Header 300×250 Mobile

बिहार में रेल आईजी के काफिले में शामिल गाड़ी ने साइकिल सवार किशोर को रौंदा

अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकराई बोलेरो, आरपीएफ के 3 जवान भी हुए जख्मी

- Sponsored -

305

- sponsored -

- Sponsored -

दरभंगा से पूर्णिया जा रहे थे रेल आईजी एस. मयंक, फारबिसगंज में हादसा

घायल किशोर की हालत गंभीर, शरीर की कई हड्डियां फ्रैक्चर होने की बात आई सामने

अररिया (voice4bihar news)। बिहार के दरभंगा से पूर्णिया की ओर जा रहे आरपीएफ की आईजी के साथ चल रही एक स्कॉर्ट गाड़ी ने एक साइकिल सवार को कुचल डाला और उसके बाद खुद भी डिवाइडर से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गयी। इस हादसे में साइकिल सवार गम्भीर रूप से घायल हो गया, वहीं पुलिस की स्कॉर्ट गाड़ी में सवार चालक सहित कुल चार लोग घायल हो गये। सभी घायलों को इलाज के लिए पहले फारबिसगंज अनुमंडलीय अस्पताल ले जाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद बड़े अस्पताल में रेफर कर दिया गया।

बुधवार (19 जनवरी 22) को यह घटना अररिया जिले के फारबिसगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत सिरसिया ओवरब्रिज के पास घटित हुई है। घटना के संदर्भ में ग्रामीणों ने बताया कि आरपीएफ के आईजी एस. मयंक के साथ गाड़ियों का काफिला 4 लेन सड़क पर तेज गति से दरभंगा से पूर्णिया की ओर जा रहा था। आईजी के आगे-पीछे पुलिस की कई गाड़ियों का काफिला था, जिनमें से एक गाड़ी हादसे का शिकार हो गई।

खेत पटवन के लिए डीजल लेकर आ रहा था किशोर

विज्ञापन

बताया जाता है कि काफिले में शामिल बोलेरो गाड़ी ने फारबिसगंज के सिरसिया ओवरब्रिज के पास खेत में पटवन के लिए पेट्रोल पंप से डीजल लेकर गुजर रहे साइकिल सवार को धक्का मार दिया। इससे साइकिल सवार बुरी तरह जख्मी हो गया। वहीं टक्कर के बाद आरपीएफ वाली बोलेरो गाड़ी भी अनियंत्रित हो गई और आगे जाकर सड़क के डिवाइडर से टकरा गई। जिसमें चालक समेत गाड़ी पर सवार दो अन्य आरपीएफ के पुलिस अधिकारी घायल हो गये।

रेल आईजी एस मयंक के काफिले में शामिल इसी बोलेरो से हुई दुर्घटना।
रेल आईजी एस मयंक के काफिले में शामिल इसी बोलेरो से हुई दुर्घटना।

ग्रामीणों की मदद से सभी घायलों को भेजा गया अस्पताल

दुर्घटना के बाद सभी घायलों को ग्रामीणों की मदद से इलाज के लिए फारबिसगंज अनुमंडलीय अस्पताल लाया गया, जहां प्राथमिक इलाज के बाद बेहतर चिकित्सीय सुविधा के लिए अन्यत्र रेफर कर दिया गया। दुर्घटना में घायल साइकिल सवार की पहचान पोठिया वार्ड संख्या- 15 के रहने वाले मो.कलाम के पुत्र मो.जाकिर (15 वर्ष) के रूप में हुई। वह बुरी तरह जख्मी हो गया है। उसके शरीर की कई हड्डियां टूट गयी है।

आरपीएफ ने दिखाई असंवेदनशीलता, घायल किशोर की नहीं ली सुधि

दूसरी ओर दुर्घटनाग्रस्त बोलेरो में सवार मुकुंद माधव, बृजेश कुमार और रणजीत रंजन सहाय भी जख्मी हो गये। घटना के बाद जहां घायल तीनों आरपीएफ के जवांनों और अधिकारियों को उनके साथी फारबिसगंज अनुमंडल अस्पताल पहुंचकर इलाज के लिए दरभंगा लेकर चले गये। वहीं साइकिल सवार मो.जाकिर को उसके हाल पर छोड़ दिया गया। आरपीएफ के जवानों की इस असंवेदनशील रवैया को लेकर ग्रामीणों में तीव्र आक्रोश है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT