Header 300×250 Mobile

कोरोना का चेन तोड़ने के लिए बिहार में फिर हो सकता है लॉकडाउन

आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में आज लगेंगी सख्त पाबंदियां

- Sponsored -

296

- sponsored -

- Sponsored -

लॉकडाउन के लिए सरकार पर पड़ रहा चौतरफा दबाव, हाईकोर्ट ने की तल्ख टिप्पणी

पटना (voice4bihar news)। बिहार में कोरोना मरीजों की तादाद 5 लाख से अधिक होने के बाद हर तरफ बेचैनी बढ़ती जा रही है। इसे देखते हुए पटना हाईकोर्ट के सख्त रवैये के बाद राज्य में लॉकडाउन की आशंका प्रबल हो गयी है। राज्य के सबसे बड़े 4 मेडिकल कॉलेजों के प्रमुखों ने पहले ही लॉकडाउन की मांग सरकार से कर कर दी है। इसके अलावा इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने भी कोरोना का चेन तोड़ने के लिए पुरजोर तरीके से लॉकडाउन की मांग की थी। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि आज होने वाली आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में सख्त पाबंदी या लॉकडाउन जैसे कड़े फैसले लिये जा सकते हैं।

हाईकोर्ट ने कहा-सरकार लॉकडाउन लगाए, वरना हम निर्णय लेंगे

राज्य में कोरोना से बेकाबू होते हालात व नाकाफी साबित हो रही स्वास्थ्य व्यवस्था से नाराज पटना हाईकोर्ट ने सोमवार को तल्ख टिप्पणी की। अदालत ने कहा कि कोरोना के नियंत्रण में “पूरा सिस्टम कोलेप्स्ड” है। एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति चक्रधारी शरण सिंह व न्यायमूर्ति मोहित कुमार शाह की खंडपीठ ने सरकार से पूछा कि आप लॉकडाउन लगाएंगे या नहीं, इस पर मंगलवार को हमें जानकारी दें। अदालत की नाराजगी इस बात को लेकर थी कि कोरोना का इलाज कर रहे अस्पतालों में निर्बाध रूप से ऑक्सीजन सप्लाई की अभी ठोस व्यवस्था नहीं हो सकी है।

चौतरफा दबाव के कारण एक्शन में राज्य सरकार

विज्ञापन

सोमवार को अदालत की टिप्पणी के बाद राज्य सरकार एक्शन मोड में दिखी। मुख्यमंत्री ने राजधानी पटना में हेल्थकेयर सिस्टम का जायजा लेते हुए अफसरों को सख्त निर्देश दिये। इसके साथ ही यह भी तय किया गया कि मंगलवार को आपदा प्रबंधन समूह की बैठक होगी, जिसमें राज्य के ताजा हालात की समीक्षा करते हुए ठोस निर्णय लिये जाएंगे। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि पहले से ही नाईट कर्फ्यू लगा चुका आपदा प्रबंधन समूह आज लॉकडाउन जैसे फैसले पर मुहर लगा सकता है।

अब लॉकडाउन ही एकमात्र विकल्प!

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में आपदा प्रबंधन समूह की तीन अहम बैठकों के बाद फिलहाल इवनिंग कर्फ्यू के सहारे कोरोना का चेन तोड़ने की कोशिश हो रही है, लेकिन सख्त पाबंदियों के बावजूद कोरोना संक्रमण बेकाबू होता जा रहा है। अब तक राज्य में 5 लाख से अधिक कोरोना मरीज सामने आ चुके हैं। बीते 29 अप्रैल को आपदा प्रबंधन समूह ने नाइट कर्फ्यू से आगे बढ़कर इवनिंग कर्फ्यू लगाया।

दुकानें शाम 4:00 बजे ही बंद हो जा रही हैं, जबकि शाम 6:00 बजे से इवनिंग कर्फ्यू लागू हो रहा है। शिक्षण संस्थान बंद चल रहे हैं और दफ्तरों में उपस्थिति काफी कम हो रही है। इन तमाम प्रतिबंधों के बावजूद संक्रमण की रफ्तार थमती नजर नहीं हा रही। ऐसे में अगला कदम संपूर्ण लॉकडाउन हो सकता है।

यह भी देखें : बिहार में अब इवनिंग कर्फ्यू, शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक रहना होगा घर में कैद

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT