Header 300×250 Mobile

जोगबनी से सटा रानी भंसार नाका आधिकारिक रूप से खुला

दो वर्षों बाद भारत-नेपाल के बीच निर्बाध आवाजाही शुरू, रक्सौल बार्डर भी खोला गया

- Sponsored -

416

- sponsored -

- Sponsored -

सुविधा काट कर भारतीय गाड़ी कर सकते हैं नेपाल में प्रवेश, व्यापारियों में खुशी की लहर

जोगबनी (voice4bihar news)। नेपाल मंत्रिपरिषद की ओर से लिए गए निर्णय के करीब सात दिन बाद शनिवार को भारत-नेपाल बार्डर को निर्बाध रुप से खोल दिया गया। यह सीमा कोरोना काल के कारण करीब दो वर्षों से बंद थी। इसके साथ ही नेपाल से सटी भारत की जोगबनी सीमा पर स्थित रानी भंसार नाका से पूर्व की भांति आवाजाही शुरू हो गयी है। इससे एक दिन पहले यानि शुक्रवार को ही पूर्वी चंपारण जिले में पड़ने वाले रक्सौल बॉर्डर को खोला गया था।

एक सप्ताह बाद अमल में आया नेपाल मंत्रिपरिषद का निर्णय

गौरतलब है कि पिछले दिनों नेपाल मंत्रिपरिषद ने इस आशय का निर्णय लिया था, लेकिन लेकिन कई सीमा नाका को खोलने को लेकर आधिकारिक पत्र समय से नहीं पहुंच पाया। साथ ही व भंसार से समय पर समन्वय स्थापित नहीं होने के कारण नाका खोलने में कई दिनों का वक्त लगा। बहरहाल देर से ही सही सीमा नाका पूर्व की तरह संचालन होने से दोनों देशों के व्यापारियों में खुशी छा गयी है।

इस मौके पर मोरंग (नेपाल) के प्रमुख जिलाधिकारी काशी राज दाहाल ने कहा कि मंत्रिपरिषद के निर्णय के बाद नेपाल के भारत संग जुड़े सभी नाका खोलने को लेकर निर्देश दिया गया था, जिसके आधार पर जिला प्रशासन कार्यालय मोरंग की पहल पर बिराटनगर भंसार कार्यालय प्रमुख, सशस्त्र पुलिस के साथ समन्वय कर रानी नाका को भी खोला गया है।

इसके अंतर्गत शनिवार से भारत से नेपाल आने वाले दो पहिया वाहन, चार पहिया भारतीय वाहन विराटनगर बाजार तक निशुल्क सुविधा रसीद ले कर जा सकते हैं। वही बिराटनगर से बाहर नेपाल के किसी भी स्थान जाने के लिए प्रज्ञापन पत्र को भर राजस्व रसीद ले कर प्रवेश कर सकते है। इसके लिए कोविड गाइड लाइन का पालन करना अनिवार्य होगा।

विज्ञापन

रानी नाका के पास मास्क की जांच करते नेपाल सशस्त्र सीमा बल के जवान।
रानी नाका के पास मास्क की जांच करते नेपाल सशस्त्र सीमा बल के जवान।

देश के दूसरे सबसे बड़े रानी भंसार नाका खुलने से हर्ष

देश के दूसरे सबसे बड़े नाका जोगबनी से भारतीय सवारी-साधन नेपाल में प्रवेश किये जाने के साथ ही जोगबनी व विराटनगर के व्यापारी में खुशी की लहर छाई हुई है। कोविड-19 के असहज स्थिति के कारण अत्यावश्यक के अलावे अन्य भारतीय सवारी साधन नेपाल प्रवेश नहीं कर पाया था।

मंत्रिपरिषद के निर्णय के बाद भारतीय सभी प्रकार के सवारी साधन नेपाल प्रवेश की अनुमति मिलने के बाद नेपाल व भारत के दोनों देश के व्यवसाय क्षेत्र पूर्व की तरह पटरी पर आने की बात भारत नेपाल सामाजिक सांस्कृतिक मंच के अध्यक्ष राजेश कुमार शर्मा ने कही है। मंच के अध्यक्ष ने कहा कि सीमा से सहज स्थिति नहीं होने के कारण नेपाल व भारत के बीच व्यावसायिक कारोबार प्रभावित बना हुआ था।

रानी नाका के पास चला मास्क चेकिंग एवं जागरूकता कार्यक्रम

नेपाल-भारत सीमा रानी-जोगबनी नाका में भारतीय पर्यटक व सवारी साधन से नेपाल आने वालों लोगों के बीच इलाका पुलिस कर्यालय रानी व इसके अंतर्गत के पुलिस चौकी के द्वारा मास्क सहित के सचेतना कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम में इलाका पुलिस कार्यालय रानी प्रमुख प्रकाश राउत के नेतृत्व में किये गए इस कार्यक्रम में सीमा पुलिस चौकी रानी, इलाका पुलिस कार्यालय बुधनगर, अस्थाई पुलिस पोस्ट मटियारुवा व अस्थाई पुलिस पोस्ट रेलवेकी टीम की सहभागति थी।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT