Header 300×250 Mobile

कुख्यात माधव दुबे समेत दो की पीट-पीटकर हत्या

जरायम की दुनिया में पिछले दो दशक से सक्रिय था माधव

- Sponsored -

2,535

- Sponsored -

- sponsored -

  • उसी के मुहल्ले में हुई झड़प, गोली लगने से घायल गोपाल दुबे की अस्पताल में मौत
  • गोपाल की मौत से आक्रोशित लोगों ने माधव दुबे को पीट-पीटकर मार डाला

बजरंगी कुमार सुमन की रिपोर्ट

सासाराम (Voice4bihar desk). सासाराम नगर थाना क्षेत्र के कुख्यात अपराधियों की लिस्ट में शामिल माधव दुबे की हत्या उसके अपने पैतृक मोहल्ले में शुक्रवार की देर शाम हो गई। वहीं इस झड़प में गोली लगने से एक अन्य शख्स गोपाल दुबे भी गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे नारायण मेडिकल कॉलेज अस्पताल जमुहार ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे भी मृत घोषित कर दिया।

घटना के पीछे पुलिस को प्रथम दृष्टया जमीन विवाद की जानकारी मिली है। जिसकी पुष्टि पुलिस कप्तान आशीष भारती ने की है लेकिन पुलिस अन्य बिंदुओं पर भी तफ्तीश में जुटी हुई है। मौका ए वारदात पर डेड बॉडी देखने से माधव दुबे की हत्या पीट-पीटकर की गई प्रतीत हो रही है। नगर थाना की पुलिस ने डेड बॉडी को अपने कब्जे में ले लिया है। देर रात को दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल सासाराम लाया गया।

विज्ञापन

यह भी पढ़ें :पराध की दुनिया का बादशाह बनाने में धनपशुओं की रही अहम भागीदारी

उधर, सूत्रों ने बताया कि गोपाल दुबे की हत्या हुई है। आरोप है कि माधव दुबे ने गोपाल दुबे पर गोली चलाई। घायल गोपाल दुबे को इलाज के लिए नारायण मेडिकल कॉलेज जमुहार में भर्ती कराया गया जहां चिकित्सकों ने गोपाल दुबे को मृत घोषित कर दिया। गोपाल दुबे को गोली लगने के बाद आक्रोशित लोगों ने माधव दुबे को पीट-पीटकर मार डाला। इस विन्दू पर पुलिस जांच में जुटी है। घटना के बाद देर शाम को वॉइस फॉर बिहार की टीम सदर अस्पताल में पहुँची, जहां दोनों शवों के पोस्टमार्टम की प्रक्रिया चल रही थी। बहरहाल हत्या के बाद पूरे शहर में आग की तरह माधव दुबे के मारे जाने की खबर फैल चुकी है।

यह भी पढ़ें :  दुस्साहसी प्रवृत्ति का था गैंगस्टर माधव दुबे, अपनों से बैर पड़ी भारी

यहां उल्लेखनीय है कि माधव दुबे की मौत के पहले इलाके में गोलियों की तड़तड़ाहट पूरे मोहल्ले वासियों ने सुनी है।  माधव दुबे जरायम की दुनिया में पिछले दो दशक से सक्रिय बताया जा रहा है। सबसे ज्यादा चर्चित दरिगांव थाना क्षेत्र के नौगाई निवासी उदय सिंह उर्फ डॉक्टर की हत्या के बाद हुआ था। बाद के दिनों में माधव ने रोहतास के साथ-साथ आसपास के कई बड़े गैंगस्टर के संपर्क में रहते हुए हिस्ट्रीशीटर बन चुका था। लश्करी गंज के धर्मेंद्र कुशवाहा और नौगाई के उदय कुशवाहा की हत्या के बाद  कुछ सियासी ताकतों ने समर्थन देकर इसे बड़ा अपराधी बनाया।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored