Header 300×250 Mobile

मनीषा ने ही निवर्तमान मेयर को फोन पर बुलाया, बाहर घात लगाए अपराधियों ने शिवा पर बरसाई गोली

केस में नामजद अभियुक्त है मनीषा श्रीवास्तव, अपनी मां के साथ हो चुकी है गिरफ्तार

- Sponsored -

965

- Sponsored -

- sponsored -

मेयर हत्याकांड का खुलासा, पंचायती के दौरान सुनाए गए फैसले से नाराज एक पक्ष ने की शिवा की हत्या

हत्याकांड में पांच प्राथमिक नामजद और चार अप्राथमिकी अभियुक्तों को पुलिस ने दबोचा : एसपी

कटिहार (voice4bihar news) । नगर निगम के निवर्तमान मेयर शिवराज पासवान उर्फ शिवा की हत्या की गुत्थी कटिहार पुलिस ने सुलझा ली है। इस हत्याकांड में अब तक कई एंगल पर घूमती शक की सूई आखिरकार पंचायती विवाद पर टिक गयी है। दो परिवारों के बीच पंचायती के दौरान निवर्तमान मेयर का निर्णय एक पक्ष को नागवार गुजरा और घात लगाकर हत्या कर दी। चौंकाने वाला तथ्य यह है कि जिस महिला ने फोन कर शिवा पासवान को बाहर बुलाया था, वह मनीषा श्रीवास्तव ही थी।

कटिहार के पुलिस अधीक्षक विकास कुमार ने हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने का दावा किया है। पत्रकार वार्ता में एसपी ने बताया कि इस मामले में नामजद अभियुक्तों में से पांच को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, जबकि ग्रामीणों के सहयोग से चार अप्राथमिकी अभियुक्त भी दबोचे गए हैं। गिरफ्तार अप्राथमिकी अभियुक्त ने इस घटना में अपनी संलिप्तता भी स्वीकार कर ली है। पुलिस की मानें तो सामाजिक पंचायती में बुलाए गए शिवा का निर्णय एक पक्ष को नागवार गुजरा, इसीलिए सुनियोजित तरीके से इस घटना को अंजाम दिया गया।

सुनियोजित साजिश के तहत हुई निवर्तमान मेयर की हत्या

एसपी ने बताया कि बृहस्पतिवार की रात निवर्तमान मेयर शिवराज पासवान उर्फ शिवा की हत्या सुनियोजित तरीके से की गई थी। हत्याकांड की जांच में प्रथम दृष्टया यह बात प्रकाश में आई है कि मनीषा श्रीवास्तव ने ही शिवा को फोन कर बुलाया था। मनीषा इस कांड की नामजद अभियुक्त है और अपनी मां कुमकुम देवी के साथ फिलहाल पुलिस की गिरफ्त में है। पुलिस की मानें तो यह फोन कॉल सुनियोजित साजिश का हिस्सा था। शिवा के बाहर निकलते ही वहां घात लगाए बैठे अपराधियों ने फायरिंग शुरू कर दी। इसमें शिवा पासवान को तीन गोली लगी और इलाज के दौरान मौत हो गयी।

यह भी देखें : कटिहार के निवर्तमान मेयर की हत्या में विधायक का भतीजा भी नामजद

विज्ञापन

घटनास्थल से पुलिस का मिले पर्याप्त सबूत

एसपी ने बताया कि वारदात की रात ही घटनास्थल का निरीक्षण किया गया था। इस दौरान एक देसी पिस्टल का मैगजीन , चार जिंदा कारतूस , दो खोखा , एक देसी पिस्टल समेत कई सामान जब्त हुए। इसके अलावा चार मोटरसाइकिल और सीसीटीवी फुटेज में दिख रहे एक अपराधी का टी – शर्ट व पैट बरामद हुआ है। घटना के दिन ही कृष्णा श्रीवास्तव की बेटी मनीषा श्रीवास्तव व पत्नी कुमकुम देवी के अलावा पिंटू पासवान व लक्ष्मण पासवान के पुत्र शुभम कुमार को दबाचा गया था। साथ ही साकेत शुभम उर्फ तारे पासवान को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किया गया।

ग्रामीणों ने भी चार अभियुक्तों को पकड़कर पुलिस के हवाले किया

हत्याकांड की जांच में जुटी पुलिस ने जहां पांच अभुिक्तों को दबोचा, वहीं ग्रामीणों ने भी चार बदमाशों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया । एसपी ने बताया कि ग्रामीणों के सहयोग से करण कुमार पिता श्याम सुंदर सिंह , बंटी कुमार पासवान पिता दीपक पासवान, कुणाल कुमार पासवान पिता प्रदीप पासवान, करण कुमार बासफोर पिता शिव शंकर बासफोर को पकड़ा गया है। ये सभी अप्राथमिकी अभियुक्त हैं लेकिन वारदात में अपनी संलिप्तता स्वीकार करते हुए कई अहम जानकारियां दी है।

हत्या के बाद ट्रेन में चढ़कर भागे बदमाश, रेलवे ट्रैक पर छोड़ा हथियार

अभियुक्तों की पिस्टल व कट्टा रेलवे ट्रैक पर मिलने के पीछे पुलिस का अनुमान है कि कई अपराधी दूसरे प्रदेश में भाग चुके हैं। पुलिस अनुसंधान में यह भी पाया गया कि घटना को अंजाम देने के बाद कुछ अभियुक्त कटिहार से मालदा की ओर जाने वाली पैसेंजर ट्रेन में चढ़कर भाग गये। इस दौरान अपराधियों की पिस्टल रेलवे ट्रैक पर गिर गयी। इन हथियार को वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए सुरक्षित रख लिया गया है। हालांकि यह भी आशंका है कि पुलिस को भरमाने के लिए रेलवे ट्रैक पर पिस्टल रखी गयी होगी, ताकि पुलिस उनकी खोज के लिए कटिहार से बाहर का रूख करे।

संबंधित खबर : कटिहार के निवर्तमान मेयर शिवराज पासवान को गोलियों से भून डाला

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT