Header 300×250 Mobile

गांजा तस्करी के बड़े रैकेट का पर्दाफाश, भारत-नेपाल सीमा पर छह तस्कर गिरफ्तार

सीमा पर बसे रामपुर गांव में झाड़ी में छुपाकर रखा 18 किलोग्राम गांजा बरामद

- Sponsored -

454

- sponsored -

- Sponsored -

चायनीज सेब की तस्करी के बाद अब गांजा सप्लाई का मामला सामने आया

जोगबनी (voice4bihar news)। अररिया जिले के वीरपुर में नेपाल से तस्करी कर लाये गए तीन ट्रक चायनीज सेब का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि जोगबनी सीमा से सटे नेपाल भाग में सेटिंग के आधार पर गांजा तस्करी का सनसनीखेज खुलासा सामने आ गया। नेपाल के विराटनगर के एक गांजा कारोबारी गिरोह ने भारत-सीमा से सटे रामपुर गांव के पास झाड़ी में गांजा छुपा कर रखा था। नेपाल पुलिस ने कई पैकेट में भरे 18 किलो गांजा बरामद किया गया है।

गांजा तस्करी के कारोबार में शामिल छह गिरफ्तार

रविवार को नेपाल के मोरंग स्थित पुलिस कार्यालय में पत्रकार सम्मेलन में पुलिस अफसरों ने बताया कि गांजा तस्करी में बिहार के तीन नागरिक शामिल हैं। इनमें अररिया के फारबिसगंज निवासी सोनू कुमार यादव (19), जोगबनी थाना क्षेत्र के विशनपुर निवासी जयराम यादव (28) तथा बथनाहा थाना क्षेत्र के सोनापुर निवासी रंजीत उर्फ प्रिंस विचित्र कुमार (30) शामिल हैं।

बिहार के अररिया जिले के रहने वाले हैं तीन तस्कर

विज्ञापन

दूसरी ओर गांजा के साथ पकड़े गए तीन नेपाली नागरिकों में सुनसरी जिले के देवानगन्ज के वार्ड-1 निवासी उमेश यादव (40), धनकुटा शहीदभूमि गांवपालिका-1 के निवासी रुद्र राई (32) व धरान उपमहानगरपालिका के सुम्निमा चौक के सूर्य राई (45) बताए गए हैं। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार गांजा तस्करों के पास से 7 लाख, 16 हजार 600 रुपये नेपाली करेंसी व दो हजार रुपये भारतीय करेंसी सहित 6 मोबाइल बरामद किये गए हैं। पुलिस ने जांच के क्रम में गांजा तस्करी में प्रयोग किये गए मारुती वैन व रामपुर स्थित झाड़ी में छुपा कर रखे गए 18 किलो गांजा बरामद किया गया है।

यह भी पढ़ें : चायनीज सेब की तस्करी : जवाबदेही तय करने को नेपाल में बनी जांच कमेटी, भारत में कार्रवाई शिथिल

पुलिस अनुसन्धान में सामने आए कई चौकाने वाले तथ्य

पुलिस के प्रारंभिक अनुसन्धान में यह बात भी सामने आई है कि गिरफ्तार तस्कर काफी लम्बे समय से नेपाल से भारत में गांजा की खेप पहुंचाने के काम में लगे थे। पुलिस के हिरासत में लिये गए नेपाल के रंजीत यादव व भारतीय नागरिक सोनू यादव गांजा तस्करी में मध्यस्त की भूमिका में रहते थे। अपने-अपने देश की सीमाओं में दोनों का काम बंटा था। रंजीत यादव धनकुटा के छिन्ताग से गांजा लाकर देता था, जबकि सोनू यादव भारत की तरफ सक्रिय तस्करों से समन्वय कर गांजे की सप्लाई कराता था। डीएसपी राई ने बताया कि गिरफ्तार तीनों तस्कारों की कुंडली खंगालने में पुलिस जुटी हुई है।

यह भी देखें : नेपाल के रास्ते भारत में पहुंची चायनीज सेब की बड़ी खेप, बॉर्डर पर 3 ट्रक माल जब्त

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored