Header 300×250 Mobile

राज्य के स्कूल-कॉलेज व कोचिंग अब 18 अप्रैल तक रहेंगे बंद

मुख्यमंत्री ने किया बड़ा ऐलान, स्कूल व कोचिंग संचालकों का दबाव बेअसर

- Sponsored -

461

- sponsored -

- Sponsored -

प्रशासन को दिया आदेश, सख्ती से कराएं नए निर्देशों का अनुपालन

पटना (Voice4bihar desk)। शुक्रवार को जहां एक तरफ जहां राज्य के प्राइवेट स्कूल संचालकों ने भी कोचिंग वालों की तरह 12 अप्रैल से स्कूल खोलने का ऐलान कर सरकार पर दबाव डाला, वहीं दूसरी तरफ नीतीश सरकार ने बड़ा ऐलान करते हुए अगले 18 अप्रैल तक शिक्षण संस्थानों को बंद रखने का ऐलान कर दिया। सीएम ने प्रशासनिक टीम को इसे सख्ती से लागू करने का आदेश दिया है। इससे पूर्व सरकार ने 11 अप्रैल तक स्कूल व कोचिंग संस्थानों को बंद करने का ऐलान किया था।

गौरतलब है कि प्राइवेट स्कूलों व कोचिंग संचालकों ने आगे स्कूल बंद रखने की आशंका के मद्देनजर सरकार पर काफी दबाव बनाने की कोशिश की। इस बीच बृहस्पतिवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ मंथन के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन की आशंका को खारिज किया था, लेकिन पीएम ने कोरोना कर्फ्यू के नाम से नाइट कर्फ्यू लगाने, टेस्टिंग बढ़ाने, 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव मनाने का सुझाव दिया था।

आला अधिकारियों के साथ बैठक में सीएम ने दी जानकारी

विज्ञापन

इस आलोक में शुक्रवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आलाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि देश-दुनिया में कोरोना तेजी से फ़ैल रहा है। बिहार में भी मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। पटना में भी कोरोना संक्रमण की रफ़्तार तेज है। बिहार के रहने वाले कई लोग बाहर भी हैं. वे लोग भी बाहर से बिहार आ रहे हैं। बिहार सरकार ने पूरी तैयारी कर ली है. सरकार ने रेलवे स्टेशन पर ही टेस्टिंग की व्यवस्था की है. जो लोग पॉजिटिव पाए जायेंगे, उनके इलाज की व्यवस्था की गई है।

11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक मनेगा टीका उत्सव

मुख्यमंत्री ने बताया कि बिहार में आज कुल 17 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हें आइसोलेट किया गया है। बिहार सरकार अधिक से अधिक टेस्ट कराने पर ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा कि 11 अप्रैल से 14 अप्रैल के बीच टीका उत्सव मनाया जायेगा। गौरतलब है कि 11 अप्रैल को महात्मा ज्योतिबा फुले की जयंती है जबकि 14 अप्रैल को बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती है। इस बीच टीका उत्सव मनाने की अपील पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों से की थी।

इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को ही कहा था कि राज्य के बाहर से आने वाले हर व्यक्ति की कोरोना जांच होगी। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी उन्हें कुछ दिनों के लिए अलग रखा जायेगा। सीएम ने कहा कि दुनिया के अन्य देशों की तुलना में कोरोना से होने वाली मृत्यु की दर भारत में कम है। फिर भी हमें सतर्क व जागरुक रहने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें : 12 अप्रैल से प्राइवेट स्कूल खोलने पर अड़े संचालक, क्या करेगी सरकार!

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored