Header 300×250 Mobile

पंचायत चुनाव की आहट हुई तेज, EVM की जांच के लिए रोहतास पहुंची इंजीनियरिंग टीम

M2 मॉडल की EVM से पंचायत चुनाव होने की संभावना

- Sponsored -

686

- sponsored -

- Sponsored -

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की फर्स्ट लेबल जांच शुरू

अभिषेक कुमार के साथ बजरंगी कुमार सुमन की रिपोर्ट

सासाराम (voice4bihar news)। अब तक उम्मीदों व कयासबाजी के बीच सुनाई दे रही पंचायत चुनाव की आहट आज धरातल पर भी दिखाई दी। इलेक्ट्रॉनिक्स कारपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड की तकनीकी इंजीनियरिंग टीम रोहतास पहुंच चुकी है। इस टीम के आने के साथ ही इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन फर्स्ट लेवल चेकिंग प्रक्रिया शुरू हो गई है। माना जा रहा है कि राज्य में जल्द ही पंचायत चुनाव कराए जाएंगे।

दूसरी ओर, जिले में पंचायत चुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हो चुकी है। ग्रामीण इलाकों सहित कस्बों में संभावित उम्मीदवारों ने अपना दौरा तेज कर दिया है। इसके साथ ही प्रशासनिक महकमे में भी चहलकदमी बढ़ी हुई है। संभावित प्रत्याशियों के साथ साथ जिला प्रशासन अपनी तैयारियों में जुटा हुआ है। इसी कड़ी में जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी सत्यप्रिय कुमार ने पंचायत चुनाव को लेकर हो रही तैयारियों पर चर्चा के दौरान बताया कि M2 मॉडल की ईवीएम से पंचायत चुनाव होने की संभावना है। जिसमें 1 जिले से दूसरे जिले में ईवीएम का ट्रांसफर प्रक्रिया शुरू है।

दूसरे जिले से मंगाई व भेजी जाएगी EVM

विज्ञापन

रोहतास जिले में अरवल से ईवीएम मंगाई जाएगी। हालांकि रोहतास में चुनाव कराने के लिए पर्याप्त ईवीएम उपलब्ध है। कुछ ईवीएम सहरसा बक्सर और नालंदा भेजने की प्रक्रिया जारी है। इलेक्ट्रॉनिक्स कारपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड की तकनीकी इंजीनियरिंग टीम रोहतास पहुंच चुकी है। जिसके द्वारा इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की फर्स्ट लेवल चेकिंग प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है।

यह प्रक्रिया आगामी 20 अगस्त तक हर हाल में पूर्ण कर लेनी है। सरपंच और पंच का चुनाव बैलेट पेपर से होगा जबकि मुखिया, पंचायत समिति सदस्य,जिला परिषद और वार्ड सदस्य का चुनाव M2 इवीएम से होगा।

रोहतास में 3194 बूथों पर होगा चुनाव

आंकड़े पर गौर करें तो जिले में 3109 पोलिंग बूथ और 85 सहायक बूथों पर वोटिंग कराई जाएगी। चूंकि जिले की 16 पंचायत पूर्णतः और 3 आंशिक तौर पर नगर निकाय में समाहित हो चुकी हैं, ऐसे में आगामी पंचायत चुनाव के मतदान केंद्रों एवं मतदाता सूची में कुछ परिवर्तन देखने को मिलेगा। उप निर्वाचन पदाधिकारी सक्रिय कुमार के मुताबिक मतदाताओं के नाम जोड़ने और हटाने की प्रक्रिया जारी है। प्राथमिक स्तर पर यह प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है। प्रशासनिक स्तर पर अंतिम रूप देने की कार्रवाई चल रही है।

3 अगस्त को सभी प्रखंड विकास पदाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मतदाता सूची पर समीक्षा होगी, जिसमें मतदान केंद्रों की मूलभूत व्यवस्था पर भी चर्चा की संभावना है। कुल 3109 मतदान केंद्र के साथ 85 सहायक मतदान केंद्र बनाए जाने की संभावना है जहां पंचायत चुनाव संपन्न कराया जाएगा। जिन पोलिंग बूथों पर वोटर की संख्या अधिक होगी, वहां सहायक बूथ बनाये जाएंगे।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT