली मंजिल की छत नीचे गिर गई इसके साथ ही दूसरी मंजिल भी गिर गई ।

किसी ने नहीं की थी कल्पना

हादसे के बाद मलबे से निकाले गए मजदूर मुजाहिद ने फोन पर बताया कि उसका भाई शमशूल उसकी आंख के आगे ही पलक झपकते मौत के आगोश में समा गया। मुजाहिद ने बताया कि वह लेंटर उठाने का काम करता है। सोमवार को सुबह के समय जैक के जरिये लेंटर को ऊपर उठाया जा रहा था।

अचानक पहली मंजिल की छत गिर गई वह किनारे पर था इसलिए इसके ऊपर कम मलबा गिरा और लोगों ने उसे बाहर निकाल लिया। वहीं मलबे से निकले जिबरैल और मोहम्मद ने बताया कि वह पूरी तरह घबराए हुए हैं, क्योंकि किसी तरह मौत से बचकर निकले हैं। घटना के बाद पूरे गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है तो परिजनों का रोरो कर बुरा हाल है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT