Header 300×250 Mobile

3000 से कम आबादी वाली ग्राम पंचायतों का बदल जाएगा भूगोल

बिहार में ग्राम पंचायतों का होगा पुनर्गठन, बदलेगा सियासी समीकरण

- Sponsored -

205

- sponsored -

- Sponsored -

  • शहरी निकायों में कई गांवों को शामिल किये जाने के बाद बनाया जाएगा संतुलन
  • छात्राओं को उच्च शिक्षा के लिए बढ़ावा देने की योजना में दोगुनी से भी अधिक राशि मिलेगी
  • स्नातक पास छात्राओं को 50 हजार व इंटर पास छात्राओं को 25 हजार रुपये देगी सरकार

पटना (voice4bihar desk)। राज्य की कई ग्राम पंचायतों के कुछ गांवों को नगर निकाय में शामिल करने के बाद ग्राम पंचायतों का नए सिरे से गठन किया जाएगा। । इस निर्णय से आगामी पंचायत चुनाव में राजनीतिक समीकरण बदलने की पूरी संभावना है। । इसके तहत 91 की जनगणना के अनुसार जिन पंचायतों की आबादी तीन हजार से ज्यादा होगी, वे पंचायतें यथावत बनी रहेंगी । यदि किसी पंचायत की जनसंख्या तीन हजार से कम होगी , तो उसे असपास की पंचायत में जोड़ दिया जाएगा । इस बार पंचायत चुनाव में राजनीतिक दलों के सीधे हस्तक्षेप के दावों के बीच चुनाव काफी दिलचस्प होने की उम्मीद है। मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में इसके अलावा 18 एजेंडों पर मुहर लगाई गयी है।

सुशासन के कार्यक्रम के तहत मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना को लेकर सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत दी जाने वाली राशि दोगुनी और उससे ज्यादा कर दी गयी है । अब राज्य में स्नातक या समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण करने वाली सभी छात्राओं को 50 हजार रुपये और इंटर पास करने वाली अविवाहित छात्राओं को 25 हजार रुपये दिये जायेंगे । इसका लाभ अगले वित्त वर्ष यानि एक अप्रैल 2021 से मिलेगा । उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना के तहत अभी अविवाहित कन्याओं को इंटर उत्तीर्ण करने पर 10 हजार रुपए दिए जाते थे , जबकि स्नातक या समकक्ष उत्तीर्ण होने पर 25 हजार रुपए दिए जाते थे । इस निर्णय का लाभ इंटर पास करने वाली 3.50 लाख व स्नातक पास करने वाली 80 हजार लड़कियों को फिलहाल मिलेगा ।

ऐसा ही निर्णय राज्य सरकार ने ‘मुख्यमंत्री विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना’ के संबंध में भी लिया है। इसक तहत अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को प्रोत्साहन राशि देने के लिए 34 करोड़ रुपये मंजूर किये हैं। इस राशि से 33 हजार 666 छात्र-छात्राओं को लाभ मिलेगा।। इस योजना के तहत प्रथम श्रेणी का स्थान लाने वाले अल्पसंख्यक छात्र – छात्राओं को मैट्रिक में 10 हजार इंटर मे 15 हजार रुपए दिए जाते हैं।

विज्ञापन

रिटायर्ड संविदाकर्मियों को नहीं मिलेगा EPF और ESIC का लाभ

सरकार ने संविदा पर रखे गये रिटायर कर्मियों को EPF और ESIC का लाभ नहीं देने का फैसला किया है । इसके साथ ही कार्यरत कर्मियों की भांति ऐसे संविदा कर्मियों की असामयिक मौत होने पर उन्हें 4 लाख की अनुग्रह अनुदान राशि नहीं दी जायेगी । इसमें सरकार के 31 विभाग और उपक्रमों द्वारा की गयी अनुशंसा के आधार पर यह निर्णय लिया गया है । राज्य के प्रमुख 27 विभागों में आंकड़ों के संग्रह , वर्गीकरण व विश्लेषण के लिए बिहार सांख्यिकी सेवा के सहायक निदेशक ( सांख्यिकी ) और बिहार अवर सांख्यिकी सेवा के सहायक सांख्यिकी पदाधिकारी (अराजपत्रित) के एक – एक पद के सृजन की स्वीकृति दी गयी है । इसी प्रकार राज्य के 41 विभागों में बजट तैयार करने , योजनाओं के सफल कार्यान्वयन और मॉनिटरिंग के लिए योजना एवं विकास विभाग में सहायक निदेशक के 41 और योजना सहायक के 41 पदों के सृजन की स्वीकृति दी गयी है ।

सिपाही भर्ती की लिखित परीक्षा अब 100 अंकों की होगी

बिहार पुलिस में सिपाही के पद पर सीधी भर्ती या चयन प्रक्रिया के लिए लिखित परीक्षा का पाठ्यक्रम संशोधित किया गया है। इसके तहत लिखित परीक्षा अब 100 अंकों की होगी । परीक्षा के लिए दो घंटे का समय निर्धारित किया गया है । परीक्षा में मैट्रिक स्तर के सवाल पूछे जाएंगे और हर सही उत्तर के लिए एक अंक मिलेंगे। इसमें हिंदी , अंग्रेजी , गणित , सामान्य ज्ञान – विज्ञान की परीक्षा ली जाएगी । सामान्य ज्ञान के तहत इतिहास , भूगोल , नारगिक , अर्थशास्त्र आदि से प्रश्न पूछे जाएंगे । सामान्य विज्ञान के तहत भौतिकी , रसायन , वनस्पति विज्ञान , प्राणी विज्ञान से सवाल पूछे जाएंगे । ली गई परीक्षा में अभ्यर्थियों द्वारा दिए गए उत्तर की कार्बन कॉपी एक साल तक सुरक्षित रखी जाएगी ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored