Header 300×250 Mobile

शराब के कारोबार से शुरू हुई थी दो माफियाओं की दोस्ती, शबाब के चक्कर में हुआ खूनी खेल

मुजफ्फरपुर में शराब कारोबार और अवैध संबंध के कारण ही हुआ केमिकल ब्लास्ट

- Sponsored -

1,792

- sponsored -

- Sponsored -

हत्या कर लाश को केमिकल में डालकर गलाने की रहस्यमयी कहानी का हुआ पटाक्षेप

शराब माफिया ने अपने पार्टनर की पत्नी से बनाये अवैध रिश्ते, बीच में आया तो कर दी हत्या

मुजफ्फरपुर (voice4bihar news)। शहर के बालूघाट मुहल्ले में एक फ्लैट में हत्या के बाद लाश को केमिकल से गलाने की रहस्यमयी कहानी का पुलिस ने पटाक्षेप कर दिया है। शनिवार की रात तीन मंजिले मकान के फ्लैट में हुए भीषण विस्फोट, अगलगी और केमिकल में भरे ड्रम में मिले अधजले शव की गुत्थी सुलझ गयी है। पुलिस के अनुसार शराब के कारोबार और अवैध संबंध के चक्कर में खूनी प्रतिशोध के कारण ही यह विस्फोट हुआ था। यानि शराब के कारोबार से शुरू हुई दो माफियाओं की दोस्ती आखिरकार शबाब के चक्कर में हत्या तक पहुंच गयी। फिर जो कहानी सामने आई, उसने हर किसी को हैरान कर दिया।

अब तक की पुलिस जांच के दौरान जो तथ्य सामने आये हैं, वे चौंकाने वाले हैं। दरअसल एक शराब माफिया का अपने बिजनेस पार्टनर की पत्नी के साथ अवैध संबंध और पकड़े जाने पर खूनी इंतकाम ही इस विस्फोट का कारण है। इसमें एक शख्स की हत्या कर लाश को वहीं पर डिस्पोज करने की साजिश रची गयी थी। हालांकि केमिकल विस्फोट से फ्लैट में आग लगने के बाद खूनी वारदात की पोल खुली।

दो शराब माफियाओं के बीच बिजनेस पार्टनरशिप के साथ शुरू हुई कहानी

बताया गया है कि बालूघाट इलाके में सुभाष कुमार और राकेश कुमार नाम के दो शराब माफिया की जोड़ी पुलिस के लिए सिरदर्द बनी हुई थी। पुलिस की लाख कोशिशों के बाद भी इनका कारोबार रुकने का नाम नहीं ले रहा था। पिछले दिनों उसके एक ठिकाने से शराब पकड़े जाने के बाद से राकेश अपने फ्लैट में नहीं आता था। घर में उसकी बीवी राधा अकेली थी। इस दौरान राकेश का पार्टनर वहां सुभाष आया जाया करता था।

साथी का कारोबार संभालने के साथ उसकी पत्नी को भी प्रेम जाल में फांसा

राकेश की गैरमौजूदगी में उसकी पत्नी राधा से मिलने का दौर सुभाष ने लगातार जारी रखा। इसी दौरान सुभाष और राकेश की पत्नी राधा के बीच प्रेम के अंकुर फूट पड़े। दोनों इतने करीब आ गये कि उन्हें अपने बीच राकेश अब खटकने लगा था। इधर सुभाष की पत्नी भी इस रिश्ते के बीच रोड़ा बनकर खड़ी थी, हालांकि उसे इसकी भनक अब तक नहीं थी। सुभाष को इस बात का इल्म था कि जिस दिन उसकी पत्नी व परिवार के लोग इस रिश्ते की सच्चाई जानेंगे, बखेड़ा होना तय है।

यह भी देखें : केमिकल में डालकर गला रहे थे लाश , फ्लैट में रासायनिक विस्फोट से बिल्डिंग में लगी भीषण आग

सुभाष ने अय्याशी के लिए ही किराये पर लिया था फ्लैट

विज्ञापन

बवाल से बचने के लिए सुभाष ने अपनी अय्याशी के लिए नया ठिकाना तलाश लिया। परिवार वालों की जानकारी से बचाने के लिए ही उसने सुनील कुमार शर्मा के आलीशान भवन में एक फ्लैट किराए पर ले लिया। वहां राकेश की पत्नी राधा के साथ अय्याशी करने लगा। किराया पर मकान लेते वक्त सुभाष ने बताया था कि उसके घर में पानी भर गया है, इसलिए यह फ्लैट किराए पर लिया है। हालांकि यह भी सच्चाई है कि इस फ्लैट पर सुभाष की बीवी या बच्चे कभी नहीं आये। शायद उन्हें इसके बारे में जानकारी भी नहीं थी।

केमिकल में शराब माफिया की लाश गलाने की घटना के बाद बिल्डिंग के बाहर जुटे स्थानीय लोग।
केमिकल में शराब माफिया की लाश गलाने की घटना के बाद बिल्डिंग के बाहर जुटे स्थानीय लोग।

चोरी छुपे अपने घर पहुंचा राकेश तो गायब थी पत्नी

बताया गया है कि कुछ दिन पहले राकेश किसी तरह पुलिस की नजरों से बचते हुए अपने घर पहुंचा, जहां उसकी पत्नी गायब थी। काफी खोजबीन के बाद वह अपने शराब माफिया पार्टनर सुभाष के नए ठिकाने पर जा पहुंचा। वहां उसकी पत्नी राधा भी सुभाष के साथ मौजूद थी। इस बात पर दोनों में विवाद हो गया। इसी बीच सुभाष ने हथौड़ी से राकेश के सिर पर वार कर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद उसके शव को ठिकाने लगाने के लिए कुछ केमिकल मिलाकर उसे ड्रम में बंद कर दिया और दोनों वहां से भाग निकले।

केमिकल में रासायनिक क्रिया से हुआ विस्फोट

कहते हैं- पाप ज्यादा देर तक छुपता नहीं। सुभाष और राधा ने अपनी समझ से फुलप्रूफ प्लान बनाया था। हत्या के 4 दिनों बाद तक किसी को इसकी भनक भी नहीं लगी थी। इस बीच दोनों अपना पूरा सामान कहीं और शिफ्ट कर चुके थे। लेकिन आखिरकार केमिकल में कुछ रासायनिक क्रिया हुई और विस्फोट हो गया। इस घटना ने दोनों के किये कराये पर पानी फेर दिया। इसके बाद जो कहानी सामने आई, उससे पूरा शहर दहल उठा।

हथौड़ी से मारकर हत्या की, चाकू से लाश को कई टुकड़ों में काटा

बताया जाता है कि सुभाष ने हथौड़ी से जोरदार प्रहार कर राकेश की जान लेने के बाद चाकू से लाश के टुकड़े-टुकड़े कर दिये। इस वारदात में प्रयुक्त हथौड़ी व चाकू को फॉरेंसिक (एफएसएल) टीम ने घटनास्थल से बरामद कर लिया है। वरीय पुलिस अधीक्षक जयंतकांत ने बताया कि शव तीन चार दिन पुराना लग रहा है। वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि घटना चार-पांच दिन पहले की है। उसी समय से मुहल्ले में सुभाष और राधा नहीं दिख रहे थे।

नमक और केमिकल के मिलने से ड्रम में तैयार हो गयी ज्वलनशील गैस

एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि नमक और केमिकल साथ मिलने से ड्रम में ज्वलनशील गैस तैयार हो गई और उसकी वजह से ब्लास्ट हो गया। शनिवार रात हुई इस घटना की जांच रविवार को दिन भर चलती रही। एफएसएल की टीम के साथ एसएसपी जयंत कांत खुद मौके पर मौजूद रहे और उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश देते रहे। आखिरकार रविवार की देर शाम पुलिस औऱ एफएसएल की जांच टीम ने फ्लैट में हुए विस्फोट व कोल्ड ब्लडेड मर्डर की रहस्यमयी कहानी का पटाक्षेप कर दिया। फिलहाल इस मामले के दोनों शातिर सुभाष औऱ राधा की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

संबंधित खबर : शराब का धंधा और अनैतिक संबंध के बीच घूम रही पुलिस की जांच

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored