Header 300×250 Mobile

रिटायर्ड एयरफोर्स कर्मी के शव को घसीटते हुए ले गए श्मशान

कटिहार में कोरोना से मौत के बाद शव के साथ अमानवीय सलूक

- Sponsored -

621

- sponsored -

- Sponsored -

दाह-संस्कार में स्वास्थ्यकर्मियों ने की आनाकानी, आधे रास्ते में लाश छोड़कर भागे

कटिहार (voice4bihar news)।  सेना के जिन जवानों को शहादत के बाद रायफल की सलामी के साथ अंतिम विदाई दी जाती है, उनके शव को अगर घसीटते हुए श्मशान ले जाना पड़े तो यह स्थिति अचंभित करता है। रिटायर्ड एयरफोर्स कर्मी की मौत के बाद शव ऐसी दुर्गति कटिहार जिले के सदर अस्पताल कर्मियों की मनमानी के कारण हुई। कोरोना से मौत के बाद शवों के साथ अमानवीय व्यवहार के दृश्य भी सामने आने लगे हैं। कहीं परिवार को लोग शव को लेने से इनकार कर रहे हैं तो कहीं स्वास्थ्यकर्मी अपना कर्तव्य निभाने से कतरा रहे हैं।

सोमवार को कटिहार सदर अस्पताल में एयरफोर्स से रिटायर कर्मी अमित कुमार सिन्हा ( 42 ) की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। मौत के बाद शव को अंतिम संस्कार का जिम्मा स्वास्थ्य विभाग का था, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के वरीय अधिकारियों के आदेश के बावजूद स्वास्थ्य कर्मी उनके शव को ले जाने में आनाकानी करने लगे। बाद में परिजनों ने इसकी शिकायत सीएमओ डॉ . बी एन मिश्रा से की तो उन्होंने स्वास्थ्य कर्मियों को आदेश दिया कि शव का दाह संस्कार करवाएं।

एम्बुलेंसकर्मी की मदद से शव को घसीटते हुए ले गए परिजन, किया दाह-संस्कार

विज्ञापन

सीएमओ के आदेश के बाद स्वास्थ्य कर्मियों ने शव को कोरोना प्रोटोकॉल के तहत पैक कर गाड़ी में लोड कर दिया, लेकिन श्मशान जात वक्त आधे रास्ते में शव को छोड़कर स्वास्थ्य कर्मी वहां से भाग निकले। उनके भाग जाने के बाद मृतक के परिजनों ने स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा छोडे़ गए पीपीई किट की पहनकर खुद शव को घसीटते हुए दाह संस्कार स्थान पर ले गए। इस दौरान बिना पीपीई किट पहने एंबुलेंस कर्मी भी उनके साथ दे रहे थे।

मृतक के दो परिजन और एंबुलेंस कर्मी ने मिलकर किसी तरह शव को गाड़ी से उतारा और जमीन पर घसीटते हुए दाह संस्कार स्थल तक ले गए। इस अमानवीय घटना के सामने आने पर जिला पदाधिकारी उदयन मिश्रा ने कहा कि मामले की जानकारी मिली है। सिविल सर्जन से जांच करवाकर दोषी पर कार्रवाई की जाएगी।

दाह-संस्कार के एवज में मांगे जाते हैं पैसे!

कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत के बाद उनका अंतिम संस्कार स्वास्थ्य विभाग की ओर से किया जाता है। लेकिन कटिहार सदर अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीज की मौत के बाद स्वास्थ्य कर्मी मनमानी करते हैं। परिजनों से शव का अंतिम संस्कार करने के लिए पैसे की मांग की जाती है। पैसे नहीं देने पर स्वास्थ्य कर्मी शव का अंतिम संस्कार करने में आनाकानी करते हैं। इसी का नतीजा आज रिटायर्ड एयरफोर्स कर्मी के परिजनों को भुगतना पड़ा।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

ADVERTISMENT