Header 300×250 Mobile

जुआ खेलने में हुई हार तो भरपायी के लिए लूट ली आभूषण की दुकान

आरा में सोना लूटकांड में शामिल लुटेरों ने बताई वजह तो हैरान रह गयी पुलिस

- Sponsored -

353

- Sponsored -

- sponsored -

48 घंटे के भीतर सोना लूटकांड का खुलासा, तीन लुटेरों समेत चार गिरफ्तार

आरा (voice4bihar news)। भोजपुर जिला मुख्यालय आरा में दो दिन पहले हुए सोना लूटकांड में पुलिस ने तीन लुटेरों समेत चार बदमाशों की गिरफ्तारी तो कर ली है, लेकिन लूट के पीछे इनकी की मंशा जानने के बाद पुलिस भी हैरान रह गयी। लुटेरों का कहना है कि जुए में हुई हार की भरपायी के लिए इस कांड को अंजाम दिया। लूटकांड में शामिल सभी शातिर पहले जुआ खेलते थे। पिछले दिनो जुआ में काफी पैसा हार गये थे और उन पर काफी कर्ज हो गया था। इससे उबरने के लिए इन्होंने लूट की तरकीब खेजी और सर्किट हाउस के पास ज्वेलर्स की दुकान लूट ली।

आरा शहर अंतर्गत नवादा थाना के सर्किट हाउस के पास ज्वेलरी दुकान से सोना लूट की बड़ी वारदात को लुटेरों ने अंजाम दिया था। पूरी तरह ब्लाइंड केस में पुलिस ने भी कमाल की तेजी दिखाते हुए महज 48 घंटे में लूटकांड का खुलासा करते हुये तीन लुटेरों सहित चार को गिरफ्तार कर लिया। इतना ही नहीं लूटा गया सारा सोना भी बरामद कर लिया गया है। लूट में इस्तेमाल एक पिस्टल, दो मोबाना, दो गोली और डेढ़ लाख कैश भी बरामद किये गए।

355 ग्राम सोना, डेढ़ लाख नगद, पिस्टल व मोबाइल बरामद

गिरफ्तार बदमाशों में एक लूट का सोना खरीदने वाला ज्वेलरी दुकानदार भी शामिल है। उसके पास से गलाया गया 355 ग्राम सोना बरामद किया गया है। जबकि कैश, हथियार और मोबाइल लुटेरों के पास से मिले हैं। लुटेरों में टाउन थाना के एमपी बाग निवासी सूरज कुमार उर्फ टाइगर, नदन कुमार उर्फ सूरज गुप्ता, छोटू कुमार और भछुआ टोली का रहने वाला ज्वेलरी दुकानदार सचिन देशमुख है। सभी को शहर के ही अलग – अलग इलाकों से गिरफ्तार किया गया।

एसपी ने कहा : ब्लाइंड केस में मिली सफलता, पुरस्कृत होंगे अधिकारी व जवान

विज्ञापन

एसपी राकेश कुमार दुबे ने बताया कि सदर एसडीपीओ पंकज कुमार रावत के नेतृत्व में स्पेशल टीम बना कर इस मामले से पर्दा हटाया गया। लूट में शामिल दो अन्य बदमाशों की पहचान भी कर ली गयी है जिन्हें जल्द ही पकड़ लिया जायेगा। एसपी ने इस कांड का उद्भेदन करने वाले पुलिसकर्मियों को पुरस्कृत करने का वादा भी किया है। बताया जाता है कि इस लूटकांड में कोई भी सुराग नहीं मिलने के कारण ब्लाइंड केस माना जा रहा था। क्योंकि ज्वेलरी दुकान का सीसीटीवी खराब होने के कारण लुटेरों की पहचान मुश्किल हो रही थी।

यह भी पढ़ें : आभूषण व्यवसायी व ग्राहकों को बंधक बनाकर 6.5 लाख की ज्वेलरी लूटी

अंधेरे में तीर मारती रही पुलिस, कई जगह सीसीटीवी फुटेज खंगाले

घटनास्थल के आसपास सुराग नहीं मिलने के कारण पुलिस ने शहर में कई जगहों पर लगी सीसीटीवी के फुटेज को खंगाला। इस क्रम में बाइक से भाग रहे लुटेरों की पहचान को गयी। लूटपाट में गिरफ्तार सूरज कुमार उर्फ टाइगर अपने गिरोह का मुख्य सरगना है। पुलिस से बचने के लिये वह दिल्ली भागने की फिराक में था। बुधवार की रात वह रेलवे स्टेशन भी पहुंच गया था तभी पुलिस को भनक लग गयी और उसे दबोच लिया गया।

लुटेरा गिरोह के टारगेट पर थीं शहर के कुछ अन्य बड़ी दुकानें

सर्किट हाउस के पास लक्ष्मी ज्वेलरी में दिनदहाडे लूटपाट में पुलिस के हत्थे चढ़ा गैंग अपराध की दुनिया में अभी नया है। गिरोह के सदस्यों का अब तक कोई अपराधिक इतिहास सामने नहीं आया है। पुलिस के अनुसार पाचों बदमाशों ने मिलकर नया गैंग बनाया। इसमें एमपी बाग के सूरज कुमार उर्फ टाइगर , नंदन कुमार उर्फ सूरज और छोटू कुमार के अलावे इमरान सहित एक अन्य बदमाश शामिल हैं। सूरज कुमार उर्फ टाइगर ही गैंग का सरगना बताया जा रहा है। इस गिरोह के टारगेट पर शहर के दो-तीन अन्य ज्वेलरी शॉप थे, लेकिन पहले ही अपराध में सभी जेल चले गए।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored