Header 300×250 Mobile

बर्खास्त सीडीपीओ निकली करोड़ों की मालकिन, आप्त सचिव के यहां छापे में खुला राज

आप्त सचिव (OSD) मृत्युंजय कुमार की महिला मित्र के यहां मिला कैश व सोने के बिस्कुट

- Sponsored -

722

- Sponsored -

- sponsored -

खान एवं भूतत्व मंत्री जनक राम के आप्त सचिव हैं मृत्युंजय, आय से अधिक कमाया धन

बड़े भाई के आवास पर भी मिली संपत्ति, अररिया में पैतृक आवास पर नहीं मिला कुछ भी

कटिहार ( voice4bihar news )। खान एवं भूतत्व मंत्री जनक राम के आप्त सचिव (OSD) मृत्युंजय कुमार के विरुद्ध निगरानी विभाग की विशेष शाखा की कार्रवाई में कई चौंकाने वाले खुलासे सामने आये हैं। आय से अधिक संपत्ति के मामले में आर्थिक अपराध इकाई के डीएसपी चन्द्र भूषण कुमार के नेतृत्व में कटिहार में हुई छापेमारी में करोड़ों की संपत्ति का पता चला है। कटिहार शहर के सहायक थाना क्षेत्र अंतर्गत मुन्शी यादव कॉलोनी में मिरचाईबाड़ी स्थित यह ठिकाना मृत्युंजय कुमार के बड़े भाई धनंजय कुमार का आवास है। यहां छापेमारी में निगरानी विभाग को बड़ी सफलता मिली।

30 लाख रुपये कैश, 50 लाख के जेवर और सोने की ईंटें मिली

मिली जानकारी के अनुसार खान एवं भूतत्व मंत्री जनक राम के आप्त सचिव मृत्युंजय कुमार के भाई धनंजय कुमार और महिला मित्र रत्ना चटर्जी के आवास पर निगरानी विभाग, आर्थिक अपराध इकाई और स्पेशल विजिलेंस यूनिट की संयुक्त छापेमारी में करीब 30 लाख रुपए नकद और 50 लाख के जेवरात सहित भारी मात्रा में सोने के बिस्कुट बरामद हुए हैं। सोने के बिस्कुट जिस पैकेट में रखे गए थे, उस पर बकायदा एक राष्ट्रीय बैंक का लोगो लगा हुआ है।

विज्ञापन

सेवा से बर्खास्त सीडीपीओ रत्ना चटर्जी के पास मिला करोड़ों का धन

इतना ही नहीं छापेमारी के दौरान कई बेनामी संपत्तियों के कागजात भी बरामद हुए हैं। सबसे अधिक संपत्ति रत्ना चटर्जी के आवास से मिली है, जो आप्त सचिव (OSD) मृत्युंजय कुमार की महिला मित्र हैं। बताया जाता है कि रत्ना चटर्जी पूर्व में किशनगंज में सीडीपीओ के पद पर तैनात थी, जहां निगरानी की टीम 2011 में इन्हें घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। इसी मामले में उन्हें सेवा से बर्खास्त भी कर दिया गया था।

बरामद नोटों में एक हजार की पुरानी करेंसी भी

आप्त सचिव (OSD) मृत्युंजय कुमार व इनके करीबियों के ठिकाने पर हुई छापेमारी में सबसे चौंकाने वाला तथ्य यह दिखा कि बरामद नोटों में ऐसे नोट भी मिले हैं, जो अब चलन में नहीं है। एक हजार रुपये वाले पुराने नोटों की गड्डी देखकर जांच एजेंसियां भी हैरान रह गयीं। यहां बता दें कि आप्त सचिव (OSD) मृत्युंजय कुमार के पैतृक निवास अररिया शहर के रहिका बस्ती और पटना व कटिहार में एक साथ निगरानी की टीम छापेमारी की। अररिया में हुई छापेमारी में कुछ खास नहीं मिला।

संबंधित खबर : बिहार में मंत्री के ओएसडी के ठिकानों पर निगरानी विभाग का छापा

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored